ताज़ा खबर
 

Bihar में चमकी बुखार का कहर, अब तक 50 से ज्यादा बच्चे गंवा चुके जान

एक हफ्ते में चमकी बुखार से करीब 56 मासूमों की जान जा चुकी है जबकि 135 बच्चों का विभिन्न अस्पतालों में इलाज जारी है।

Author मुजफ्फरपुर | June 12, 2019 11:06 AM
बिहार में चमकी बुखार से कई बच्चों की मौत फोटो सोर्स- इंडियन एक्सप्रेस

बिहार के मुजफ्फरपुर जिले में चमकी बुखार से बच्चों के मरने का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है। एक हफ्ते में इस बीमारी से करीब 56 मासूमों की जान जा चुकी है जबकि 135 बच्चों का विभिन्न अस्पतालों में इलाज जारी है। मुजफ्फरपुर के सिविल सर्जन डॉ. शैलेश प्रसाद ने बताया कि प्रदेश के पांच जिलों- मुजफ्फरपुर, सीतामढी, शिवहर, वैशाली, पूर्वी चंपारण में हाइपोग्लाइसीमिया और अन्य अज्ञात बीमारी से मरने वाले बच्चों की संख्या बढ़कर अब 36 हो गयी है। इनमें से 26 बच्चे अकेले मुजफ्फरपुर के हैं। उन्होंने बताया कि बिहार के मुजफ्फरपुर जिले में चमकी बीमारी से मरने वाले बच्चों की संख्या बढकर 30 पहुंच गई है। इस मामले में सीएम नीतीश कुमार ने ठोस कदम उठाने की बात कही है। उन्होंने कहा कि चमकी बुखार से बच्चों की मौत पर सरकार गंभीर है।

National Hindi News, 12 June 2019 LIVE Updates: देश-दुनिया की हर खबर पढ़ने के लिए यहां करें क्लिक

बिहार में चमकी का कहर इस कदर बढ़ रहा है कि एसकेएमसीएच अस्पताल की दोनों पीआईसीयू यूनिट में मरीज भरे हुए हैं। यही नहीं लगातार पीड़ित बच्चों की बढ़ती संख्या को देखते हुए अस्पताल प्रशासन तीसरी यूनिट खोलने की तैयारी कर रहा है। बताया जा रहा है कि एसकेएमसीएच में बीते दिन 44 में से 20 बच्चाें की माैत हाे गई। डॉक्टरों ने बताया कि चमकी बुखार से पीड़ित बच्चों की उम्र 5-15 साल के बीच है। इस बीच मुजफ्फरपुर के जिलाधिकारी आलोक रंजन घोष ने स्वास्थ्य विभाग के वरीय पदाधिकारियों के साथ-साथ सभी प्रखंड चिकित्सा पदाधिकारियों को अल्टीमेटम देते हुए मंगलवार को कहा कि बच्चों के इलाज में किसी तरह की लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी। जिलाधिकारी ने निर्देश दिया कि सभी आंगनवाड़ी सेविका, सहायिका, आशा और एएनएम को वार्ड स्तर पर जागरूकता कार्यक्रम में तत्काल उनकी सहभागिता सुनिश्चित कराया जाए।

इस बीच स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव संजय कुमार ने बताया कि 80 प्रतिशत मामले हाइपोग्लाइसीमिया के हैं न कि एईएस के, जैसा की मीडिया में खबरें आईं हैं। उन्होंने बताया कि स्वास्थ्य सेवा के प्रधान निदेशक के नेतृत्व में एक टीम स्थिति का जायजा लेने के लिए मुजफ्फरपुर गई है। बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि हाल में मुजफ्फरपुर में जिन बच्चों की मृत्यु हुई है, वह बहुत ही दुखद है। हमलोगों को इससे काफी पीड़ा और तकलीफ हुई है। उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य विभाग ने अपनी एक टीम इसके लिए भेजी है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

X