ताज़ा खबर
 

भागलपुर: Coronavirus के चलते डीएम ने मुस्लिम धार्मिक गुरुओं से की सामूहिक नमाज अदा न करने की अपील

खानगाह या मस्जिद से इस बात का ऐलान करने को उन्हें कहा गया कि वे नमाज अदा करने वालों से अनुरोध करें कि वे घरों से ही इवादत करे। क्यों कि कोरोना संक्रमण को रोकने का एक मात्र उपाय सावधानी बरतना है। अपने को भीड़ से पृथक कर इससे बचा जा सकता है।

फोटो- भागलपुर के ज़िलाधीश प्रणब कुमार प्रेस कांफ्रेंस करते हुए। बगल में नगर आयुक्त आईएएस प्रियदर्शनी है। और एसडीओ आशीष नारायण।

भागलपुर के ज़िलाधीश प्रणब कुमार ने प्रेस कांफ्रेंस कर बताया कि मुसलिम धार्मिक गुरुओं के साथ बैठक कर से उनसे सामूहिक तौर पर नवाज अदा न करने की अपील की गई है। खानगाह या मस्जिद से इस बात का ऐलान करने को उन्हें कहा गया कि वे नमाज अदा करने वालों से अनुरोध करें कि वे घरों से ही इवादत करे। क्यों कि कोरोना संक्रमण को रोकने का  एक मात्र उपाय सावधानी बरतना है। अपने को भीड़ से पृथक कर इससे बचा जा सकता है।

ज़िलाधीश ने कहा कि पर्व-त्योहार भी व्यापक पैमाने पर नहीं मनाए जा सकेंगे। उनका मतलब सामने रामनवमी त्योहार से था। उन्होने आगे कहा कि ऐसे आयोजनों को सामूहिक तौर पर मनाने की छूट ऐसे हालात में नहीं दी जा सकती। डीएम ने हिंदू धर्म के लोगों के साथ भी बैठक की।

इधर कोरोना संक्रमण को लेकर  बिहार को लाकडाउन करने के आदेश की भागलपुर में धज्जियां उड़ रही है। सार्वजनिक वाहन ऑटो, ई-रिक्शा, माल ढोने वाले वाहन सड़कों पर दौड़ रहे है। लोग भी घरों से निकल सरकार की अपील का मजाक उड़ा रहे है। सब्जीमंडी में उमड़ी भीड़ घातक बन रही है। इससे संक्रमण फैलने का खतरा बना है।  इस सवाल पर    ज़िलाधीश ने  सख्ती बरतने की बात कही है। उनका कहना था कि 22 मार्च को जनता कर्फ्यू था। इसके बाद बिहार को लाकडाउन करने की सूचना आधिकारिक तौर पर मिली। लोगों तक संदेश सुबह पहुंचा। बाजार तो बंद है। मगर लोग लाकडाउन का मतलब नहीं समझ रहे।

इसके लिए प्रेस कांफ्रेंस में मौजूद एसएसपी आशीष भारती को सख्ती से पालन कराने की हिदायत दी। ज़िलाधीश ने साथ ही कहा कि लोग घरों में अपने को कैद कर कोरोना संक्रमण को रोकने में खुद और सरकार की मदद करें।

ज़िलाधीश ने इस बात पर राहत की सांस ली कि भागलपुर में अबतक कोरोना संक्रमण का एक भी पोजेटिव रिपोर्ट वाला मरीज नहीं है। ऐसे जवाहरलाल नेहरू भागलपुर मेडिकल कालेज अस्पताल में 130 बिस्तर, नौगछिया,कहलगांव और सदर अनुमंडल अस्पताल में 30-30 बिस्तर यानी ज़िले में 220 बिस्तर वाले  मरीजों के वास्ते पृथक वार्ड बनाए गए है। चार वाहनों के साथ डॉक्टरों की टीम मौजूद है। खबर मिलते ही मरीज के उपचार का इंतजाम किया जा रहा है। फिर भी गांवों में इसे फैलने से रोकने के लिए प्रखंड व  पंचायतों को साफ-सफाई रखने के लिए जागरूकता अभियान चलाने का निर्देश दिया है।

ज़िलाधीश कुमार ने प्रेस कांफ्रेंस में इस बात पर बार-बार जोर दिया कि सावधानी-सतर्कता जरूरी है। आवागमन बहुत जरूरी होने पर ही करे। सार्वजनिक वाहन बंद है। निजी वाहनों का इस्तेमाल भी कम से कम हो। इस बात का लोगों को ध्यान रखना चाहिए।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App। जनसत्‍ता टेलीग्राम पर भी है, जुड़ने के ल‍िए क्‍ल‍िक करें।

Next Stories
1 पंजाब और पुडुचेरी के बाद अब महाराष्ट्र में आधी रात से कर्फ्यू , ठाकरे ने कहा – सार्वजनिक स्थलों पर भीड़ को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा
2 अन्य राज्यों से लौट रहे बिहारवासियों को उनके गांव के स्कूलों और पंचायत भवनों में रखा जाएगा
3 सीएम अरविंद केजरीवाल बोले- सभी लोग सख्ती से करें लॉकडाउन का पालन, नहीं तो होगी कार्रवाई
ये पढ़ा क्या?
X