X

Bhopal Lockdown Guidelines: जिले में कौन आ सकता है और कौन नहीं, जानिए ई-पास से जुड़ी जरूरी बातें

प्रशासन की तरफ से जारी आदेशों के मुताबिक टोटल लॉकडाउन की स्थिति में भोपाल जिले के अंदर आवागमन, अन्य स्थान से जिले में आना और यहां से बाहर जाना प्रतिबंधित है।

कोरोना वायरस संक्रमण के चलते मध्य प्रदेश के भोपाल में शनिवार से 10 दिनों के लिए लॉकडाउन लागू कर दिया गया है। भोपाल जिले की सभी सीमाएं सील कर दी गई हैं। ऐसे में आपको कुछ जरूरी बातें हैं जो जाननी चाहिए। भोपाल में आने जाने के लिए इन दस दिनों के दौरान ई-पास की जरूरत होगी। अगर आप कहीं बाहर से भोपाल में प्रवेश कर रहे हैं तो आपको ई-पास लेने की जरूरत है।

प्रशासन की तरफ से जारी आदेशों के मुताबिक टोटल लॉकडाउन की स्थिति में भोपाल जिले के अंदर आवागमन, अन्य स्थान से जिले में आना और यहां से बाहर जाना प्रतिबंधित है। बहुत जरूरी कार्य होने पर ही ई-पास के जरिए आवागमन किया जा सकता है।ई-पास के लिए आप www.mapit.gov.in/covid-19 पर जाकर आवेदन कर सकते हैं। यहां जाकर मांगी गई जानकारी भरें और इसके बाद ई-पास की प्रक्रिया स्वत: पूरी हो जाएगी और ई-पास जारी हो जाएगा।

किन लोगों को ई-पास से छूट: ई-टिकट से रेलयात्रा या हवाई यात्रा करने वाले यात्रियों को इससे छूट मिलेगी। इसके अलावा, अत्यावश्यक सेवा संबंधी विभागों/कार्यालयों के कर्मचारियों के आवागमन के दौरान इन्हें वैध आईडी कार्ड रखना होगा।

क्या-क्या खुले रहेंगे: जिले की डेयरी दुकानें, मेडिकल स्टोर और अस्पताल खुले रहेंगे। पीडीएस दुकानों से टोकन सिस्टम के जरिए हर दिन राशन बंटेगा। पेट्रोल पंप, गैस एजेंसी, गैस डिपो खुले रहेंगे और गैस सिलेंडर की सप्लाई भी जारी रहेगी। शासकीय कार्यालय 25 से 30 प्रतिशत क्षमता के साथ खुलेंगे।  लॉकडाउन के दौरान रेलवे स्टेशन और एयरपोर्ट से आवागमन में छूट रहेगी।

ये रहेगा बंद:  लॉकडाउन के दौरान जिले में मिठाई की दुकानें निजी बसें, टैक्सी, ऑटो-रिक्शा का संचालन पूरी तरह से बंद रहेगा। इसके साथ ही सिनेमा हॉल, स्वीमिंग पूल, पार्क, बार पर भी प्रतिबंध है। आम लोगों को भी घर से बिना आवश्यक कार्य निकलने पर भी प्रतिबंध रहेगा। इसके अलावा सार्वजनिक स्थानों पर थूकना, शराब, पान और गुटखा का सेवन प्रतिबंधित रहेगा।

बता दें कि मध्य प्रदेश में शनिवार को कोरोना के 716 नए  मामले और 8 मौतें दर्ज की गई। 799 मौतें और 7,639 सक्रिय मामलों सहित कुल मामलों की संख्या 26,926 हो गई है।

Next Story