ताज़ा खबर
 

बिहार में चुनाव की तारीखों का ऐलान लेकिन सीटों को लेकर प्रमुख सियासी दलों में अब भी रार

लालू प्रसाद के राजद एवं कांग्रेस के नेतृत्व वाले विपक्षी गठबंधन में भी स्थिति काफी उलझी हुई प्रतीत हो रही है जहां दो छोटे दल उपेंद्र कुशवाह की राष्ट्रीय लोक समता पार्टी और विकासशील इंसान पार्टी गठबंधन छोड़ने की कगार पर पहुंच गए हैं।

Author Updated: September 25, 2020 10:37 PM
सत्तारूढ़ राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन में लोक जनशक्ति पार्टी का रुख अभी तक स्पष्ट नहीं है।

निर्वाचन आयोग ने बिहार में चुनाव कार्यक्रम की घोषणा कर दी है लेकिन राज्य में दो मुख्य गठबंधनों की रूपरेखा को लेकर अभी तक अनिश्चितता बनी हुई है और कई दल अब भी गठबंधन की पसंद को लेकर पसोपेश में दिख रहे हैं । राज्य में तीन चरणों में चुनाव होने जा रहे हैं और प्रथम चरण का चुनाव 28 अक्तूबर को होगा। ऐसे में सत्तारूढ़ राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन में लोक जनशक्ति पार्टी का रुख अभी तक स्पष्ट नहीं है। पार्टी ने यह संकेत दिया है कि वह 143 सीटों पर चुनाव लड़ेगी जिसमें वे सीटें शामिल होंगी जहां से जदयू चुनाव लड़ेगी, साथ ही वह भाजपा उम्मीदवारों का समर्थन करेगी।

लालू प्रसाद के राजद एवं कांग्रेस के नेतृत्व वाले विपक्षी गठबंधन में भी स्थिति काफी उलझी हुई प्रतीत हो रही है जहां दो छोटे दल उपेंद्र कुशवाह की राष्ट्रीय लोक समता पार्टी और विकासशील इंसान पार्टी गठबंधन छोड़ने की कगार पर पहुंच गए हैं। पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी पहले ही विपक्षी गठबंधन से अलग होकर जदयू अध्यक्ष और बिहार के मुख्यमंत्री के साथ आ गए हैं। उपेंद्र कुशवाह भी राजद के वर्तमान नेतृत्व के खिलाफ मुखर हैं और पार्टी सूत्रों का कहना है कि वे जल्द ही विपक्षी खेमा छोड़ सकते हैं।

राष्ट्रीय लोक समता पार्टी के नेता माधव आनंद ने गुरूवार को कहा था कि,‘‘हमने महागठबंधन को बचाने के लिये हर संभव प्रयास किया लेकिन राजद हठ कर रही हैं। हम जिस कारण से साथ आए थे, उसको लेकर हमेशा प्रतिबद्ध हैं लेकिन तथाकथित महागठबंधन को लेकर हमें अधिक उम्मीद नहीं दिख रही है जहां पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी की हम पार्टी राजग में चली गई है।’’ एक तरफ विपक्षी खेमे में नीतीश कुमार के मुकाबले तेजस्वी यादव को मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार बनाये जाने को लेकर गठबंधन के घटकों के बीच गंभीर मतभेद उभरे हैं, वहीं जदयू और केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान की लोजपा के बीच बेहद खराब होते समीकरण से भी राजग गठबंधन की मुश्किलें बढ़ गई हैं।

भाजपा अध्यक्ष जे पी नड्डा सहित पार्टी के नेताओं ने जोर देकर कहा है कि राजग के सभी तीन घटक जदयू, भाजपा और लोजपा साथ चुनाव लड़ेंगे लेकिन चिराग पासवास अभी भी प्रतिबद्ध नहीं दिख रहे हैं। चिराग पासवान ने पिछले कुछ समय में कोविड-19 महामारी से लेकर प्रवासी मजदूरों के मुद्दे पर नीतीश कुमार पर तंज किया और उनका कहना रहा है कि भाजपा गठबंधन का नेतृत्व करे और जदयू से अधिक सीटों पर चुनाव लड़े।

दूसरी ओर, जदयू की ओर से लोजपा को तवज्जो नहीं दी जा रही है। जदयू का कहना है कि उसने पासवान की पार्टी के साथ कभी गठबंधन नहीं किया और सीटों के तालमेल को लेकर लोजपा की चिंताओं को भाजपा को दूर करना है। गौरतलब है कि बिहार विधानसभा चुनाव के लिए तीन चरणों में, 28 अक्टूबर, तीन नवंबर और सात नवंबर को, मतदान होगा जबकि सभी चरणों के लिए मतगणना 10 नवंबर को होगी।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 गुजरात: मिड डे मील योजना को लेकर CAG का खुलासा, लाभार्थियों के आंकड़ों में हेराफेरी सहित कई खामियां
2 Bihar Assembly Election 2020: बिहार चुनाव घोषित होते ही एबीपी न्यूज़ और सीवोटर ने जारी किया सर्वे रिज़ल्ट, NDA को दीं 161 सीटें
3 Corona Virus: सोशल डिस्टेंसिंग की उड़ी धज्जियां! मुंबई में खचाखच भरी दिखी ट्रेन, सोशल मीडिया पर लोग कर रहे मजेदार कमेंट
ये पढ़ा क्या?
X