ताज़ा खबर
 

कांग्रेस विधायक को बर्थडे विश कराने के लिए स्कूल ने बच्चों को दो घंटे धूप में किया खड़ा

बेंगलुरु में विधायक जी का जन्मदिन स्कूल के बच्चों के लिए सजा का दिन बन गया।
तस्वीर का इस्तेमाल प्रतीकात्मक तौर पर किया गया है।

बेंगलुरु में विधायक जी का जन्मदिन स्कूल के बच्चों के लिए सजा का दिन बन गया। बच्चों से कहा गया कि उन्हें विधायक जी को जन्मदिन की शुभकामनाएं देने के लिए जाना है। इसके बाद करीब 2 घंटे तक बच्चे धूप में खड़े विधायक जी का इंतजार करते रहे। द न्यू इंडियन एक्सप्रेस की खबर के मुताबिक शांतिनगर विधानसभा सीट से कांग्रेस विधायक एनए हरीश का शुक्रवार (12 जनवरी) को जन्मदिन था। विधायक ने शांतिनगर स्थित स्कूलों को निर्देश दिए थे कि बच्चों को जन्मदिन के कार्यक्रम वाली जगह पर भेजा जाए। जिन बच्चों ने आने में असमर्थता जताई, उन्हें वाहन से ले जाया गया। बच्चों को फ्री लंच और स्कूल बैग देने की घोषणा की गई थी, लेकिन वे सुबह से भूखे-प्यासे कड़ी धूप में डटे रहे। आखिरकार दोपहर एख बजे मिले बच्चों को लंच दिया गया।

ज्यादातर बच्चे सुबह साढ़े 10 बजे ही गरुढ़ मॉल के सामने पुलिस हॉकी मैदान में पहुंच चुके थे। बच्चों को लंच विधायक जी के पहुंचने के बाद ही दिया गया। विधायक जी ने अपने हाथों से बच्चों को लंच और स्कूल बैग दिए। स्कूल के एक टीचर ने गुस्सा जाहिर करते हुए कहा अगर विधायक जी को बैग बांटने ही थे तो इसके लिए उन्हें स्कूल आना चाहिए था, न कि यहां बुलाना चाहिए था। एक टीचर ने हरीश के बचाव में कहा कि अगर बच्चे विधायक जी के जन्मदिन के कार्यक्रम में शामिल हो रहे हैं तो इसमें गलत क्या है? उन्हें इसके बदले लंच और स्कूल बैग मिल रहे हैं। करीब 5000 स्कूल बैग कार्यक्रम में बांटे गए।

कक्षा 6 के एक छात्र ने बताया कि इस कार्यक्रम के बारे में पहले से कोई जानकारी नहीं दी गई थी। छात्र रोज की ही तरह स्कूल पहुंचे थे लेकिन उनके टीचर ने उन्हें जन्मदिन वाले मैदान में जाने को कहा। इससे छात्रों में नराजगी है। एक और स्कूल के छात्र ने बताया कि उसके स्कूल में सुबह की प्रार्थना के वक्त बताया गया था कि जन्मदिन के कार्यक्रम में जाना है। वाहनों से छात्रों को मैदान में लाया गया। लेकिन उनके आने से भी फंक्शन का कोई मतलब नहीं रहा। वे आए और बस बैठे रहे।

विधायक एनए हरीश से जब इस बारे में मीडिया ने जानने की कोशिश की तो उन्होंने कहा कि कोई मुद्दा ही नहीं है। उन्होंने कहा- आपकी समस्या क्या है? जब मैं जन्मदिन मनाता हूं तो लोग हर साल मुझे शुभकामनाएं देने आते हैं। बच्चे मुझे शुभकामनाएं देने आते हैं और मैं उन्हें उपहार के तौर पर बैग देता हूं। लेकिन जब विधायक जी से पूछा गया कि स्कूलों ने खुद बच्चों को भेजा था या उनके कहने पर बच्चे आए थे, इस पर हरीश ने फोन काट दिया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.