ताज़ा खबर
 

केंद्रीय मंत्री बोले- मुस्लिम इसलिए असुरक्षित महसूस कर रहे क्‍योंकि वे जानते हैं वो जिहादी हैं

भाजपा सांसद और केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो ने कहा कि मुसलमान खुद को असुरक्षित महसूस करते हैं क्योंकि वे जानते हैं कि वे जिहादी तत्व हैं।

केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो (एक्सप्रेस फाइल फोटो)

पश्चिम बंगाल के आसनसोल से भाजपा सांसद और केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो ने मुसलमानों को लेकर कहा कि वे इसलिए खुद को असुरक्षित महसूस करते हैं, क्योंकि वे जानते हैं कि वो जिहादी हैं। टाइम्स नाऊ चैनल पर हिंदू इक्स्ट्रीमिजम डिबेट के दौरान ऐंकर ने कहा कि, “एक व्यक्ति जिसका विवादित बयान देने का इतिहास रहा है, उन्हें उत्तर प्रदेश का मुख्यमंत्री बनाया जाता है। यह एक फैक्ट है। एक मैगजीन में यह बताया गया कि 29 दिसंबर 2013 को बलरामपुर में एक सभा में वे कहते हैं कि मुसलमान आतंकवादियों को अपना संरक्षक मानते हैं। हिंदुओं को एकजूट होना चाहिए। इसक साथ ही उन्होंने हिंदू राष्ट्र बनाने की भी बात की। कैराना, लव जिहाद सहित कई मुद्दों को उठाया।” इस पर बाबुल सुप्रियों ने कहा कि आप हमें ऐसा कोई बयान बताएं जो उन्होंने मुख्यमंत्री बनने के बाद कहा। उनके पास नेतृत्व की क्षमता है। उसके उपर कोई सवाल नहीं उठाना चाहिए। आप अपने बच्चे को अपना व्यवसाय चलाने के लिए देते हैं, क्योंकि आप उन्हें जिम्मेवार बनाने चाहते हैं। उन्होंने ऐसा कुछ नहीं कहा जो उनके सीएम पोस्ट के अनुसार नहीं है।”

डिबेट के दौरान ऐंकर ने कहा कि, “बेशक हां, उनके बयान पर ध्यान दीजिए। उन्होनें कहा कि ‘भारत की समस्या कुपोषण और गरीबी नहीं है। भारत की समस्या जिहादियों के हित में किया जाने वाला वोट बैंक पॉलिटिक्स है। हिंदू समाज में सभी लोग सुरक्षित महसूस करते हैं। सभी माताएं और बहनें सुरक्षित महसूस करती हैं। यहां सभी की सुरक्षा की गारंटी है। यहां सभी धर्मों के लोग सुरक्षित महसूस करते हैं। लेकिन मुसलिम एरिया में कोई सुरक्षित महसूस क्यों नहीं करता? यहां एंटी-नेशनल गतिविधियां क्यों होती है? वे जिहादी समर्थकों और एंटी-इंडिया स्लोगन को स्थान क्यों देते हैं? यदि भारत और पाकिस्तान के बीच मैच होता है और भारत की जीत होती है तो वे उदास हो जाते हैं और भारत की हार पर खुशी जताते हैं।” इस पर भाजपा सांसद ने कहा कि, “यह सही बात है। मुसलमान खुद को असुरक्षित महसूस करते हैं क्योंकि वे जानते हैं कि वे जिहादी तत्व हैं। वे रोहिंग्या हैं, जो स्लम में रह रहे हैं। मैं आपको बंगाल के बारे में बता रहा हूं।”

इसके साथ ही इस डिबेट के दौरान केंद्रीय मंत्री ने कहा कि ममता बनर्जी खुलेआम तुष्टीकरण की राजनीति कर रही हैं। लिंचिंग पर उन्होंने कहा कि सभी हत्याओं का राजनीतिकरण नहीं करना चाहिए। कथित तौर पर गौ रक्षा के नाम पर किए गए सभी हत्याओं को भाजपा के साथ नहीं जोड़ना चाहिए।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App