ताज़ा खबर
 

गुजरात: घरों में बंद रहने की धमकी नहीं मानी तो मुस्लिम महिला की उंगलियां काटी, बजरंग दल पर आरोप

अहमदाबाद में बजरंग दल कार्यकर्ता ने मुस्लिम महिला और बेटे पर हमला कर गंभीर रूप से घायल कर दिया। आरोप है कि उन्होंने महिला की अंगुलियां जहां काट दीं वहीं बेटे का हाथ तोड़ दिया। यह घटना गांधीनगर के छत्राल कस्बे की है।

Author नई दिल्ली | March 7, 2018 13:11 pm
प्रतीकात्मक फोटो

अहमदाबाद में बजरंग दल कार्यकर्ता ने मुस्लिम महिला और बेटे पर हमला कर गंभीर रूप से घायल कर दिया। आरोप है कि उन्होंने महिला की अंगुलियां जहां काट दीं वहीं बेटे का हाथ तोड़ दिया। यह घटना गांधीनगर के छत्राल कस्बे की है। बजरंग दल कार्यकर्ता ने महिला को घर से बाहर न निकलने की धमकी दी थी, बात न मानने पर उन्होंने हमला किया। मां-बेटे का अस्पताल में इलाज चल रहा है। कस्बे में तनाव को देखते हुए भारी पुलिस फोर्स तैनात की गई है। पुलिस लगातार गश्त कर रही है।
स्थानीय मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक इलाके में बवाल की शुरुआत पिछले साल छह दिसंबर को हुई थी। जब विवादित ढांचा विध्वंस की बरसी पर बजरंग दल कार्यकर्ताओं ने अल्पसंख्यक बाहुल्य इलाके से जुलूस निकालने की कोशिश की थी। इस दौरान दोनों समुदायों में विवाद पैदा हुआ था। तब से दोनों तरफ से रह-रहकर मामला गरमाता रहा। इस बीच बीते रविवार( पांच मार्च) और सोमवार को फिर दोनों पक्षों में तनातनी हुई। आरोप है कि बजरंग दल कार्यकर्ताओं ने 52 साल की रोशन बीवी सैय्यद और 32 वर्षीय बेटे फर्जन को घर में ही बंद रहने की धमकी दी। कहा कि बाहर निकले पर उनका बुरा हाल कर दिया जाएगा। जानवरों को चारा खिलाने के चलते जैसे ही मां-बेटे बाहर आए उन पर बजरंग दल कार्यकर्ताओं की ओर से हमला करने का आरोप है। धारदार हथियार से हुए हमले में रोशनबीवी सैय्यद का अंगूठा सहित तीन उंगलियां कट गईं। वहीं बेटे के हाथ में फ्रैक्चर आया। दोनों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है। रोशन बीवी की चिकित्सकों ने सर्जरी की।

रोशन बीवी के भतीजे असलम सैय्यद ने कहा- सोमवार की सुबह बजरंद दल कार्यकर्ताओं ने मां-बेटे को घर से बाहर न निकलने की धमकी दी थी। जब वे अपने घर के जानवरों को चराने के लिए बाहर निकले तो बजरंग दल कार्यकर्ताओं ने उन पर हमला कर दिया। असलम के मुताबिक भारवाड़ समुदाय के एक व्यक्ति ने बीच-बचाव कर उनकी जान बचाई। पुलिस का कहना है कि पीड़ितों के स्वस्थ होने के बाद उनके बयान लेने के साथ जांच शुरू होगी।

स्थानीय शख्स शरीफ मलिक ने कहा कि जिन लोगों ने मां-बेटे पर हमला किया, वे पहले भी सांप्रदायिक तनाव की घटनाओं से जुड़े रहे हैं। उंगली काटे जाने की घटना में पुलिस ने धारा 307 के तहत हत्या के प्रयास का मुकदमा दर्ज किया है। उधर गांधीनगर के एसपी वीरेंद्र सिंह यादव ने कहा कि जांच की जा रही है कि यह घटना सांप्रदायिक है या फिर निजी दुश्मनी की। एसपी ने कहा कि स्थानीय संभ्रांत लोगों की मीटिंग बुलाई जा रही है। ताकि किसी तरह की हिंसा भड़कने से रोकी जा सके।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App