ताज़ा खबर
 

बिहार: वोट के चक्कर में रुकेंगे तो पेट कैसे भरेगा? नहीं हुआ काम का जुगाड़, फिर मज़दूर पलायन को मजबूर

मजदूर लॉकडाउन के बाद घर आए थे, दिवाली आने वाली है और उसके बाद छठ है। लेकिन इन सबसे ठीक पहले ही यह काम की तलाश में घर से दूर जा रहे हैं।

bihar election, bihar vidhansabha chunav, chirag pashwan, nitesh kumar, latest bihar newsजब हमारे लिए यहां कोई रोजगार नहीं है कोई सिस्टम हमारे लिए नहीं है तो क्या हम यहां भूखा मरेंगे। (प्रतीकात्मक फोटो)

बिहार में विधानसभा चुनाव चल रहे हैं, पर बिहार के मजदूर पलायन करने को मजबूर हैं। वो कह रहे हैं कि अगर वोट के चक्कर में यहां रुकेंगे तो पेट कैसे भरेगा। काम का कोई जुगाड़ नहीं हो रहा है। लॉकडाउन के बाद से बिहार लौटे मजदूर और कामगार वापस महानगरों का रुख करने को मजबूर हैं। काफी ढूंढने पर भी उन्हें बिहार में कोई काम नहीं मिला। उन पर रोजी रोटी का ऐसा दबाव है कि चंद दिनों के बाद होने वाले चुनाव में वोटिंग करने के लिए भी वो नहीं रुक रहे। लॉकडाउन के बाद घर आए थे, दिवाली आने वाली है और उसके बाद छठ है। लेकिन इन सबसे ठीक पहले ही यह काम की तलाश में घर से दूर जा रहे हैं। एक मजदूर ने बताया कि वह लॉकडाउन के टाइम बस से बिहार आए थे। वापस क्यों जा रहे हो यह सवाल पूछने पर जवाब मिला कि कंपनी ने बुलाया है इसलिए वापस जा रहा हूं। नहीं तो नौकरी चली जाएगी। यहां कोई काम धंधा नहीं मिला जो यहीं रह जाएं।

सुजीत पासवान नाम के मजदूर ने बताया कि वह पाइपलाइन का काम करते थे। जब पूछा कि दिल्ली जाकर काम मिल जाएगा वापस तो कहा कि हां जा रहे हैं अब वापस तो थोड़ा काम है वहां। कटाई गांव के एहसान ने चैन्नई में नौकरी करते थे। लाकडाउन के समय बिहार वापस आ गए थे, लेकिन यहां काम नहीं मिला तो वह वापस जा रहे हैं। उनका कहना है कि कुछ लोग दिल्ली गए, कुछ मुंबई गए कुछ कोलकाता गए कुछ मद्रास गए कोई बेंगलुरू गया। जब कहा गया कि जब सब लोग लौट रहे थे तो कह रहे थे कि अब कभी दिल्ली, मुंबई, कोलकाता नहीं आएंगे लेकिन अब वापस जा रहे हैं तो जवाब मिला कि यहां क्या करेंगे बताइये न।

जब हमारे लिए यहां कोई रोजगार नहीं है कोई सिस्टम हमारे लिए नहीं है तो क्या हम यहां भूखा मरेंगे। जब वोट डालकर जाने के लिए कहा तो जवाब मिला कि जब हमारे पास रुकने का इंतजाम ही नहीं है तो वोट कैसे डालेंगे। मौहम्मद कैफ नाम के युवक ने बताया कि यहां कहीं से भी किसी भी तरह की सहायता नहीं मिल रही है। घर में बैठे तो भूखे मर जाएंगे। कुछ तो करना पडे़गा। एक युवक ने कहा कि अगर वोट घर के बाकी बंधु डाल देंगे। वोट के चक्कर में रह गए तो घर थोड़ी न चलेगा।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मेक्रों के खिलाफ प्रदर्शन करने वाले कांग्रेस विधायक सहित दो हजार लोगों के खिलाफ मामला दर्ज, ये है पूरा मामला
2 यूपी: ‘अर्थी’ पर बैठ देवरिया उपचुनाव के लिए खरीद पर्चा, समर्थक लगा रहे थे ‘राम नाम सत्य है’ का नारा, जानिए कौन हैं MBA कर चुके प्रत्याशी ‘अर्थी बाबा’
3 केरल: CPI(M) सचिव का बेटा ड्रग पेडलर्स को पैसे भेजने के आरोप में धराया, ED का दावा- ड्रग्स की खरीद-फरोख्त की बात कबूली
ये पढ़ा क्या?
X