ताज़ा खबर
 
  • राजस्थान

    Cong+ 95
    BJP+ 80
    RLM+ 0
    OTH+ 24
  • मध्य प्रदेश

    BJP+ 111
    Cong+ 110
    BSP+ 4
    OTH+ 5
  • छत्तीसगढ़

    Cong+ 59
    BJP+ 22
    JCC+ 9
    OTH+ 0
  • तेलांगना

    TRS-AIMIM+ 93
    TDP-Cong+ 19
    BJP+ 1
    OTH+ 6
  • मिजोरम

    MNF+ 25
    Cong+ 10
    BJP+ 1
    OTH+ 4

* Total Tally Reflects Leads + Wins

बीबीसी के ट्रेवल शो प्रस्तोता ने किया कथकली नृत्य

केन्या में हाथियों के साथ रह चुके और फिलीपींस के भीषण भूकम्प का मलबा हटा चुके बीबीसी के ‘द ट्रेवल शो’ के प्रस्तोता हेनरी गोल्डिंग ने यह तो कभी नहीं ही सोचा होगा कि वह एक दिन केरल की पारंपरिक नृत्य कला कथकली की प्रस्तुति देंगे।

Author कोच्चि | January 13, 2016 12:05 AM
बीबीसी के ‘द ट्रेवल शो’ के प्रस्तोता हेनरी गोल्डिंग। (फोटो-बीबीसी)

केन्या में हाथियों के साथ रह चुके और फिलीपींस के भीषण भूकम्प का मलबा हटा चुके बीबीसी के ‘द ट्रेवल शो’ के प्रस्तोता हेनरी गोल्डिंग ने यह तो कभी नहीं ही सोचा होगा कि वह एक दिन केरल की पारंपरिक नृत्य कला कथकली की प्रस्तुति देंगे। नए साल के अवसर पर जब गोल्डिंग भारत आए तो उन्होंने यहां शनिवार को कथकली की प्रस्तुति दी। संपादक माइक लंदन और निर्माता डॉक लाएक के साथ ‘द ट्रेवल शो’ की एक कड़ी की शूटिंग करने के दौरान गोल्डिंग मंच पर चढ़ गए और वहां दी जा रही प्रस्तुति का हिस्सा बन गए।

केरल पर्यटन की ओर से जारी एक विज्ञप्ति में कहा गया कि यह प्रस्तुति 18वीं सदी के नाटक ‘नरकासुर वधम’ से थी। इस नाटक को नियमित रूप से सांस्कृतिक समारोहों में पेश किया जाता है। समारोह का आयोजन बीबीसी टीम ने किया था, जो कि राज्य की संस्कृति और प्राकृतिक स्थलों का फिल्मांकन ‘द ट्रेवल शो’ के लिए करने आई थी।

यह नृत्य प्रस्तुति करने वाली सी इंडिया फाउंडेशन के पी के दीवान ने कहा कि प्रस्तुति के दौरान गोल्डिंग यह कोशिश करके देखना चाहते थे कि क्या वह एक कथकली नर्तक की तरह नृत्य कर सकते हैं? उन्होंने कोशिश की और वह ऐसा कर पाए।’ बीबीसी टीम के सदस्यों ने नाटक के किरदारों जयंत और ललिता की तरह नृत्य कर रहे गोल्डिंग को कैमरों में कैद कर लिया।

गोल्डिंग ने आंखों, पैरों और उंगलियों की भाव-भंगिमाएं भी बनाने की कोशिश की। उनकी इस प्रस्तुति की वहां मौजूद लोगों ने खूब सराहना की। विज्ञप्ति में कहा गया कि कथकली पर आधारित पहला कार्यक्रम दो सप्ताह में प्रसारित किया जाएगा।
दूसरा कार्यक्रम अप्रवाहित जल (बैकवॉटर) और नारियल के पेड़ों पर चढ़ने पर आधारित होगा और इसका प्रसारण फरवरी में होगा।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App