योगी पर बरसे भीम आर्मी के चंद्रशेखर, बोले- मुख्यमंत्री चाहे कितनी भी बजा लें ताली, सच तो ये है खाली है गरीब की थाली

उत्तर प्रदेश में अगले कुछ महीनों में विधानसभा चुनाव होने हैं। इन चुनावों से पहले राजीनितिक दलों के बीच टीका टिप्पणी का दौर तेज हो चला है। भीम आर्मी के प्रमुख चंद्रशेखर ने सीएम योगी के विकास के दावों को खोखला बताया है।

chandrashekhar Ravan
भीम आर्मी प्रमुख चंद्रशेखर आजाद रावण (File/Indian Express)

उत्तर प्रदेश में अगले कुछ महीनों में विधानसभा चुनाव होने हैं। इन चुनावों से पहले राजीनितिक दलों के बीच टीका टिप्पणी का दौर तेज हो चला है। भीम आर्मी के प्रमुख चंद्रशेखर ने सीएम योगी के विकास के दावों को खोखला बताया है। समाचार चैनल न्यूज 24 के कॉनक्लेव ‘मंथन’ में एंकर मानक गुप्ता से बात करते हुए चंद्रशेखर ने कहा कि उत्तर प्रदेश की सरकार अपना प्रचार करते हुए खुद को एक नंबर और दो नंबर बता रही है लेकिन हकीकत ये है कि यूपी बेरोजगारी में एक नंबर है, भ्रष्टाचार में एक नंबर, NCRB का डाटा कहता है कि दलित उत्पीड़न, महिला उत्पीड़न और अपराध में यूपी नंबर वन है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री चाहे कितनी भी ताली बजा लें लेकिन सच तो यह है कि गरीबों की थाली खाली है।

चंद्रशेखर ने कार्यक्रम की शुरुआत में खुद को दलित नेता कहे जाने पर आपत्ति जताते हुए कहा कि वह दलितों के नहीं बल्कि हर गरीब के नेता हैं। उन्होंने कहा कि हमें नेता नहीं कहें, क्योंकि नेता तो धोखा देते हैं। बकौल चंद्रशेखर, चुनावों से पहले बड़े-बड़े ऐलान किए जाते हैं लेकिन चुनाव के बाद बताते हैं कि वह तो एक जुमला था। मायावती से जुड़े सवाल पर चंद्रशेखर ने कहा कि वह मानती नहीं है कि हमारा उनके साथ कोई रिश्ता है लेकिन सामाजिक तौर पर हमारे और उनके बीच एक रिश्ता है, जिसे हम मानते हैं। उन्होंने कहा कि मायावती के पास कांशीराम की राजनीतिक विरासत है और मेरे पास उनकी सैद्धांतिक विरासत है। उन्होंने कहा कि मायावती के मुझे ‘कुछ’ मान लेने से उत्तर प्रदेश का कोई भला नहीं होने वाला है।

भीम आर्मी ने स्वीकार करते हुए कहा कि हम इस बार चुनाव में उतरने जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि अब तक हम मैदान के बाहर से खेल देखते थे अब मैदान में उतरेंगे, कितनी ताकत है यह समय तय करेगा। जब उनसे सीटों की गिनती पर सवाल पूछा गया तो चंद्रशेखर ने कहा कि हम सारी सीटों पर भी चुनाव लड़ सकते हैं। गठबंधन पर उठे सवालों पर उन्होंने घुमावदार जवाब देते हुएकहा कि हम व्यापार की राजनीति को रोकने आए है, अमीरों की राजनीति में गरीबों को जगह दिलाने आए हैं। चंद्रशेखर ने गठबंधन के सवाल पर अपनी तरफ से प्रश्न उठाते हुए कहा कि क्या गठबंधन की सरकारों से युवाओं को रोजगार मिलेगा?

यूपी चुनाव पर हो रही चर्चा के दौरान चंद्रेशखर से जब अखिलेश यादव और कांग्रेस के साथ गठबंधन को लेकर सवाल किया गया तो उन्होंने कहा कि अभी हम लोगों के बीच जा रहे हैं, उन्हें बता रहे हैं कि योगी सरकार दलितों की 20 हजार नौकरियां खा गई। उन्होंने बताया कि हम महिला सुरक्षा, एजुकेशन में प्राइवेट सेक्टर के बढ़ते दखल और किसानों की कर्ज माफी का मुद्दा उठाएंगे, क्योंकि तीनों ही जगह बराबरी नहीं दी जा रही है।

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के पूर्व सहयोगी दल सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के अध्यक्ष पूर्व मंत्री ओम प्रकाश राजभर ने पिछले दिनों यह दावा किया था कि भीम आर्मी के मुखिया चन्द्रशेखर उर्फ रावण उनकी अगुवाई वाले ‘भागीदारी संकल्प मोर्चा’ में शामिल होने के लिए राजी हो गए हैं और 27 अक्टूबर को मऊ जिले में होने वाली रैली में इसकी औपचारिक घोषणा की जाएगी।

पढें राज्य समाचार (Rajya News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट