ताज़ा खबर
 

मोहल्ला क्लीनिक की पहल से प्रभावित हुए बान की मून

इस बीच सोशल मीडिया पर मोहल्ला क्लीनिको की बदहाली पर भी जमकर चर्चा हुई। आप के बागी नेता व पूर्व मंत्री कपिल मिश्र ने एक ट्वीट में लिखा कि टूटे-फूटे मोहल्ला क्लीनिकों में कहीं ताला लगा है तो कहीं जानवर हैं। उन्होंने आरोप लगाया कि कागज पर एक मिनट में चार मरीज देखे जाते हैं।

बान की मून और नॉर्वे की पूर्व प्रधानमंत्री ग्रो हर्लेम ब्रंटलैंड के साथ केजरीवाल।

संयुक्त राष्ट्र के पूर्व महासचिव बान की मून और नॉर्वे की पूर्व प्रधानमंत्री ग्रो हर्लेम ब्रंटलैंड ने शुक्रवार को दिल्ली की आम आदमी पार्टी (आप) सरकार के मोहल्ला क्लीनिक व पॉली क्लीनिक का दौरा कर वहां की सुविधाओं का जायजा लिया। उन्होंने इसे सराहनीय प्रयास व प्रतिबद्धता बताया। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन भी उनके साथ थे। इस मौके पर मुख्यमंत्री केजरीवाल ने बिना नाम लिए केंद्र सरकार पर परियोजना में बाधा डालने व असहयोगी रवैया अपनाने का आरोप लगाया। साथ ही उन्होंने कहा कि केंद्र सिर्फ हमें काम करने दे, हमें उससे ज्यादा बजट नहीं चाहिए। इस दौरान मुख्यमंत्री ने स्वास्थ्य बजट बढ़ा कर जीडीपी का 2.5 फीसद करने की बात भी कही।

संस्था दि एल्डर्स के प्रतिनिधि के तौर पर आए मून और ब्रंटलैंड ने पीरागढ़ी में मोहल्ला क्लीनिक और पश्चिम विहार इलाके में पॉलीक्लीनिक का मुआयना किया। इस दौरान दोनों ने लोगों की मांगें व समस्याएं भी सुनीं और इस पहल की जमकर सराहना की। दौरे के बाद एक संवाददाता सम्मेलन में मून ने कहा कि गरीबों और जरूरतमंदों को प्राथमिक स्वास्थ्य सेवा मुहैया कराने की केजरीवाल की प्रतिबद्धता व उनके इस नजरिए से वे बेहद प्रभावित और अभिभूत हैं। उन्होंने मोहल्ला क्लीनिक और पॉली क्लीनिक को प्राथमिक स्वास्थ्य देखभाल सेवा का बेहतरीन उदाहरण बताया और कहा कि मैंने दुनिया के कई देशों की स्वास्थ्य सेवाएं देखी हैं, लेकिन मोहल्ला क्लीनिक उनमें सबसे श्रेष्ठ लगे। मून ने कहा कि मैं उम्मीद करता हूं कि केंद्र सरकार की ओर से इसे और अधिक सहयोग मिलेगा।

इस दौरान केजरीवाल ने मून और ब्रंटलैंड को मोहल्ला क्लीनिकों की स्थापना में आर्इं अनेक राजनीतिक बाधाओं के बारे में भी बताया। उन्होंने कहा कि पिछले ढाई साल में अनेक बाधाओं के कारण हम कोई काम नहीं कर सके, लेकिन सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद उम्मीद है कि अगले कुछ महीनों में हम 1000 मोहल्ला क्लीनिक खोल पाएंगे। केजरीवाल ने कहा कि पहले दिल्ली में स्वास्थ्य सेवा पर कुल छह फीसद से भी कम बजट दिया जाता था, लेकिन उन्होंने दिल्ली का स्वास्थ्य बजट बढ़ा कर 12 फीसद से अधिक कर दिया है। विश्व स्वास्थ्य संगठन की महानिदेशक रह चुकीं ब्रंटलैंड ने कहा कि मोहल्ला क्लीनिक और पॉली क्लीनिक में होने वाले काम वाकई प्रभावित करने वाले हैं। उन्होंने कहा कि भारत सहित कई देशों में स्वास्थ्य सेवा का बजट बहुत कम है। भारत व इसके पड़ोसी देशों को स्वास्थ्य बजट बढ़ाना चाहिए। उन्होंने कहा कि दिल्ली की तरह केंद्र को भी स्वास्थ्य बजट बढ़ाना चाहिए।

इस बीच सोशल मीडिया पर मोहल्ला क्लीनिको की बदहाली पर भी जमकर चर्चा हुई। आप के बागी नेता व पूर्व मंत्री कपिल मिश्र ने एक ट्वीट में लिखा कि टूटे-फूटे मोहल्ला क्लीनिकों में कहीं ताला लगा है तो कहीं जानवर हैं। उन्होंने आरोप लगाया कि कागज पर एक मिनट में चार मरीज देखे जाते हैं। मोहल्ला क्लीनिकों की मरम्मत कर विदेशियों को झूठ दिखाया जा रहा है। हकीकत तो दिल्लीवाले ही जानते हैं।

मेहमानों के लिए सजाए गए मोहल्ला क्लीनिक

विधानसभा में विपक्ष के नेता विजेंद्र गुप्ता ने दिल्ली सरकार के मोहल्ला क्लीनिक के दावे को फर्जी बताया है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री केजरीवाल ने विदेशी मेहमानों को पीरागढ़ी के मोहल्ला क्लीनिक का दौरा करा के झूठी वाहीवाही लूटने की कोशिश की, लेकिन इस विशेष कार्यक्रम के लिए इनका महीनों से नवीनीकरण कराया जा रहा था। सारे मोहल्ला क्लीनिकों में स्टाफ की किल्लत और दवाओं की कमी के बावजूद विदेशी मेहमानों को प्रभावित करने के लिए इस मोहल्ला क्लीनिक में सभी सुविधाएं जुटाई गर्इं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App