ताज़ा खबर
 

सीआरपीएफ ट्रेनिंग सेंटर का हाल: न फायरिंग रेंज, न बाउंड्री वॉल; पुलवामा अटैक से पहले भी अफसरों ने हेडक्वॉर्टर को लिखी थी चिट्ठी

सीआरपीएफ के काउंटर टेरर ट्रेनिंग कैंप की हालत काफी ज्यादा खराब है। सेना के एक वरिष्ठ अधिकारी इस संबंध में मुख्यालय को नवंबर 2018 से जनवरी 2019 तक कई बार पत्र लिख चुके हैं। इसके बावजूद कोई कदम नहीं उठाया गया।

प्रतीकात्मक तस्वीर।

जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में आतंकी हमले में 40 जवानों की शहादत के बाद सीआरपीएफ लगातार सुर्खियों में है। दावे तमाम किए जा रहे हैं, लेकिन आतंकवाद और हिंसा जैसी स्थिति से निपटने वाले इस संगठन का ट्रेनिंग कैंप खुद बदहाल है। इनके ट्रेनिंग सेंटर में न तो फायरिंग रेंज है और न ही बाउंड्री वॉल। साथ ही, कोई स्थायी स्ट्रक्चर भी नहीं बना हुआ है।

कई बार लेटर लिखे, नहीं हुआ समाधान : पिछले 4 साल में यहां 150 ट्रेनिंग और प्रशासनिक कर्मचारियों की तैनाती की गई, लेकिन वह भी सिर्फ भर्ती के तौर पर। इनमें से एक भी काउंटर इनसर्जेंसी एंड एंटी टेरेरिज्म (CIAT) कोर्स से संबंधित नहीं है। इस संबंध में नवंबर 2018 और जनवरी के बाद एक वरिष्ठ अधिकारी ने सीआरपीएफ मुख्यालय को कई बार पत्र भेजे और ट्रेनिंग सेंटर की स्थिति के बारे में जानकारी भी दी। हालांकि, इसका कोई नतीजा नहीं निकला।

Next Stories
1 DDA Housing Scheme 2019: महंगे होने के बाद भी नरेला से ज्यादा वसंत कुंज में लोगों का इंट्रेस्ट, जानें वजह
2 दलित शिक्षक ने 4 टीचरों पर लगाया भेदभाव करने का आरोप, पीड़ित की पीएचडी कैंसल करने में जुटा IIT Kanpur
3 दिल्ली मेरी दिल्ली: भाजपा का ‘सपना’
ये पढ़ा क्या?
X