ताज़ा खबर
 

बिहार चुनाव: जीतने की संभावना है इसलिए कत्ल के आरोपियों को दिया टिकट, तेजस्वी की राजद की दलील

राजद ने दागी नेताओं को टिकट देने का कारण बताते हुए कहा है कि ये सबसे योग्य उम्मीदवार हैं और अपने क्षेत्र में खासे लोकप्रिय हैं।

tejashwi yadav bihar election rjd criminal records candidatesतेजस्वी यादव की पार्टी राजद की दलील है कि दागी नेताओं के चुनाव जीतने की संभावना ज्यादा है। (पीटीआई फाइल फोटो)

चुनाव आयोग के निर्देशानुसार राजद ने अपने उम्मीदवारों का आपराधिक रिकॉर्ड सार्वजनिक कर दिया है। जिसके मुताबिक पार्टी के 38 उम्मीदवारों के खिलाफ आपराधिक मामले लंबित हैं। राजद ने दागी नेताओं को टिकट देने का कारण बताते हुए कहा है कि ये सबसे योग्य उम्मीदवार हैं और अपने क्षेत्र में खासे लोकप्रिय हैं। पार्टी ने कहा है कि अन्य उम्मीदवारों की तुलना में इनके जीतने की संभावना ज्यादा है, इसलिए पार्टी ने इन पर भरोसा किया है।

राजद द्वारा जारी की गई दागी नेताओं की लिस्ट में कई नेता ऐसे हैं, जिन पर कत्ल के आरोप हैं। वहीं कई पर धोखाधड़ी, रंगदारी मांगने, मारपीट करने जैसे मामले दर्ज हैं। लिस्ट में अनंत सिंह, राहुल तिवारी, सुरेन्द्र यादव, विजय प्रकाश आदि का नाम शामिल है। राजद के दागी नेताओं की लिस्ट में संदेश सीट से किरण देवी, सूर्यगढ़ा से प्रहलाद यादव, बेलहर से रामदेव यादव, शाहपुर से राहुल तिवारी, ब्रह्मपुर से शंभुनाथ यादव, मसौढी से रेखा देवी का नाम शामिल है।

इनके अलावा रामगढ़ से सुधाकर सिंह, इमामगंज से उदय नारायण चौधरी, नबीनगर से डब्लू सिंह, शेखपुरा से विजय कुमार, हिलसा से शक्ति सिंह यादव, कुर्वा से बागी कुमार वर्मा, बोधगया से कुमार सर्वजीत, धौरेवा से भूदेव चौधरी, रजौली से प्रकाश वीर, खजौली से सीताराम यादव, गोह से मीरा कुमार सिंह आदि का नाम शामिल है।

बता दें कि चुनाव आयोग ने निर्देश दिए थे कि बिहार चुनाव में राजनैतिक पार्टियों को अपने दागी उम्मीदवारों के बारे में सार्वजनिक रूप से घोषित करना पड़ेगा। इसी निर्देश के पालन के तहत राजद ने अपनी आधिकारिक वेबसाइट पर अपने दागी उम्मीदवारों का विवरण दिया है।

उल्लेखनीय है कि एडीआर और बिहार इलेक्शन वॉच की एक ताजा रिपोर्ट में बताया गया है कि बिहार की सभी राजनैतिक पार्टियों में दागी नेताओं की घुसपैठ है। साल 2005 से लेकर 2019 तक के सभी चुनाव का विश्लेषण करने पर पता चला है कि इस दौरान राजद ने सबसे ज्यादा दागी नेताओं को टिकट दिया है। वहीं जदयू के टिकट पर सबसे ज्यादा दागी नेता चुनाव जीते हैं। भाजपा इस कड़ी में दूसरे स्थान पर है।

इस मामले में कांग्रेस, बसपा, लोजपा और वामपंथी पार्टियां भी पीछे नहीं हैं और सभी पार्टियों में दागी चुनाव लड़ते रहे हैं। रिपोर्ट में ये भी बताया गया है कि बिहार में साफ सुथरी छवि वाले नेता के जीतने का प्रतिशत सिर्फ 5 फीसदी है। वहीं दागी नेताओं के जीतने का प्रतिशत 15 फीसदी है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 बुधवार से ताबड़तोड़ चुनाव प्रचार के लिए मैदान में उतरेंगे नीतीश, एक दिन में करेंगे 4 सभाएं
2 Bihar Elections 2020 के ये हैं स्टार प्रचारक: लालू परिवार से चार-चार, BJP की सूची से शाहनवाज़ ग़ायब
3 Bihar Elections: जब संजय गांधी ने की थी घोषणा…बनाएंगे मंत्री, बाद में बना दिया था कांग्रेसी को राज्य मंत्री, पढ़ें किस्सा
IPL 2020 LIVE
X