‘बंगाल से दीदी के खिलाफ एक सीट तो लाकर दूंगा’, फ्लाइट में बाबा रामदेव के साथ हुई मुलाकात के बाद BJP में इस तरह शामिल हुए थे बाबुल सुप्रियो

योग गुरु बाबा रामदेव के साथ मुलाकात में बाबुल सुप्रियो ने यह दावा किया था कि वह 2014 के लोकसभा चुनावों में ममता बनर्जी ‘दीदी’ के खिलाफ कम से कम एक सीट तो जीतकर दे सकते हैं।

Babul Supriyo Baba Ramdev Mamata Banerjee
बाबुल सुप्रियो राजनीति में अपना गुरु बाबा रामदेव को मानते हैं, ममता बनर्जी के किले में सेंधमारी के लिए बीजेपी ने दिया था टिकट। Photo Source- Indian Express

पश्चिम बंगाल की राजनीति में शनिवार को एक बड़ा उलटफेर देखने को मिला। बाबुल सुप्रियो ने भारतीय जनता पार्टी का साथ छोड़, ममता बनर्जी की TMC का दामन थाम लिया। बाबुल सुप्रियो ने 2014 के लोकसभा चुनावों से पहले बीजेपी ज्वाइन की थी। एक कार्यक्रम में उन्होंने बताया था कि कैसे बाबा रामदेव से मुलाकात के बाद राजनीति में उनके लिए नए रास्ते बने थे। योग गुरु के साथ मुलाकात में सुप्रियो ने यह दावा किया था कि वह लोकसभा चुनावों में ममता बनर्जी ‘दीदी’ के खिलाफ कम से कम एक सीट तो जीतकर दे सकते हैं।

इंडिया टीवी के कार्यक्रम ‘आप की अदालत’ के एक एपिसोड में बाबुल सुप्रियो ने बताया था कि वह 2014 के चुनावों से पहले बाबा रामदेव से एक हवाई यात्रा के दौरान मिले थे। उन्होंने बताया कि मैं दिल्ली से एक शो करके वापस कोलकाता जा रहा था। फ्लाइट में मेरी पास वाली सीट पर बाबा रामदेव बैठे थे। रामदेव के सेक्रेटरी ने उन्हें बताया कि सुप्रियो एक सिंगर हैं और बॉलीवुड की कई फिल्मों में अपनी आवाज दे चुके हैं। तो हमारे बीच बातें होने लगीं।

कार्यक्रम में सुप्रियो बताते हैं कि मैंने देखा कि रामदेव के हाथ में एक पर्ची है और वह फोन पर लगातार किसी से बात कर रहे हैं, मैंने जब उनसे पर्ची के बारे में पूछा तो उन्होंने बताया कि इसमें उम्मीदवारों के नाम है। इस पर मजाक में बाबुल सुप्रियो ने उनसे कह दिया कि आप मेरा नाम इस लिस्ट में लिख लिजिए, मैं बहुत अच्छा आदमी हूं। मजाक में कही गई बात पर जब गंभीरता से चर्चा हुई तो बाबुल सुप्रियो ने योग गुरु को आश्वासन दिया कि पश्चिम बंगाल में दीदी के खिलाफ एक सीट तो कैसे भी जीत करके दूंगा। इसके बाद बाबा रामदेव ने अपने सेक्रेटरी से उनका मोबाइल नंबर लेने के लिए कहा।

कार्यक्रम में बाबुल सुप्रियो ने बताया कि इस मुलाकात के एक हफ्ते के बाद फोन आया, उन्होंने मुझसे इस दावे के बारे में पूछा गया। यहां बाबुल सुप्रियो ने फिर दोहराया कि आप अगर मुझे समर्थन देंगे तो मैं पश्चिम बंगाल से चुनाव लड़ूंगा और जीत कर भी दिखाउंगा। इसके बाद उन्हें बीजेपी ने आसनसोल सीट से टिकट दिया और वह 4 लाख 19 हजार वोट पाकर सांसद चुने गए, 2019 में भी वह इसी सीट से जीतने में कामयाब रहे थे। पश्चिम बंगाल चुनावों में मिली हार के बाद सुप्रियो के रिश्ते पार्टी के नेताओं के साथ बिगड़ने लगे थे।

हाल ही में केंद्रीय मंत्रिमंडल में फेरबदल के बाद सुप्रियो का दर्द, पार्टी के प्रति नजर आया था। हालांकि उन्होंने सन्यांस की घोषणा की थी लेकिन आज तमाम अटकलों के बीच ममता बनर्जी की टीम के सिपाही बन गए। TMC की सदस्यता लेते वक्त उनके साथ अभिषेक बनर्जी और डेरेक ओ’ब्रायन भी नजर आए।

पढें राज्य समाचार (Rajya News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट