ताज़ा खबर
 

Balakot Air Strike के बाद 43 फीसदी कम हुई घुसपैठ, आतंकी ठिकानों पर अटैक से सुधरे जम्मू-कश्मीर के हालात

गृह राज्य मंत्री ने कहा कि केंद्र सरकार ने सीमापार से आतंकवाद के प्रति कतई बर्दाश्त नहीं करने की नीति अपना रखी है। उन्होंने कहा कि भारत सरकार ने राज्य सरकार के साथ मिलकर सीमापार घुसपैठ को रोकने के लिए बहुआयामी उपाय किये हैं।

Author नई दिल्ली | July 10, 2019 3:40 AM
तस्वीर का प्रयोग प्रतीकात्मक तौर पर किया गया है। (एक्सप्रेस फाइल फोटो)

केंद्रीय गृह राज्यमंत्री नित्यानंद राय ने मंगलवार (9 जुलाई) को लोकसभा में कहा कि जम्मू-कश्मीर में सुरक्षा परिदृश्य में सुधार हुआ है और पाकिस्तान के आतंकी शिविरों पर सर्जिकल स्ट्राइक के बाद सीमा पर घुसपैठ के मामलों में 43 प्रतिशत की कमी आई है। राय ने जम्मू-कश्मीर में सीमापार से घुसपैठ के संबंध में एक पूरक प्रश्न के उत्तर में कहा, ‘सुरक्षा बलों के समन्वित प्रयासों से इस साल की पहली छमाही में 2018 की इसी अवधि की तुलना में राज्य में सुरक्षा हालात में सुधार हुआ है।’

‘आतंक के खिलाफ जीरो टॉलरेंस की नीति’: गृह राज्य मंत्री ने कहा कि केंद्र सरकार ने सीमापार से आतंकवाद के प्रति कतई बर्दाश्त नहीं करने की नीति अपना रखी है। उन्होंने कहा कि भारत सरकार ने राज्य सरकार के साथ मिलकर सीमापार घुसपैठ को रोकने के लिए बहुआयामी उपाय किये हैं। इनमें अंतरराष्ट्रीय सीमा तथा नियंत्रण रेखा (एलओसी) पर बहुस्तरीय तैनाती, सीमा पर बाड़ लगाना तथा खुफिया और परिचालन समन्वय में सुधार शामिल है।

बता दें कि इस साल जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में जैश-ए-मोहम्मद के आतंकियों ने सीआरपीएफ की बस पर हमला कर दिया था। इसमें 40 जवान शहीद हो गए थे। इसके कुछ दिनों बाद भारत ने पाकिस्तानी आतंकी ठिकानों पर एयर स्ट्राइक को अंजाम दिया था। भारत ने पाकिस्तान के बालाकोट स्थित आतंकी ट्रेनिंग कैंप्स को चंद मिनटों में पूरी तरह से तबाह कर दिया था। रिपोर्ट्स के मुताबिक उस हमले में करीब 250 से ज्यादा आतंकी मारे गए थे। इस एयर स्ट्राइक को लेकर बीते लोकसभा चुनाव में काफी हंगामा मचा था। वायुसेना की इस कार्रवाई को देशभर में काफी सराहना मिली थी। भारत ने मिराज 2000 विमानों के जरिये इस हमले को अंजाम दिया था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App