ताज़ा खबर
 

Bhopal Boat Tragedy in Ganesh Visarjan: खुद की जान जोखिम में डाल बचाई थी 8 जिंदगियां, कमलनाथ सरकार ने किया सम्मानित

Bhopal Ganesh Visarjan: भोपाल जिला प्रशासन ने नितिन बाथम को 50,000 रुपए का इनाम देकर सम्मानित किया और उसे वीरता पुरस्कार देने की सिफारिश की। प्रशासन ने इसके अलावा नितिन को सरकारी नौकरी दिलाने का वादा भी किया।

Author भोपाल | Published on: September 15, 2019 1:36 PM
भोपाल नौका हादसे में आठ लोगों की जान बचाने वाले नितिन बाथम फोटो सोर्स- @DeepYad39764575

भोपाल में गणपति विसर्जन के दौरान हुए नौका हादसे के दौरान आठ लोगों की जान बचाने वाले 28 वर्षीय नितिन बाथम को जिला प्रशासन ने शनिवार को 50 हजार रुपए इनाम प्रदान किया। भाजपा ने नितिन के इस साहसिक कदम के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एवं मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ से नितिन बाथम को वीरता पुरस्कार एवं नौकरी दिलाए जाने की मांग की थी। इसके कुछ ही घंटे बाद भोपाल जिला प्रशासन ने नितिन बाथम को 50,000 रुपए का इनाम देकर सम्मानित किया और उसे वीरता पुरस्कार देने की सिफारिश की। प्रशासन ने इसके अलावा नितिन को सरकारी नौकरी दिलाने का वादा भी किया।

नौका हादसे में बचाई जानः मध्यप्रदेश भाजपा प्रवक्ता राहुल कोठारी ने ट्विटर पर नितिन बाथम की फोटो शेयर करते हुए लिखा, ‘‘भोपाल हादसे में आठ लोगों की जान बचाने वाले ये हैं ‘नितिन बाथम’। दूसरी नाव से लटककर बाकी लोगों को सहारा देकर मिनटों में बचाया।’’ उन्होंने लिखा, ‘‘आदरणीय नरेंद्र मोदी जी एवं कमलनाथ जी से अनुरोध है कि इन्हें वीरता पुरस्कार एवं नौकरी देकर हौसला बढ़ाएं।’’इस ट्वीट के कुछ ही घंटे बाद भोपाल जिले के कलेक्टर तरूण पिथोड़े ने नितिन बाथम को यहां 50,000 रुपए का इनाम देकर सम्मानित किया। नितिन को यह राशि चेक के जरिए दी गई।
National Hindi News 15 September 2019 LIVE Updates: दिन भर की बड़ी खबर के लिए यहां क्लिक करें

नौकरी दिए जाने के लिए राज्य सरकार को भेजा प्रस्तावः इसी बीच, मध्यप्रदेश जनसंपर्क विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि नितिन बाथम को सरकारी नौकरी दिए जाने के लिए राज्य सरकार को एक प्रस्ताव भी भेजा जा रहा है। उन्होंने कहा कि वीरता पुरस्कार के लिए उसके नाम की सिफारिश भी की जाएगी। वहीं, नितिन बाथम ने मीडिया से कहा, ‘‘मैंने आठ लोगों की जान बचाई। काश मैं कुछ और लोगों की भी जान बचा पाता तो कितना अच्छा होता।’’ बाथम ने कहा, ‘‘हादसे के वक्त मैं छोटा तालाब के किनारे पर था और वहां गणपति प्रतिमाओं को विसर्जित करने के कार्यक्रम को देख रहा था। इसी बीच, नाव डूबने लगी और चीख पुकार मचने लगी। लोग बचाने की गुहार लगा रहे थे। लोगों को डूबते देख मैं वहां मौजूद एक नाव चलाकर मौके पर पहुंचा और छटपटा रहे युवक मेरी नाव में सवार हो गये। मैंने आठ लोगों की जान बचाई।’’

मछली बेचने का काम करते हैं नितिनः बाथम ने कहा कि वह गरीब परिवार से आते हैं और शहर के छोला इलाके में फुटपाथ पर मछलियां बेचने का काम करते हैं। छोला इलाका हादसा स्थल छोटा तालाब से करीब पांच किलोमीटर दूर है। बाथम ने कहा, ‘‘मैंने बचपन में ही तैरना सीख लिया था और नाव चलाना भी मुझे आता है।’’उल्लेखनीय है कि भोपाल स्थित छोटे तालाब के खटलापुरा घाट पर शुक्रवार तड़के भगवान गणेश की एक विशाल प्रतिमा के विसर्जन के दौरान दो नावों के पलटने से 11 लोगों की डूबने से मौत हो गई। ये सभी पिपलानी इलाके के सौ क्वार्टर बस्ती के रहने वाले थे। बाथम ने इस दौरान आठ लोगों की जान बचाई थी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 आजम के समर्थन में उतरे अखिलेश यादव, कहा- सत्ता में आए तो सभी मुकदमे लिए जाएंगे वापस, BJP फैला रही डर और नफरत
2 शरद पवार ने की पाकिस्तानियों की जमकर तारीफ, कहा- यहां राजनीतिक फायदे के लिए सत्ता पक्ष फैला रहा झूठ
3 हिंदी दिवस: अमित शाह के बयान पर भड़के DMK चीफ स्टालिन, कहा- ‘ये India है Hindia नहीं’