ताज़ा खबर
 

कोरोना पर मीटिंग में मंत्री ने की अफसर की शिकायत, तो CM नीतीश कुमार ने लगा दी क्लास

बिहार में फिलहाल कोरोना के 36 हजार से ज्यादा मामले सामने आ चुके हैं, जबकि दो सौ लोगों की संक्रमण से जान भी जा चुकी है।

bihar CM, nepalबिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार। (एक्सप्रेस फाइल फोटो)

Bihar Coronavirus News: बिहार में कोरोनावायरस महामारी से स्थिति लगातार गंभीर होती जा रही है। राज्य में अब तक कोरोना के 36 हजार से ज्यादा केस दर्ज हो चुके हैं। वहीं, 200 से ज्यादा मौतें भी हो चुकी हैं। बिहार में इन बिगड़ते हालात के बीच विपक्ष लगातार मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की सरकार को घेर रहा है। अब सीएम ने इन आलोचनाओं के बीच कोरोना के मामलों से निपटने में जुटे अफसरों से नाराजगी जताई है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, नीतीश कुमार ने शनिवार को हुई कैबिनेट मीटिंग में राज्य के प्रमुख सचिव उदय सिंह कुमावत को ही फटकार लगा दी। नीतीश ने कहा है कि या तो आप परफॉर्म कर के दिखाएं या हमें आपके खिलाफ कार्रवाई शुरू करने पड़ेगी।

मुख्यमंत्री ने अपने एक अफसर के खिलाफ ये कड़े तेवर राज्य में कोरोना के बढ़ते केसों के बीच दिखाए हैं। दरअसल, कैबिनेट मीटिंग में जब नीतीश कुमार ने राज्य के स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडे से टेस्टिंग की कम दरों के बारे में सवाल पूछा, तो पांडे ने शिकायत में कहा कि उन्हें हेल्थ कमिश्नर से कोई सहयोग नहीं मिल रहा है। रिपोर्ट्स के मुताबिक, इसी दौरान सीएम गुस्से में आ गए और धमकी दी कि कमिश्नर को या तो परफॉर्म कर के दिखाना होगा या कार्रवाई के लिए तैयार रहना चाहिए।

बता दें कि विपक्ष राज्य में कोरोना से बिगड़ती स्थिति को लेकर लगातार सरकार पर तीखे हमले कर रहा है। राजद नेता तेजस्वी यादव ने हाल ही में कहा था कि नीतीश कुमार सिर्फ विधानसभा चुनाव से पहले अपनी अच्छी छवि के लिए कार्यक्रम कर रहे हैं। तेजस्वी ने आरोप लगाया था कि राज्य में कोरोनावायरस की टेस्टिंग और ट्रेसिंग कम कर दी गई है और अब सब इसकी कीमत चुका रहे हैं।

इससे पहले शुक्रवार को ही पटना हाईकोर्ट ने बिहार सरकार से कोरोनावायरस संक्रमण को रोकने के लिए उठाए गए कदमों पर जवाब मांगा है। कोर्ट ने सरकार से आइसोलेशन सेंटर, मरीजों के लिए कोरोना फैसिलिटीज, हॉस्पिटलों में डॉक्टरों और पैरामेडिकल स्टाफ की संख्या और वेंटिलेटर और ऑक्सीजन सिलेंडरों की भी जानकारी मांगी है। इसके अलावा अदालत ने राज्य सरकार से मृतकों के शरीर के डिस्पोजल और अलग-अलग जिलों में कोरोना मरीजों के भर्ती न होने की वजह भी पूछी है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 ‘हिम्मत हो तो हमारी सरकार गिराओ’, उद्धव ठाकरे का खुला चैलेंज, बोले- हां तीन टांग पर है सरकार पर स्टेयरिंग मेरे हाथ में
2 रिम्स में जहां इलाज करवा रहे लालू यादव, वहां सुरक्षा कारणों से 18 कमरे रखे गए खाली, पूर्व सीएम ने हेमंत सोरेन को लिखी चिट्ठी
3 पारिवारिक विवाद में कांस्टेबल ने क्वारंटीन सेंटर में खाया जहर, बिहार में खाद खरीदने की होड़ में उड़ीं सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां
राशिफल
X