नीतीश सरकार पर अपनों का वार: विधायक चपरासी से भी बदतर, मंत्रियों ने कमाए करोड़ों- बिहार सरकार पर भड़के BJP MLAs

ज्ञानू ने तो यहां तक कह दिया कि अगर मंत्रियों के घर पर छापे मारे जाए तो करोड़ों रुपये बरामद हो सकते है। उन्होंने कहा कि बीजेपी के ज्यादातर मंत्रियों ने अफसरों को बुला-बुला कर उनसे पैसों की मांग की थी।

Nitish Kumar,Bihar politics,CM Nitish Kumar,madan sahni,Gyanendra singh gyanu,Madan Sahni Resign,Bihar Transfer Posting,BJP Minister Involves in Transfer Posting,MLA Gyanendra Singh Gyanu,Madan Sahni Announced Resign, jansatta
नीतीश सरकार पर अब उन्हीं के विधायक वार करते नज़र आ रहे हैं।

बिहार में तबादलों के बाद सियासत गरमाई हुई है। नीतीश सरकार पर अब उन्हीं के विधायक वार करते नज़र आ रहे हैं। एक तरफ जहां बिहार सरकार के मंत्री और जेडीयू नेता मदन साहनी ने इस्तीफे की पेशकश की है, तो दूसरी तरफ बीजेपी के विधायक ज्ञानेंद्र सिंह ज्ञानू ने नीतीश के मंत्रियों पर ट्रांसफर पोस्टिंग के जरिए करोड़ों कमाने का आरोप लगाया है।

ज्ञानू ने तो यहां तक कह दिया कि अगर मंत्रियों के घर पर छापे मारे जाए तो करोड़ों रुपये बरामद हो सकते है। उन्होंने कहा कि बीजेपी के ज्यादातर मंत्रियों ने अफसरों को बुला-बुला कर उनसे पैसों की मांग की थी। ज्ञानू ने कहा कि इसमें ज्यादातर बीजेपी के मंत्री शामिल हैं। इसमें खुलकर पैसा लिया गया है और एक-एक अफसर को 5-5 बार फोन किया गया कि आप आइए, पैसा दीजिए तब आपका ट्रांसफर होगा। बीजेपी विधायक की ओर से अपनी ही सरकार के मंत्रियों पर इस तरह के आरोप के बाद सरकार घिरती नजर आ रही है।

ज्ञानू ने कहा है कि जदयू के ज्यादातर मंत्रियों ने नीतीश कुमार के डर से पैसा नहीं लिया है, लेकिन भाजपा के मंत्रियों ने तबादलों के लिए जमकर पैसा लिया है। ज्ञानू की मानें तो उन्हें इसकी पक्की खबर उन अफसरों से ही मिली है, जिनका पैसे लेकर ट्रांसफर किया गया है। उन्होंने कहा कि भाजपा के 80 फीसदी मंत्रियों ने घूस लिया है।

ज्ञानू ने बिना किसी का नाम लिए कहा है कि जदयू से आनेवाले एक मंत्री जो निर्माण विभाग से जुड़े हैं, उन्होंने भी जमकर ट्रांसफर के लिए पैसे लिए हैं। पैसे लेनेवाले मंत्री को उन्होंने हाइ प्रोफाइल और जदयू में दूसरे दल से आनेवाला बताया है।

बीजेपी विधायक ने कहा कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की तबीयत खराब होने की वजह से उनसे मुलाकात नहीं हो सकी है। जैसे ही वे ठीक होंगे उनसे मिलकर ये सारी बातें उन्हें बताउंगा। इसमें जेडीयू के एक-आध ही शामिल हैं पर बीजेपी के ज्यादा हैं। नीतीश कुमार के कारण जेडीयू में इन सभी चीजों पर नियंत्रण है।

वहीं बिस्फी से भाजपा विधायक हरिभूषण ठाकुर बचौल विधायकों की हैसियत को लेकर भड़के हुए हैं। कहा कि विधायकों की स्थिति चपरासी से भी बदतर हो गयी है। कोई नहीं सुनता। ब्लॉक में भ्रष्टाचार है, शिकायत पर कार्रवाई नहीं होती। अधिकारी सुनते नहीं। अपने क्षेत्र की समस्या लेकर आखिर विधायक कहां जाए? विधायक अपने क्षेत्र के जनप्रतिनिधि हैं, लोग उनके पास शिकायत लेकर आते हैं। विधायकों का दायित्व है कि वे उसका निदान करें। हम आदेश क्या देंगे, अनुरोध भी नहीं कर सकते। विधायकों का मान-सम्मान दांव पर है।

पढें राज्य समाचार (Rajya News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट