scorecardresearch

हरियाणा: चौधरी देवीलाल की जयंती पर एक मंच पर आए बीजेपी के विरोधी खेमे के दिग्गज, पवार-बादल से लेकर नीतीश तक मौजूद

Samman Diwas rally: चौधरी देवीलाल की जयंती के मौके पर गैर-कांग्रेस और गैर-भाजपा दलों की लामबंदी नजर आयी।

हरियाणा: चौधरी देवीलाल की जयंती पर एक मंच पर आए बीजेपी के विरोधी खेमे के दिग्गज, पवार-बादल से लेकर नीतीश तक मौजूद
विपक्षी दल के नेताओं ने अपने-अपने भाषणों में भाजपा सरकार निशाना साधा। (Photo Credit – ANI)

देश के पूर्व उप प्रधानमंत्री चौधरी देवीलाल की जयंती पर आयोजित ‘सम्मान दिवस रैली’ में कई भाजपा विरोधी दल एक मंच पर नजर आए। देवीलाल की 109वीं जयंती का आयोजन इंडियन नेशनल लोकदल (इनेलो) सुप्रीमो ओम प्रकाश चौटाला ने हरियाणा में किया था।

जयंती समारोह में बिहार, महाराष्ट्र और पंजाब के प्रमुख राजनीतिक दलों के नेता शामिल हुए। इन नेताओं में बिहार के मुख्यमंत्री और जेडी(यू) प्रमुख नीतीश कुमार, जेडी(यू) नेता केसी त्यागी, बिहार के उपमुख्यमंत्री और राजद नेता तेजस्वी यादव, भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के सीताराम येचुरी, NCP प्रमुख शरद पवार, शिरोमणि अकाली दल के प्रेसिडेंट सुखबीर सिंह बादल और अकाली नेता प्रेम सिंह चंदूमाजरा का नाम शामिल है।

पिछले कुछ समय से भाजपा सरकार की आलोचना कर सुर्खियों में रहने वाले मेघालय के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने भी वीडियो संदेश भेजकर देवीलाल को श्रद्धांजलि दी।

किसने क्या कहा?

बिहार के उप मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने अपने संबोधन देवीलाल के योगदान का जिक्र करते हुए कहा, ”आज हम इस कुर्सी पर बैठे हैं, इसमें ताऊ देवीलाल का बड़ा योगदान। ताऊ का हमारे पिता लालू प्रसाद यादव से मधुर संबंध रहा है। हमारे पिताजी को आगे बढ़ाने में चौटाला जी का बड़ा योगदान है।” तेजस्वी ने अपने पिता की तरफ से भी देवीलाल को श्रद्धांजलि दी।

महाराष्ट्र से आए राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के प्रमुख शरद पवार ने कहा, ”किसानों ने एक साल तक दिल्ली की सीमाओं पर विरोध प्रदर्शन किया लेकिन सरकार ने उनकी समस्याओं के समाधान के लिए कोई कदम नहीं उठाया। किसानों से वादा किया गया था कि एमएसपी मुहैया कराया जाएगा लेकिन दिया नहीं गया। सरकार ने किसानों के खिलाफ दर्ज मामले वापस लेने का वादा किया लेकिन पूरा नहीं किया।”

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने अपने संबोधन को 2024 के लोकसभा चुनाव के इर्द-गिर्द ही रखा। उन्होंने कहा, ”पिछले चुनावों के दौरान, वे (भाजपा) हमारे उम्मीदवारों को हराने की कोशिश कर रहे थे। केंद्र ने पिछड़े राज्य के लिए जो वादा किया था, उसे पूरा नहीं किया। बिहार में आज 7 पार्टियां एक साथ काम कर रही हैं। उनके पास 2024 का चुनाव जीतने का कोई मौका नहीं है।” बता दें कि रैली का आयोजन फतेहाबाद में सिरसा रोड पर अनाज मंडी में किया गया था।

पढें राज्य (Rajya News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

First published on: 25-09-2022 at 06:12:07 pm
अपडेट