ताज़ा खबर
 

Bihar Election 2020: विधानसभा चुनाव के लिए भाजपा आईटी सेल ने कसी कमर, जमीनी स्तर पर उतारे 9800 ऑबजर्वर

Bihar Election 2020: राज्य बीजेपी के आईटी सेल के संयोजक मनन कृष्णा के मुताबिक राज्य में आर्थिक, सामाजिक और सांस्कृतिक गतिविधियों पर बरीकी से नजर रखी जाएगी और ब्लॉक स्तर पर भी विपक्ष की पार्टियों की कमजोरी को ध्यान में रखकर राज्य के पार्टी दफ्तर में रणनीति तैयार की जाएगी।

Bihar, BJP, IT Cellबिहार चुनाव को लेकर बीजेपी आईटी सेल ने 9800 ऑबजर्वर्स मैदान में उतारे हैं।(फाइल फोटो-PTI)

Bihar Election 2020: बिहार विधानसभा चुनाव से पहले राजनीतिक पार्टियों ने कमर कसनी शुरू कर दी है। इस कड़ी में बीजेपी अन्य पार्टियों की तुलना में आगे नजर आ रही है।दरअसल, बीजेपी आईटी सेल ने 9800 ऑबजर्वर मैदान में उतारे हैं। ये ऑबजर्वर पार्टी के आंख कान बनेंगे यानी पार्टी की जमीनी स्तर की स्थिति से अवगत कराएंगे।

राज्य बीजेपी के आईटी सेल के संयोजक मनन कृष्णा के मुताबिक राज्य में आर्थिक, सामाजिक और सांस्कृतिक गतिविधियों पर बरीकी से नजर रखी जाएगी और ब्लॉक स्तर पर भी विपक्ष की पार्टियों की कमजोरी को ध्यान में रखकर राज्य के पार्टी दफ्तर में रणनीति तैयार की जाएगी।

कृष्णा ने बताया कि हमारे पास ब्लॉक स्तर पर 9800 ऑबजर्वर हैं जो बिहार के 38 जिलों में फैले हुए हैं। ये लोग हमसें जुड़े हुए हैं और नॉन पेड हैं। ये लोग विकास कार्यों से लेकर विपक्ष के नेताओं के भाषण तक पर नजर रखते हैं, उनकी एक-एक चूक के बारे में जानकारी देते हैं। इसके आधार पर हम वहां के अपने पार्टी के नेताओं को सूचना देते हैं और उस आधार पर रणनीति तैयार की जाती हैं। यह सभी जानकारियां राज्य से लेकर दिल्ली के नेतृत्व तक जाती हैं और फिर उस आधार पर रणनीति तैयार की जाती है।

अपने अनुभव को साझा करते हुए, कृष्णा ने कहा कि ब्लॉक पर्यवेक्षकों की प्रतिक्रिया के अलावा हम समाचार पत्रों, समाचार चैनलों और विभिन्न सोशल नेटवर्किंग साइटों की भी निगरानी करते हैं। हमारे पास एक कुशल और योग्य टीम है जिसमें 20 सदस्य शामिल हैं जो पटना में पार्टी मुख्यालय पर इन चीजों की निगरानी करते हैं।

कृष्णा का कहना है कि कुछ अन्य पेशेवर लोग भी हमारी मदद कर रहे हैं। ये लोग सुबह या फिर शाम को मदद के लिए आते हैं। इन लोगों को पार्टी की तरफ से कोई पैसा नहीं दिया जाता हैं। ये लोग पार्टी की विचारधारा और विकास कार्यों से प्रभावित हैं। इनमें से कई लोग ऐसे हैं जो कोरोना काल में अपनी नौकरी  के बाद यहां लौटे हैं।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 योगी सरकार ने ‘मुगल म्यूजियम’ का शिवाजी पर रखेगी नाम, लेकिन अभी भी देश में 700 से अधिक जगहें जो मुगलों के नाम पर
2 Bihar Elections 2020: लालू प्रसाद यादव को HAM के पोस्टर में बताया गया ‘होटवार जेल सुप्रीमो’, पूछा- कितनों की बलि लेंगे?
3 पूर्व नेवी अफसर BJP में शामिल, बोले- शिवसैनिकों ने भाजपा-आरएसएस समर्थक बता पीटा, अब शामिल हो गया
ये पढ़ा क्या?
X