ताज़ा खबर
 

बिहार चुनाव: महगठबंधन में और टूट का खतरा, सुलझ नहीं रहा सीट बंटवारे का पचड़ा

राजद के नेतृत्व वाले महागठबंधन ने अबतक तय नहीं किया है कि किस सीट से किस पार्टी का उम्मीदवार चुनाव लड़ेगा। इसके चलते सहयोगी दलों के बीच बेचैनी पैदा हो गई है।

Author , Translated By सिद्धार्थ राय नई दिल्ली | Updated: September 12, 2020 7:59 AM
bihar elections, bihar opposition alliance, bihar grand alliance, congress rjd alliance, tejashwi yadav, upendra kushwaha, rlsp, bihar elections news, congress, kanhaiya kumar, RJD, left, CPI, CPIM, jansattaBihar election: कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी और नेता नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव। (express photo)

बिहार विधानसभा चुनाव में अब ज्यादा समय नहीं बचा है। ऐसे में सभी राजनीतिक पार्टियां अपना-अपना गठबंधन मजबूत करने में जुटी हुई हैं। लेकिन महागठबंधन में सब कुछ ठीक नहीं चल रहा है। अबतक महागठबंधन के कई नेता अपनी-अपनी पार्टियां छोड़ जेडीयू में शामिल हो गए हैं। वहीं सीटों के बटवारे को लेकर भी दिक्कत आ रही है।

कांग्रेस ने जिला-स्तरीय वर्चुअल रैलियों के साथ अपना चुनावी अभियान शुरू कर दिया है। लेकिन अबतक सीटों का बटवारा नहीं हुआ है जिसके चलते उन्हें दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। राजद के नेतृत्व वाले महागठबंधन ने अबतक तय नहीं किया है कि किस सीट से किस पार्टी का उम्मीदवार चुनाव लड़ेगा। इसके चलते सहयोगी दलों के बीच बेचैनी पैदा हो गई है। सूत्रों ने कहा कि राजद और कांग्रेस के बीच उपेंद्र कुशवाहा की अगुवाई वाली आरएलएसपी और मुकेश साहनी की अगुवाई वाली विकास-शील इंसां पार्टी (वीआईपी) जैसे छोटे दलों को समायोजित करने के लिए सहमति नहीं बन रही है।

कांग्रेस के सूत्रों के अनुसार, आरजेडी छोटी पार्टियों को ज्यादा सीट देने की इच्छुक नहीं है। आरजेडी ने कांग्रेस नेतृत्व को यह तक ​​कह है कि ये छोटे दल आरजेडी और कांग्रेस के चिन्हों पर चुनाव लड़ सकते हैं। कांग्रेस के सूत्रों ने कहा कि वे आरजेडी के दृष्टिकोण को समझते हैं कि ये दल अपने जाति के वोटों का पूर्ण हस्तांतरण सुनिश्चित नहीं कर पा रहे हैं, लेकिन उनका मानना ​​है कि इस बात का पूरा प्रयास करना होगा कि एनडीए विरोधी और सत्ता विरोधी वोटों का विभाजन ना हो।

कांग्रेस के एक नेता ने कहा कि हमारे नेता कहते रहते हैं कि कांग्रेस 70 से अधिक सीटों पर चुनाव लड़ेगी। लेकिन सीटों को लेकर अबतक कोई स्पष्टता नहीं है। वर्चुअल रैली ठीक है, लेकिन पहला मुद्दा यह है कि गठबंधन पर स्पष्टता होनी चाहिए, किस सीट से कौन का उम्मीदवार लड़ेगा यह स्पष्ट होना चाहिए, किस दल को कितनी सीट मिलेंगी इन सब बातों पर पहले ध्यान दिया जाना चाहिए।

आरजेडी के वरिष्ठ नेताओं ने कहा कि आरजेडी, कांग्रेस और भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (मार्क्सवादी-लेनिनवादी) लिबरेशन के बीच व्यापक सहमति है। लेकिन इसमें आरएलएसपी और वीआईपी को शामिल किया जाना बाकी है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 मध्य प्रदेश: युवक ने लगाई मदद की गुहार तो मंत्री ने बाल काटने के दिए 60 हजार
2 Indian Railway, IRCTC: 12 सितंबर से चलाई जाने वाली भागलपुर विक्रमशिला ट्रेन में टिकटों का टोटा, बुकिंग खुलते ही 26 सितंबर तक एसी कोच में टिकटें बुक
3 Bihar Elections 2020 से पहले जेल से बाहर होंगे लालू यादव? चारा घोटाले में आज नहीं हुआ बेल पर फैसला, 9 अक्टूबर को अगली सुनवाई
IPL 2020 LIVE
X