ताज़ा खबर
 

Bihar Elections 2020: चिराग की कार्यकर्ताओं को चिट्ठी- सीट बंटवारे पर किसी से नहीं हुई बात, विकास के लिए जनता को LJP का रोडमैप बताएं आप

LJP चीफ ने कहा है कि पार्टी नेता और कार्यकर्ता विकास के लिए जनता को एलजेपी का रोडमैप बताएं। दरअसल, चिराग के पिता की तबीयत खराब है और वह फिलहाल अस्पताल में हैं।

Author Edited By अभिषेक गुप्ता नई दिल्ली/पटना | Updated: September 20, 2020 2:47 PM
Chirag Paswan, LJP, BiharLJP चीफ चिराग पासवान और साथ में उनके पिता रामविलास पासवान। (Express photo by Prem Nath Pandey)

Bihar Elections 2020 से पहले LJP चीफ चिराग पासवान ने पार्टी नेताओं और कार्यकर्ताओं को एक खत लिखा है। उन्होंने इसके जरिए साफ किया है कि उनकी फिलहाल किसी से सीट बंटवारे पर बातचीत नहीं हुई है। साथ ही कहा है कि वे लोग विकास के लिए जनता को एलजेपी का रोडमैप बताएं। दरअसल, चिराग के पिता की तबीयत खराब है और वह फिलहाल अस्पताल में हैं।

चिराग ने इस खत में बिहार न जाने की मजबूरी भी साफ की। बताया कि पिता और केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान की तबीयत खराब है। वह मौजूदा समय में दिल्ली के एक अस्पताल के आईसीयू में हैं, जहां अधिक वक्त देखभाल में निकल रहा है। हालांकि, एलजेपी चीफ ने यह भी बताया- पिता ने मुझे कई बार बिहार जाने की सलाह दी, पर गड़बड़ तबीयत के मद्देनजर ऐसा संभव नहीं हो पा रहा है। पढ़ें, और क्या इस खत के जरिए बोले चिरागः

बिहार में कोरोना और बाढ़ की दोहरी मार का मुद्दा उठा रास में: बिहार में कोरोना वायरस के संक्रमण और बाढ़ की दोहरी मार का मुद्दा उठाते हुए राज्यसभा में रविवार को मांग की गई कि इस समस्या का स्थायी समाधान निकाला जाए। शून्यकाल में यह मुद्दा उठाते हुए राजद के मनोज झा ने कहा कि बिहार में हर साल मानसून के दौरान बाढ़ आती है और राज्य में जान माल का भारी नुकसान होता है। इस साल तो कोरोना वायरस का संक्रमण भी फैला हुआ है। उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस से बचाव के लिए सुरक्षित दूरी बनाए रखना आवश्यक है। बाढ़ प्राकृतिक आपदा है और बिहार में इस साल कोरोना काल में यह प्राकृतिक आपदा आई है और ऐसे में सुरक्षित दूरी के मानक का पालन कैसे किया जा सकता है?

झा ने कहा ‘‘यह सच है कि बाढ़ प्राकृतिक आपदा है लेकिन कहीं न कहीं यह मानव जनित संकट भी है। इसका स्थायी समाधान खोजना बेहद जरूरी है। हमें यह भी नहीं भूलना चाहिए कि भौगोलिक स्थिति को देखते हुए इस मुद्दे से जुड़ा एक पक्ष नेपाल भी है।’’ उन्होंने कहा ‘‘कई कारणों की वजह से बिहार सामूहिक चिंता का विषय रहा है। इस बार तो राज्य पर दोहरी मार पड़ी है।’’ (भाषा इनपुट्स के साथ)

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 Bihar Elections में वामपंथियों का बुरा हाल: 3 चुनाव में 3 पार्टियों को मिली हैं कुल 13 सीटें
2 Bihar Elections 2020: ‘टिकट न मिलने पर हंगामा नहीं काटेंगे, दल में ही रहेंगे’, मुकेश साहनी की VIP लाई उम्मीदवारों के लिए शर्त, 500 से अधिक जुटाए बायोडेटा
3 राजस्थानः परिवार के 4 सदस्यों की घर में पखों से लटकी मिली लाश; आर्थिक हालात से थे परेशान- सुसाइड नोट में खुलासा
IPL 2020 LIVE
X