ताज़ा खबर
 

Bihar Elections 2020: लालू की सबसे बड़ी संतान मीसा को स्टार कैंपेनर से अधिक नहीं मिला रोल, तेजस्वी मार ले गए ‘असल मैदान’

मीसा भारती को इस चुनाव में स्टार कैंपेनर से अधिक कोई रोल नहीं मिला है। उनसे उम्र में काफी छोटे भाई तेजस्वी यादव को महागठबंधन की ओर से मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार के रूप में पेश किया गया है।

Author नई दिल्ली | Updated: October 24, 2020 12:48 PM
Misa Bharti, bihar assembly elections, bihar elections 2020, lalu prasad yadav, tejashwi yadav, misa bharti Bihar polls,Bihar Elections 2020:RJD सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव की बेटी मीसा भारती इस चुनाव में स्टार कैंपेनर है। (file)

राष्ट्रीय जनता दल (RJD) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव की बेटी मीसा भारती को इस चुनाव में स्टार कैंपेनर से अधिक कोई रोल नहीं मिला है। उनसे उम्र में काफी छोटे भाई तेजस्वी यादव को महागठबंधन की ओर से मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार के रूप में पेश किया गया है। राज्यसभा के लिए मनोनीत किए जाने के बाद, 44 वर्षीय मीसा ने बिहार में अपने छोटे भाई के लिए मंच छोड़ दिया। अब वे दिल्ली पर ही अपना ध्यान लगा रही है और इस चुनाव में तेजस्वी के लिए चुनाव प्रचार करती नज़र आएंगी।

आपातकाल के दौरान MISA (मेंटेनेंस ऑफ इंटरनल सिक्योरिटी एक्ट) के तहत लालू प्रसाद यादव को जेल में रखा गया था। लालू ने इस एक्ट के नाम पर अपनी बेटी का नाम ‘मीसा’ रख दिया। राजनीतिक गलियारों में मीसा का नाम पहली बार तब आया जब उसके पिता को चारा घोटाले के आरोपों के बाद पद छोड़ना पड़ा था और उनकी माँ राबड़ी देवी बिहार की नई मुख्य मंत्री बनी थी। तब उनके भाई तेजप्रताप और तेजस्वी दोनों 10 साल से भी कम उम्र के थे। ऐसे में माँ राबड़ी ने समर्थन और सलाह के लिए अपनी सबसे बड़ी बेटी मीसा से मदद ली थी।

मीसा ने एमबीबीएस की है, हालांकि उन्होने कभी एक डॉक्टर के रूप में काम नहीं किया। मीसा एक बहुत अच्छी वक्ता हैं और अपने बोलने के कौशल से सभी को प्रभावित किया है। लेकिन छोटे भाइयों के बड़े होने के बाद उनके माता पिता ने राजनीति के लिए उन्हें चुना। सूत्रों का कहना है कि यह सिर्फ बेटी के ऊपर बेटों को चुनने का सवाल नहीं था, इसके पीछे की वजह लालू की पांच अन्य बेटियां थी। अगर वे मीसा को इसके लिए चुनते तो अन्य बेटियां भी दावा कर सकती थीं।

2014 में एक डॉक्टर से नेता बनीं मीसा भारती ने पाटलिपुत्र की लोकसभा सीट से चुनाव लड़ा था, लेकिन वो राजद के बागी अपने चाचा राम कृपाल यादव से हार गई थीं, जो भाजपा में शामिल हो गए थे। रामकृपाल यादव ने मीसा को 40322 वोटों से हरा दिया था। मीसा को इस चुनाव में 342940 वोट मिले थे। हालांकि 2016 में मीसा को लालू प्रसाद ने राजद के टिकट पर राज्यसभा भेज दिया।

इस चुनाव में मीसा को लेकर राजद के प्रवक्ता मृत्युंजय तिवारी ने कहा कि मीसा भारती हमारे स्टार प्रचारकों में से एक हैं। अब तक, हमारे पास उसके प्रचार का कोई विवरण नहीं है। वह बाद के चरणों में प्रचार कर सकती हैं।”

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 Bihar Elections 2020: ये कमल के फूल कुम्हलाने लगे हैं…दुष्यंत कुमार की कविता से कन्हैया के प्रचार का आगाज, बोले- नीतीश हैं BJP की स्टेपनी
2 Bihar Elections 2020 ने बदली प्रदेश BJP चीफ की दिनचर्या, पर नीतीश नहीं भूलते योग करना, तेजस्वी भी रोज टहलने से करते हैं दिन की शुरुआत
3 बिहार चुनाव का बहिष्कार करेंगे 108 आदिवासी गांव, ग्रामीणों का आरोप- पुलिस ने की सख्ती, एक्टिविस्ट्स को फर्जी मामलों में गिरफ्तार किया
यह पढ़ा क्या?
X