ताज़ा खबर
 

बिहार चुनाव से पहले लालू की पार्टी RJD को झटका, महासचिव मोहम्मद फिरोज हुसैन ने दिया इस्तीफा

उन्होंने पार्टी पर पैसे लेकर टिकट बांटने का भी आरोप लगाया। उन्होंने अपने पत्र में लिखा कि मैं कार्यकर्ताओं की अनदेखी और बाहुबली धनवानों की कदर करने वाली इस पार्टी के आचरण से मर्माहत एंव क्षुब्ध हूं। ऐसी स्थिति में मेरे लिए पार्टी में बने रहना मुमकिन नहीं है।

RJD, JDU, Tejaswi Yadavराजद को चुनाव से पहले एक और झटका लगा है। (फाइल फोटो)

बिहार विधानसभा चुनाव से पहले लालू यादव की पार्टी राष्ट्रीय जनता दल को एक और झटका लगा है। पार्टी के महासचिव मोहम्मद फिरोज हुसैन ने शनिवार को पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा दे दिया।

हुसैन ने राजद पर निशाना साधते हुए कहा कि लालू यादव की पार्टी सिद्धांत से भटक गई है। उन्होंने पार्टी पर पैसे लेकर टिकट बांटने का भी आरोप लगाया। उन्होंने अपने पत्र में लिखा कि मैं कार्यकर्ताओं की अनदेखी और बाहुबली धनवानों की कदर करने वाली इस पार्टी के आचरण से मर्माहत एंव क्षुब्ध हूं। ऐसी स्थिति में मेरे लिए पार्टी में बने रहना मुमकिन नहीं है।

हुसैन ने लालू यादव के परिवार पर निशाना साधा है। उन्होंने लिखा, अपने मूल सिद्धांतों से भटक गई यह पार्टी आज अल्पसंख्यक विरोधी, पिछड़ा विरोधी, विकास विरोधी तथा सम्प्रदायिक शक्तियों के हाथों कठपुतली बनकर लूट खसोट करने वाली पार्टी बन चुकी है जिसका नेतृत्व पति-पत्नी, पुत्र-पुत्री पारिवारिक पार्टी एंव राज्य में प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह कर रहे हैं।

गौरतलब है कि मोहम्मद फिरोज हुसैन लालू यादव के करीबी नेता इलियास हुसैन के बेटे हैं। अलकतरा घोटाले में जेल जाने के बाद राजद के पूर्व मंत्री इलियास हुसैन की विधानसभा सदस्यता रद्द कर दी गई थी। रोहतास के डिहरी विधानसभा सीट पर पूर्व मंत्री इलियास हुसैन की सदस्यता खत्म होने के बाद उनके पुत्र फिरोज हुसैन ने इस सीट पर चुनाव लड़ा था।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 उत्तराखंड: लापरवाही की हद! 24 घंटे में ही 111 कोरोना पॉजिटिव हो गए नेगेटिव, जांच में गड़बड़ी
2 कोरोना की मार, गरीबी बना रही लाचार! हो रहे कुपोषण का शिकार, पालघरवासी बोले- खुद रहते हैं भूखे, ताकि बच्चों का भर सकें पेट
3 जम्मू-कश्मीर: BJP-PDP शासन में हुआ 10 हजार करोड़ रुपए का हेरफेर? CAG ने रिपोर्ट में उठाया गैर-पारदर्शी लेनदेन का मुद्दा
यह पढ़ा क्या?
X