ताज़ा खबर
 

बिहार चुनाव: रोजगार की बात पर युवाओं को धमकाते, पिटवाते हैं नीतीश कुमार, रैली में राहुल गांधी ने सीएम पर साधा निशाना

राहुल गांधी ने मधेपुरा में एक चुनावी रैली को संबोधित करते हुए कहा, ‘छह साल पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा था कि हर साल दो करोड़ युवाओं को रोजगार दिलवाएंगे...मिला? नीतीश कुमार ने कहा था बिहार को बदल दूंगा, लेकिन क्या बिहार बदला...?’

bihar election बिहार चुनाव बिहार में एक चुनावी जनसभा को संबोधित करते हुए कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी। (पीटीआई)

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने बिहार में एक चुनावी रैली के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर खूब निशाना साधा। उन्होंने कहा कि जो कोरोना वायरस महामारी और लॉकडाउन के दौरान लोगों की मदद नहीं कर रहे थे अब वोट मांग रहे हैं। बिहारीगंज में चुनावी सभा को संबोधित करते हुए राहुल गांधी ने रोजगार के मुद्दे पर भी एनडीए नेताओं पर निशाना साधा। बकौल राहुल, नीतीश कुमार ने वादा किया था कि वो युवाओं को रोजगार मुहैया कराएंगे और बिहार की तस्वीर बदल देंगे। उन्होंने अपने वादे नहीं निभाए। आज जब सार्वजनिक सभाओं में युवा नीतीश से उनके वादे पर सवाल पूछता है तो उन्हें धमकी दी जाती है। उनको भगाया जाता है और पीटा जाता है।

सभा में राहुल गांधी ने पीएम मोदी और सीएम नीतीश पर देश से झूठ बोलने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि नरेंद्र मोदी अमीरों के नेता हैं, वो गरीबों के नेता नहीं हैं। वो गरीबों की जेब से पैसा निकाल अमीर देते हैं। राहुल गांधी ने इसी तरह मधेपुरा में एक चुनावी रैली को संबोधित करते हुए कहा, ‘छह साल पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा था कि हर साल दो करोड़ युवाओं को रोजगार दिलवाएंगे…मिला? नीतीश कुमार ने कहा था बिहार को बदल दूंगा, लेकिन क्या बिहार बदला…?’

राहुल ने कहा, ‘इस चुनाव में वो ही युवा उनसे पूछते हैं कि हमें रोजगार क्यों नहीं दिया तो नीतीश जी उन्हें धमकाते हैं।’ जदयू के पूर्व अध्यक्ष शरद यादव की बेटी सुभाषिनी यादव इस चुनाव में मधेपुरा के बिहारीगंज से चुनाव मैदान में हैं। कांग्रेस नेता ने सुभाषिनी के लिए वोट मांगे और यादव की प्रशंसा करते हुए कहा कि उन्होंने वरिष्ठ समाजवादी नेता से काफी कुछ सीखा है। राहुल ने कहा, ‘प्रधानमंत्री मोदी ने कोरोना वायरस से लड़ने के लिए कहा ‘ताली बजाओ, थाली बजाओ’।

इसके बाद उन्होंने मोबाइल फोन की लाइट जलवाई और 22 दिन में कोरोना वायरस संक्रमण खत्म होने की बात कही लेकिन कोरोना फैलता जा रहा है।’ कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष ने केंद्र और प्रदेश सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि लॉकडाउन के दौरान जब लाखों मजदूर पैदल ही अपने घर आ रहे थे, तब नीतीश जी और मोदीजी ने उनकी मदद नहीं की।

राहुल ने आरोप लगाया जब कोरोना महामारी आई तो प्रधानमंत्री मोदी ने बिना कोई चेतावनी दिए, बिना लॉकडाउन का नोटिस दिए ही, इसे लागू कर दिया। उन्होंने आरोप लगाया कि जैसे नोटबंदी लागू की, वैसे ही लॉकडाउन कर दिया और देशभर के मजदूरों को इस दौरान भूखे प्यासे पैदल यहां आना पड़ा। कांग्रेस नेता ने केंद्र के नये कृषि कानूनों को लेकर सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि ‘नए कानून किसानों को खत्म करने वाले हैं।’

राहुल ने कहा कि किसानों को उनकी फसल के सही दाम दिलवाने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और नीतीश कुमार ने क्या किया? मोदी कहते हैं कि हमने किसान को आजाद किया कि वो अपना मक्का-धान देश में कहीं भी जाकर बेच सकता है। लेकिन किसान कैसे बेचेगा, बिहार में सड़क कहां है। उन्होंने आरोप लगाया कि मोदी सरकार न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) की प्रणाली, खरीद की व्यवस्था, मंडी की प्रणाली को पूरे हिंदुस्तान में नष्ट कर रही है। राहुल ने आरोप लगाया कि सरकार बिचौलियों के रूप में उद्योगपतियों को फायदा पहुंचाना चाहती है। (एजेंसी इनपुट)

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 बिहार चुनावः राहुल गांधी की मौजूदगी में विधायक के बिगड़े बोल, कहा- ओवैसी के हाथ-पैर तोड़कर हैदराबाद भेज देंगे
2 बिहार चुनाव: जदयू ने पार्टी एमएलसी को किया सस्पेंड, लोजपा के टिकट पर चुनाव लड़ रही बेटी की मदद का लगाया आरोप
3 अर्नब गोस्वामी की बढ़ीं मुश्किलें, कोर्ट से नहीं मिली कोई राहत