ताज़ा खबर
 

लॉकडाउन में तंगी से मजबूर हुआ मजदूर: परिवार को पाल नहीं सका तो भेज दिया ससुराल, खुद दे दी जान

कोरोना के बढ़ते केसों के मद्देनजर पीएम मोदी ने भारत में 24 मार्च को लॉकडाउन का ऐलान कर दिया था, बीते चार महीनों में उद्योगों के बंद होने की वजह से लाखों की संख्या में लोग बेरोजगार हो चुके हैं।

Edited By कीर्तिवर्धन मिश्र भागलपुर | Updated: August 1, 2020 12:14 PM
(प्रतीकात्मक तस्वीर)

भारत में कोरोनावायरस महामारी के चलते करीब 4 महीने पहले लॉकडाउन का ऐलान कर दिया गया था। इसकी वजह से देशभर में फैक्ट्रियों और उद्योगों पर ताले लग गए, जिससे लाखों लोग एक झटके में बेरोजगार हो गए। आलम यह रहा कि लोगों को बिना पैसे के ही जीवन यापन के लिए मजबूर होना पड़ा। इस लॉकडाउन के दौरान अब तक कई ऐसी खबरें सामने आ चुकी हैं, जिनमें लोगों ने पैसे की कमी के चलते सुसाइड जैसा कदम उठाया है। ऐसा ही एक ताजा मामला बिहार के भागलपुर में चंपानगर से आया है। यहां एक 35 वर्षीय युवक ने बेरोजगारी और पैसे की तंगी के चलते आत्महत्या कर ली।

आत्महत्या करने वाले आदमी का नाम आनंद दास बताया गया है। चौंकाने वाली बात यह है कि कुछ दिनों पहले ही उसने अपनी पत्नी और तीन बेटियों को मायके भेज दिया था और कई दिनों से वह घर पर अकेला ही रुक रहा था। माना जा रहा है कि बेरोजगारी और पैसे के अभाव की वजह से आनंद अवसाद में घिर गए और यह कदम उठा लिया।

पुलिस के मुताबिक, आनंद ने शुक्रवार को आत्महत्या कर ली थी। उसका शव दोपहर करीब 12 बजे फांसी पर झूलता मिला। युवक ने जिस कमरे में फांसी लगाई थी, उसकी एक खिड़की खुली रह गई, जिससे आसपास के लोगों ने शव देख लिया और पुलिस के साथ आनंद की पत्नी लक्ष्मी को सूचना दे दी। पत्नी और बच्चों के आने के बाद ही उसके शव को उतारा गया और पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया।

पत्नी के मुताबिक, आनंद पावरलूम में मजदूरी करते थे। लॉकडाउन की वजह से उनका काम बंद हो गया था और वे 4 महीने से बेरोजगार थे। लक्ष्मी का कहना है कि आनंद ने ही उनसे पैसों की कमी के चलते मायके जाने के लिए कहा था। हफ्ते भर पहले ही वह अपनी तीनों बेटियों को लेकर जगदीशपुर स्थित फुलवरिया गांव चली गई थी। पुलिस का कहना है कि पत्नी के आवेदन पर वे आगे की कार्रवाई करेंगे।

Next Stories
1 बिहार में दो नाव हादसे, आठ लोगों की मौत, बाढ़ से 40 लाख लोग प्रभावित
2 लॉकडाउन तोड़ने पर केस हुआ तो पुलिस को ट्रांसफर की धमकी देने लगा हिंदू युवा वाहिनी अध्यक्ष गिरफ़्तार, धराते ही नरम पड़ गए तेवर
3 डॉक्टर ने 20 साल में कर दिए सौ खून, घड़ियालों के खाने के लिए फेंक देता था शव, क्लिनिक भी चलाता रहा
ये पढ़ा क्या?
X