ताज़ा खबर
 

बिहार चुनाव: जदयू ने पार्टी एमएलसी को किया सस्पेंड, लोजपा के टिकट पर चुनाव लड़ रही बेटी की मदद का लगाया आरोप

एमएलसी दिनेश सिंह को पार्टी ने निलंबित करते हुए 10 दिन के भीतर जवाब देने को कहा है। दिनेश सिंह की बेटी गायघाट से लोजपा की उम्मीदवार है और दिनेश सिंह पर उनकी मदद करने और जेडीयू कार्यकर्ताओं पर दबाव बनाने का आरोप है।

Author Edited By सिद्धार्थ राय नई दिल्ली | Updated: November 4, 2020 1:43 PM
JDU, MLC Dinesh Prasad Singh, JDU, Komal Singh, Bihar election 2020Bihar election 2020: दिनेश सिंह को पार्टी के प्रदेश महासचिव नवीन कुमार आर्य ने निलंबित करते हुए पत्र जारी किया है। (twitter)

बिहार विधानसभा चुनाव में दो चरण के मतदान हो चुके हैं और सभी पार्टियां अब तीसरे चरण की तैयारियों में जुट गई हैं। इसी बीच जनता दल यूनाइटेड (JDU) ने अपने एक एमएलसी को निलंबित कर दिया है। एमएलसी पर लोक जनशक्ति पार्टी (LJP) से चुनाव लड़ रहीं बेटी की मदद करने का आरोप लगाया है।

एमएलसी दिनेश सिंह को पार्टी ने निलंबित करते हुए 10 दिन के भीतर जवाब देने को कहा है। दिनेश सिंह की बेटी गायघाट से लोजपा की उम्मीदवार है और दिनेश सिंह पर उनकी मदद करने और जेडीयू कार्यकर्ताओं पर दबाव बनाने का आरोप है। मुख्य मंत्री नीतीश कुमार के बेहद करीबी माने जाने वाले दिनेश सिंह को पार्टी के प्रदेश महासचिव नवीन कुमार आर्य ने निलंबित करते हुए पत्र जारी किया है। दिनेश सिंह मुजफ्फरपुर से आते हैं और फिलहाल बार जेडीयू के एमएलसी हैं जबकि उनकी पत्नी वीणा देवी वैशाली से एलजीपी की सांसद हैं।

पार्टी ने पत्र जारी करते हुए लिखा “विधानसभा क्षेत्र 88 गाय घाट जिला मुजफ्फरपुर से आपकी सुपुत्री लोजपा की अधिकृत प्रत्याशी है जबकि एनडीए गठबंधन से जदयू उम्मीदवार श्री महेश्वर प्रसाद यादव चुनावी मैदान में हैं। जैसे कि सूचना मिली है कि उक्त विधानसभा क्षेत्र के जनता दल (यू) के पदाधिकारियों एवं कार्यकर्ताओं /साथियों पर आपके द्वारा दबाव दिया जा रहा है कि लोजपा उम्मीदवार के पक्ष में काम करें। इतना ही नहीं आपके द्वारा पार्टी के पदाधिकारियों के घर एवं मोबाइल पर अवांछित तत्वों के माध्यम से धमकी भी दी जा रही है। अतः निर्देशानुसार आपको तत्काल प्रभाव से पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से निलंबित करते हुए निर्देश दिया जाता है कि 10 दिनों के अंदर लिखित रूप से अपना पक्ष राज्य पार्टी को प्रस्तुत करें।

वहीं भागलपुर में दूसरे चरण का मतदान सम्पन्न होने के बाद बीजेपी और एलजेपी कार्यालय के बाहर जमकर हंगामा हुआ। दोनों पार्टी के कार्यकर्ता आपस में भिड़ गए. इधर, हंगामा बढ़ता देख पुलिस की तैनाती करनी पड़ी। मिली जानकारी अनुसार इस विवाद की असली वजह गोड्डा के सांसद निशिकांत दूबे का ऑडियो टेप है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 अर्नब गोस्वामी की बढ़ीं मुश्किलें, कोर्ट से नहीं मिली कोई राहत
2 CAA विरोधी प्रदर्शन में शामिल लोगों की संपत्ति जब्त करेगी योगी सरकार, लखनऊ में 8 लोगों के घर के बाहर चिपकाया नोटिस
3 नमाज पढ़ने से मंदिर खराब कैसे हो गई? डिबेट में बोले पैनलिस्ट तो महामंडलेश्वर पंचानंद जगतगुरु ने दिया ये जवाब
ये पढ़ा क्या?
X