ताज़ा खबर
 

बिहार चुनाव: जीतन राम मांझी की हम ने जारी किया पोस्टर, नहीं लगाई पासवान की फोटो

जारी हुए पोस्ट में लिखा गया है कि 'फर्स्ट बिहार नीतीश कुमार, हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा (हम) के एनडीए में शामिल होने पर बधाई।

jdu ljpपोस्टर में एलजेपी नेताओं की तस्वीर नहीं होने पर हम प्रवक्ता दानिश रिजवान ने कहा कि लोक जनशक्ति पार्टी के सुप्रीमो चिराग पासवान ने अस्पष्ट लहजे में कहा है कि वो बिहार सरकार में शामिल नहीं है। (एएनआई)

Bihar Assembly Election 2020: बिहार में सत्ताधारी एनडीए के सहयोगी दलों के बीच सबकुछ ठीक नहीं चल रहा। सत्ताधारी गठबंधन के जेडीयू और एलजेपी लगातार एक दूसरे के खिलाफ लगातार बयानबाजी कर रहे हैं। इधर महागठबंधन छोड़ मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के खेमे में जीतन राम मांझी के शामिल होने से दोनों दलों की बीच कड़वाहट और बड़ी गई है। ये कड़वाहट तब और बढ़ती नजर आई जब हम प्रमुख मांझी ने एक नया चुनावी पोस्टर जारी कर दिया।

नए पोस्ट में जीतन राम मांझी की बड़ी तस्वीर लगी है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और सीएम नीतीश कुमार की तस्वीर भी लगी है। हालांकि बिहार एनडीए का हिस्सा एलजेपी प्रमुख चिराग पासवान या केंद्रीय मंत्री राम विलास पासवान की तस्वीर नहीं लगी है। जारी हुए पोस्ट में लिखा गया है कि ‘फर्स्ट बिहार नीतीश कुमार, हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा (हम) के एनडीए में शामिल होने पर बधाई।

पोस्टर में एलजेपी नेताओं की तस्वीर नहीं होने पर हम प्रवक्ता दानिश रिजवान ने कहा कि लोक जनशक्ति पार्टी के सुप्रीमो चिराग पासवान ने अस्पष्ट लहजे में कहा है कि वो बिहार सरकार में शामिल नहीं है वो नीतीश कुमार जी के विरोध में खड़े हैं। वैसी स्थिति में मुझे उनकी पोस्टर में कोई जरूरत नहीं लगी।

Bihar Election 2020 Live Updates

अब ताजा घटनाक्रम को देखते हुए आज लोजपा की संसदीय बोर्ड की बैठक की अहमियत बढ़ गई है। बता दें कि आज दिल्ली में 2 बजे से लोक जनशक्ति पार्टी बिहार प्रदेश की संसदीय बोर्ड की बैठक होगी। बैठक में पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष चिराग पासवान मौजूद रहेंगे। बैठक में बिहार विधानसभा चुनाव की तैयारियों और जीतन राम मांझी के एनडीए में आने के बाद के हालात पर चर्चा होगी।

चिराग पासवान ने हाल में सीएम नीतीश पर दलित समुदाय से किए गए वादे पूरे नहीं करने का भी आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि ये वही सरकार है जिसने दलित परिवारों को तीन डेसीमल जमीन देने का वादा किया था। दलितों में इस बात की नाराजगी है कि अभी तक सरकार ने अपना वादा पूरा नहीं किया है। चिराग ने कहा कि लोग मुझे फोन करके पूछ रहे हैं कि क्या दलितों की हत्या पर परिजनों को मिलने वाली नौकरी भी चुनावी स्टंट तो नहीं है।

Next Stories
1 आत्म सम्मान पर आती है बात तो न करता हूं तलाश, न परवाह, खुद ही ठोंक दूंगा…बोले BJP सांसद
2 बिहार चुनाव: NDA की खटपट जारी: चिराग ने नीतीश को लिखा कड़ा खत, एक साल में सीएम से LJP अध्यक्ष की एक ही बार बात
3 गोरखपुर के डॉ. कफील खान के कांग्रेस में जाने अटकल, रिहाई के बाद प्रियंका गांधी ने की थी बात
चुनावी चैलेंज
X