ताज़ा खबर
 

भोपाल गैंगरेप: रात 8 बजे के बाद कोचिंग सेंटर बंद करने की तैयारी में शिवराज सरकार

मध्यप्रदेश के स्कूल शिक्षा राज्य मंत्री दीपक जोशी ने कहा कि हम इस संबंध में कोचिंग इंस्टीट्यूट एवं निजी शिक्षा केन्द्रों के संचालकों के साथ शीघ्र ही बैठक करेंगे।

Author भोपाल | November 6, 2017 21:15 pm
प्रतीकात्मक तस्वीर।

भोपाल में 31 अक्टूबर को कोचिंग क्लास से घर लौट रही छात्रा के साथ हुए सामूहिक बलात्कार की घटना के बाद मध्यप्रदेश सरकार कोचिंग इंस्टीट्यूट एवं निजी शिक्षा केन्द्रों को रात आठ बजे तक बंद करवाने पर विचार कर रही है। मध्यप्रदेश के स्कूल शिक्षा राज्य मंत्री दीपक जोशी ने ‘पीटीआई-भाषा’ को सोमवार को बताया, ‘‘हम इस संबंध में कोचिंग इंस्टीट्यूट एवं निजी शिक्षा केन्द्रों के संचालकों के साथ शीघ्र ही बैठक करेंगे।’’ उन्होंने कहा कि जो कोचिंग इंस्टीट्यूट एवं निजी शिक्षा केन्द्रों के संचालक रात आठ बजे के बाद अपने संस्थानों को खुला रखेंगे, उनमें कोचिंग कर रहे छात्र-छात्राओं को रात में उनके घर तक आने की सुरक्षा की जिम्मेदारी कोचिंग संचालकों की तय की जाएगी।

जोशी ने बताया, ‘‘स्मार्ट फोन के जरिए ये कोचिंग इंस्टीट्यूट एवं निजी शिक्षा केंद्र मोबाइल ऐप के जरिए हर छात्र की हर मूवमेंट पर नजर रखें। हम उनसे कहेंगे कि अपने छात्रों की लोकेशन ट्रैक करने का कोचिंग संचालक प्रणाली बनाएं।’’ उन्होंने कहा, ‘‘हमारी आईटी टीम ने सलाह दी है कि रात आठ बजे के बाद स्मार्टफोन के जरिए छात्र-छात्राओं पर नजर रखना कठिन काम नहीं है।’’ गौरतलब है कि भोपाल में 31 अक्तूबर को 19 वर्षीय छात्रा का कोचिंग क्लास से घर लौटते वक्त चार बदमाशों ने अपनी हैवानियत का शिकार बनाया था।

इस घटना को सरकार ने गंभीरता से लेते हुए पुलिस प्रशासन में दो आईपीएस अधिकारियों सहित तीन पुलिस अधिकारियों का तबादला किया और तीन पुलिस थाना प्रभारियों सहित पांच पुलिसकर्मियों को निलंबित किया था। गौरतलब है कि सामूहिक दुष्कर्म की पीड़ित छात्रा ने हाल ही में आरोपियों को चौराहे पर फांसी की सजा देने की मांग की है। उसका कहना है कि पुलिस का रवैया ठीक नहीं है। राजधानी के हबीबगंज क्षेत्र में पीड़िता एक नवंबर की रात को कोचिंग से लौट रही थी, तभी उसके साथ चार युवकों ने सामूहिक दूष्कर्म किया। पीड़ित युवती जब थाने शिकायत दर्ज करने गई तो उसे एक से दूसरे थाने भगाया गया। इससे पीड़िता काफी आहत है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App