ताज़ा खबर
 

Bihar Elections 2020 ने बदली प्रदेश BJP चीफ की दिनचर्या, पर नीतीश नहीं भूलते योग करना, तेजस्वी भी रोज टहलने से करते हैं दिन की शुरुआत

खुद को स्वस्थ रखने के लिए नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव भी रोज सुबह टहलने जाते हैं। वहीं बीजेपी चीफ डॉक्टर संजय जायसवाल की दिनचर्या बादल गई है। वे अपने सामान्य रूटीन को बरकरार नहीं रख पा रहे हैं।

Edited By सिद्धार्थ राय नई दिल्ली | Updated: October 24, 2020 10:18 AM
Bihar election 2020:चुनाव व्यस्तता में भी प्रदेश के मुख्य मंत्री नीतीश कुमार योग करना नहीं भूलते है।

अगले हफ्ते शुरू होने वाले बिहार चुनाव को लेकर प्रचार अभियान अपने चरम पर है। चुनाव व्यस्तता में भी प्रदेश के मुख्य मंत्री नीतीश कुमार योग करना नहीं भूलते है। खुद को स्वस्थ रखने के लिए नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव भी रोज सुबह टहलने जाते हैं। वहीं बीजेपी चीफ डॉक्टर संजय जायसवाल की दिनचर्या बादल गई है। वे अपने सामान्य रूटीन को बरकरार नहीं रख पा रहे हैं।

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की दिनचर्या अहले सुबह से शुरू होती है। उनकी दिनचर्या में प्रतिदिन योग अनिवार्य रूप से शामिल है। रोज सुबह वे करीब एक घंटा तक योग, आसन और प्राणायाम करते हैं। जेडीयू अध्यक्ष योग के बाद चाय के साथ अखबार पढ़ते हैं और उस दिन होने वाली सभाओं की जानकारी लेते हैं। नाश्ते में कभी चूड़ा-दही, कभी रोटी-सब्जी आदि लेते हैं। चुनावी दौरे में उनके साथ घर में बना दोपहर का भोजन भी जाता है। प्रचार के दौरान ज़्यादातर वे दिन के भोजन में दालपूड़ी, चोखा और पेड़ा लेते हैं। वे गरम पानी पीते हैं और नींबू वाली चाय लेते हैं।

नीतीश के साथ जो भी नेता प्रचार करते हैं सभी का भोजन सीएम आवास से ही आता है। नीतीश रात को समय पर सोते हैं। वे ज़्यादातर रात करीब साढ़े नौ बजे के बाद सोने के लिए चले जाते हैं। वहीं नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव की दिनचर्या सुबह साढ़े छह बजे से शुरू होती है। वे रोज सुबह टहलने जाते हैं और कसरत करते हैं। वे दिन में हल्का भोजन करते हैं। तेजस्वी ने अब तक 63 क्षेत्रों में 70 से अधिक सभाएं की हैं। राजद उम्मीदवारों के 42 विस क्षेत्रों में वह सभा कर चुके हैं।

वहीं इन सब के बीच भाजपा प्रदेश अध्यक्ष डॉ संजय जायसवाल चुनावी व्यस्तता के कारण अपने सामान्य रूटीन को बरकरार नहीं रख पा रहे हैं। उनकी दिनचर्या सुबह 6 बजे शुरू होती है। पहले वे रोज सुबह योग या कसरत करते थे। लेकिन अब चुनाव के कारण वह समय फोन पर निकल जाता है।

Next Stories
1 बिहार चुनाव का बहिष्कार करेंगे 108 आदिवासी गांव, ग्रामीणों का आरोप- पुलिस ने की सख्ती, एक्टिविस्ट्स को फर्जी मामलों में गिरफ्तार किया
2 ‘Republic TV’ के खिलाफ चौथा केसः संपादक, एंकर और पत्रकारों समेत 1000 टीवी स्टाफ पर केस, रिपोर्टर ने कहा- पीछे पड़ी है उद्धव सरकार, ये अघोषित आपातकाल है
3 Bihar Election 2020 HIGHLIGHTS: कोरोनावायरस का चुनाव पर असर नहीं! 2015 के मुकाबले इस बार 288 उम्मीदवार ज्यादा, इस सीट पर लड़ रहे 31 प्रत्याशी
ये पढ़ा क्या?
X