ताज़ा खबर
 

बिहार: 195 सीटों पर राजद-कांग्रेस लड़ सकती है चुनाव, महागठबंधन में सहयोगी दलों को 48 सीट देने की तैयारी

उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने राजद प्रमुख लालू प्रसाद यादव पर जेल के भीतर पार्टी चलाने का आरोप लगाया है।

Bihar Elections 2020 बिहार में विधानसभा चुनाव अक्टूबर-नवंबर के महीनों में होने वाले हैं।

बिहार में साल के आखिर में विधानसभा चुनाव होने हैं और राजनीतिक पार्टियां चुनाव जीतने की रणनीति बनाने में जुट गई हैं। हम प्रमुख जीतनराम मांझी के महागठबंधन से अलग होने के बाद माना जा रहा है कि राजद-कांग्रेस 195 सीटों पर चुनाव लड़ सकती है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक महागठबंधन में सहयोगी दलों को 48 सीटें दी जाएंगी। महागठबंधन में कितनी पार्टियां मिलकर चुनाव लड़ेंगी ये अभी तक साफ नहीं हो पाया है। हालांकि अभी महागठबंधन में राजद और कांग्रेस के अलावा विकासशील इंसान पार्टी, राष्ट्रीय लोक समता पार्टी और वामदल हैं। वहीं महागठबंधन से अलग हुए हिंदुस्तान अवाम मोर्चा चीफ मांझी गुरुवार को एनडीए में शामिल हो जाएंगे।

इधर राज्य के उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने राजद प्रमुख लालू प्रसाद यादव पर जेल के भीतर पार्टी चलाने का आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि लालू जेल के भीतर से टिकट बांटने में राजनीतिक भूमिका निभा रहे हैं। डिप्टी सीएम ने कहा कि एक हजार करोड़ रुपए के चारा घोटाला के चार मामलों में लालू प्रसाद को जेल की सजा हुई, लेकिन झारखंड की हेमंत सोरेन सरकार ने उन्हें इलाज के नाम पर पहले रिम्स में और फिर पृथकवास के बहाने आलीशान बंगले में पहुंचा दिया।

उन्होंने आरोप लगाया कि भ्रष्टाचार का दोष सिद्ध अपराधी यदि राजनीतिक रसूख के बल पर जेल बंदी के बजाय राजकीय अतिथि जैसी पांच सितारा सुविधाए पा रहा है, तो इस पर सीबीआई को संज्ञान लेना चाहिए। सजायाफ्ता लालू प्रसाद से मिलने रोजाना दर्जनभर लोग उनके बंगले पर पहुंच रहे हैं। बिहार में चुनाव लड़ने के इच्छुक 200 से ज्यादा लोग रांची जाकर उन्हें बायोडाटा दे चुके हैं।

उन्होंने कहा कि यदि झारखंड सरकार जेल नियामवली की धज्जियां उड़ा कर लालू प्रसाद को जेल से पार्टी चलाने और टिकट बांटने में राजनीतिक भूमिका निभाने का मौका दे रही है, तो हम चुनाव आयोग से हस्तक्षेप की अपील करेंगे।

दूसरी तरफ विधानसभा चुनाव से पहले राजद को एक बड़ा झटका लगा है। पार्टी के एक और विधायक वीरेंद्र कुमार मंगलवार को राज्य में सत्तारूढ़ जदयू में शामिल हो गए। बेगूसराय जिले के तेघड़ा विधानसभा क्षेत्र से विधायक वीरेंद्र पिछले एक पखवाड़े में राजद छोड़ जदयू में शामिल होने वाले प्रमुख विपक्षी पार्टी के सातवें विधायक हैं।

इससे पहले 20 अगस्त को लालू प्रसाद के नेतृत्व वाले राजद को एक और झटका उस समय लगा था जब लालू के समधी चंद्रिका राय सहित उसके तीन और विधायक मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की पार्टी जदयू में शामिल हो गए। बाद में राजद ने इन विधायकों को पार्टी विरोधी गतिविधियों के लिए दल से निष्कासित कर दिया था। बिहार में विधानसभा चुनाव अक्टूबर-नवंबर के महीनों में होने वाले हैं। 243 सदस्यीय बिहार विधानसभा में राजद जिसके 80 विधायक हैं, में से अबतक सात विधायक पार्टी छोड चुके हैं। (एजेंसी इनपुट)

Next Stories
1 अंबाला एयरबेस पर राफेल पर मंडरा रहा खतरा, IAF ने खट्टर सरकार से की गुजारिश, जल्द हटाएं कूड़ों का ढेर
2 दो दलित नेताओं के रुख से उलझन में बिहार की राजनीति, दो हफ्ते बाद भी जीतनराम मांझी की एनडीए में नहीं हो सकी वापसी
3 गुजरात में गोहत्या, शराब कारोबारियों को ही सकती है दस साल तक की क़ैद- अध्यादेश लाने जा रही सरकार
ये पढ़ा क्या?
X