ताज़ा खबर
 

बिहार चुनावः राहुल गांधी की मौजूदगी में विधायक के बिगड़े बोल, कहा- ओवैसी के हाथ-पैर तोड़कर हैदराबाद भेज देंगे

इस मामले में हैदराबाद के सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने भी प्रतिक्रिया दी है।

congress mla abdul jalil mastanकांग्रेस विधायक अब्दुल जलील मस्तान। (पीटीआई)

बिहार में कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी की सभा में अमौर विधायक अब्दुल जलील मस्तान ने AIMIM चीफ असदुद्दीन ओवैसी के खिलाफ विवादित बयान दे डाला। उन्होंने मंगलवार को सभा में कहा कि ओवैसी यहां (किशनगंज) में चरने आए हैं, ये कोई चारागाह नहीं है। ओवैसी का बिना नाम लिए उन्होंने कहा कि हर पंचायत में हेलिकॉप्टर उतार कर पैसे की बारिश करते हैं। मैंने इसकी शिकायत प्रशासन से भी की है। मगर कोई कार्रवाई नहीं की गई।

राहुल गांधी की मौजूदगी में कांग्रेस विधायक ने ओवैसी पर निजी हमले करते हुए कहा कि वो खुद को बैरिस्टर कहते हैं लेकिन कभी किसी हाईकोर्ट या सुप्रीम कोर्ट में बहस नहीं की। उनके हाथ-पैर तोड़कर हैदराबाद भेज देंगे। इस घटना पर हैदराबाद के सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने भी प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने बुधवार को ट्वीट कर कहा ‘मुझे मारने-काटने की बातें कोई नई नही है। भाजपा, कांग्रेस के मंच से ऐसी बातें होते रहती हैं। पर गौर कीजिए कि ये बात 50 साल के शहजादे की मौजूदगी में हुई थी। मेरे हाथ, पैर क्या जान ले लीजिए। मगर AIMIM सीमांचल छोड़ कर कभी नहीं जाएगी। इंशाअल्लाह। मजलिस सीमांचल के दिल में बस्ती है।’

इधर किशनगंज में हुई रैली में राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर खूब निशाना साधा। उन्होंने केंद्र और बिहार सरकार पर कोरोना वायरस, बेरोजगारी, किसानों एवं छोटे व्यापारियों की समस्याओं से निपटने में विफल रहने का आरोप लगाते हुए कहा कि इन्होंने मिलकर बिहार को लूटा है, वादे पूरे नहीं किए और अब राज्य की जनता इनको जवाब देगी।

राहुल गांधी ने कटिहार एवं किशनगंज में चुनावी रैलियों को संबोधित करते हुए कहा कि बिहार विधानसभा चुनाव में एक तरफ राजग गठबंधन है और दूसरी तरफ महागठबंधन है और इनके बीच में राजग की ‘बी टीम’है। उन्होंने आरोप लगाया कि पूरी ‘बी टीम’ घूम घूम कर भ्रम फैलाने का काम कर रही है। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष ने कहा कि भाजपा और आरएसएस नफरत फैलाते हैं और हम इन दोनों से लड़ते हैं। उन्होंने कहा कि भाजपा की ‘बी टीम’ भी नफरत फैलाती है।

गौरतलब है कि बिहार चुनाव में चिराग पासवान की लोक जनशक्ति पार्टी इस बार राजग से अलग होकर चुनाव लड़ रही है। समझा जाता है कि राहुल गांधी का इशारा लोजपा की ओर था। (एजेंसी इनपुट)

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 बिहार चुनाव: जदयू ने पार्टी एमएलसी को किया सस्पेंड, लोजपा के टिकट पर चुनाव लड़ रही बेटी की मदद का लगाया आरोप
2 अर्नब गोस्वामी की बढ़ीं मुश्किलें, कोर्ट से नहीं मिली कोई राहत
3 CAA विरोधी प्रदर्शन में शामिल लोगों की संपत्ति जब्त करेगी योगी सरकार, लखनऊ में 8 लोगों के घर के बाहर चिपकाया नोटिस
यह पढ़ा क्या?
X