Bihar Banka District tribes grooms have to pay Rs 12 to the bridal family - बिहार के इस क्षेत्र में बहू लानी है तो देने होंगे 12 रुपए, लिव-इन में रहने की भी है प्रथा - Jansatta
ताज़ा खबर
 

बिहार के इस गांव में बहू लानी है तो देने होंगे 12 रुपए, लिव-इन में रहने की भी है प्रथा

बिहार के बांका जिले में आदिवासी समुदाय के बीच बहू के घर आने पर लड़का पक्ष द्वारा 12 रुपये शगुन के तौर पर दिया जाता है। बारात का खर्च भी लड़का पक्ष को ही उठाना पड़ता है।

बिहार के बांका क्षेत्र में शादी में लड़का पक्ष को पैसे देने पड़ते हैं। (फोटो सोर्स- इंडियन एक्सप्रेस)

हमारे देश में सख्‍त कानून होने के बाद भी दहेज प्रथा अब तक नहीं रुकी है। लेकिन, भारत में कुछ क्षेत्र ऐसे भी हैं जहां बहू को घर में लाने के एवज में शगुन दिया जाता है। जी हां! बिहार के बांका जिले में आदिवासी समुदाय के बीच यह प्रथा प्रचलित है। यहां जब किसी लड़के की शादी होती है तो बहू को पहली बार घर में लाने के एवज में 12 रुपये का शगुन देना पड़ता है। समुदाय में यह प्रथा लंबे समय से चली आ रही है। आदिवासी समुदाय के लोग सिर्फ सुशील, नृत्‍य व संगीत में पारंगत और कर्मठ बहू की चाहत रखते हैं। उनमें दहेज का प्रचलन नहीं है। इस समाज के लोग कन्‍यादान को ही सबसे बड़ा दान मानते हैं। इसके अलावा लड़का पक्ष को ही लड़की पक्ष का सम्‍मान भी करना पड़ता है। ‘दैनिक जागरण’ के अनुसार, लड़की के घर आने वाले बारात का खर्च भी लड़का पक्ष ही उठाता है। इसके कारण इनके परिवार में दहेज के कारण न बेटियों की शादी में कोई रुकावट आती है और न ही बेटियों को परिवार के लिए बोझ माना जाता है। शादी में वर पक्ष द्वारा देय रकम काफी कम होने के कारण उन्हें भी कोई खास परेशानी पेश नहीं आती है। इलाके के आदिवासी समुदाय में ऐसे लोगों की बड़ी तादाद है, जिनकी शादी महज 12 रुपये में हुई है।

‘लिव-इन’ की परंपरागत व्‍यवस्‍था: संथाल आदिवासी समाज में आज भी युवक-युवतियों के कुछ समय के लिए एक साथ रहने और एक-दूसरे को समझने की परंपरा कायम है। बुजुर्गों का मानना है कि इससे युवक-युवतियों को शादी के पूर्व कुछ दिनों तक एक साथ बिताकर एक दूजे को समझने का मौका मिलता है। इसके बाद रीति-रिवाज के साथ परिणय सूत्र में बंधने पर उनका संबंध अधिक टिकाऊ होता है। यही नहीं इनके समाज में लिव-इन रिलेशन की भी मान्यता है। क्षेत्र में कई ऐसे जोड़े देखे जा सकते हैं जो बिना शादी किए बाल-बच्चों के साथ सुखी जीवन बिता रहे हैं। ऐसे लड़का पक्ष द्वारा भी लड़की पक्ष वाले से न कभी दहेज की मांग की जाती है और न कभी ससुराल से धन-संपत्ति की मांग को लेकर बहू को प्रताड़ि‍त ही किया जाता है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App