ताज़ा खबर
 

बाबरी विध्वंस में शिवसैनिकों की भी भूमिका बताते थे बाल ठाकरे, अब कांग्रेस संग सत्ता में पार्टी

शिवसेना वर्तमान में कांग्रेस और एनसीपी संग महाराष्ट्र में सरकार चला रही है और पार्टी प्रमुख उद्धव ठाकरे राज्य के मुख्यमंत्री हैं।

babri masjidशिवसेना प्रमुख दिवंगत बाल ठाकरे। (पीटीआई)

सीबीआई की स्पेशल कोर्ट 1992 में मुगलकालीन बाबरी मस्जिद ढहाए जाने के मामले पर फैसला बुधवार यानी आज सुनाएगी। इस मामले में भाजपा के वरिष्ठ नेता लाल कृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी सहित 32 आरोपी हैं। बाबरी विध्वंस में शिवेसना चीफ दिवंगत बाल ठाकरे भी पार्टी कार्यकर्ताओं की भूमिका बताते थे। हफिंगटन पोस्ट ने अपनी एक खबर में लिखा है कि शिवसेना चीफ कभी विध्वंस स्थल पर मौजूद नहीं रहे, मगर माना जाता है कि वो बाबरी गिराने की साजिश का हिस्सा थे।

बाल ठाकरे ने भी खुद दावा किया था कि उनके संगठन ने मस्जिद को गिराने में अहम भूमिका निभाई थी। शिवसेना के संस्थापक बाल ठाकरे को उनकी ‘सांप्रदायिक’ राजनीति के लिए जाना जाता था और उन्होंने मस्जिद विध्वंस की तारीफ भी की थी। कोबरापोस्ट की एक रिपोर्ट में कहा गया कि शिवसैनिको को वास्तव में मस्जिद गिराने की ट्रेनिंग दी गई थी। विश्व हिंदू परिषद (वीएचपी) और शिवसेना (दोनों ने संयुक्त रूप से नहीं) दो हिंदू संगठनों ने मस्जिद गिराने की साजिश रची गई थी।

रिपोर्ट में बताया गया कि दोनों संगठनों ने अपने कार्यकर्ताओं को एक एक्शन प्लान में भाग लेने के लिए ट्रेनिंग दी थी। बता दें कि बाल ठाकरे का 86 साल की उम्र में 2012 में निधन हो गया। शिवसेना वर्तमान में कांग्रेस और एनसीपी संग महाराष्ट्र में सरकार चला रही है और पार्टी प्रमुख उद्धव ठाकरे राज्य के मुख्यमंत्री हैं।

उल्लेखनीय है कि स्पेशल सीबीआई कोर्ट के जस्टिस एसके यादव ने 16 सितंबर को इस मामले के सभी 32 आरोपियों को फैसले के दिन अदालत में मौजूद रहने को कहा था। आरोपियों में वरिष्ठ भाजपा नेता एवं पूर्व उप प्रधानमंत्री आडवाणी, पूर्व केंद्रीय मंत्री मुरली मनोहर जोशी और उमा भारती, उप्र के पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह के अलावा विनय कटियार और साध्वी रितंभरा शामिल हैं।

Unlock 5.0 Guidelines Live Updates

उमा भारती और कल्याण सिंह कोरोना संक्रमण की चपेट में आकर दो अलग अलग अस्पतालों में भर्ती हैं। अभी यह सूचना नहीं है कि फैसले के समय वे अदालत में मौजूद रहेंगे या नहीं। कल्याण सिंह जब उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री थे, तब ही मस्जिद गिराई थी। सिंह पिछले साल सितंबर में इस मामले की सुनवाई में शामिल हुए थे। राम मंदिर निर्माण ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय भी इस मामले के आरोपियों में से एक हैं।

सुप्रीम कोर्ट ने सीबीआई अदालत को मामले का निपटारा 31 अगस्त तक करने के निर्देश दिए थे लेकिन गत 22 अगस्त को यह अवधि एक महीने के लिए और बढ़ा कर 30 सितंबर कर दी गई थी। सीबीआई की स्पेशल कोर्ट ने इस मामले की रोजाना सुनवाई की थी।

इस मामले में लालकुष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी, कल्याण सिंह, उमा भारती, विनय कटियार, साघ्वी ऋतंभरा, महंत नृत्य गोपाल दास, डा. राम विलास वेदांती, चंपत राय, महंत धर्मदास, सतीश प्रधान, पवन कुमार पांडेय, लल्लू सिंह, प्रकाश शर्मा, विजय बहादुर सिंह, संतोष दूबे, गांधी यादव, रामजी गुप्ता, ब्रज भूषण शरण सिंह, कमलेश त्रिपाठी, रामचंद्र खत्री, जय भगवान गोयल, ओम प्रकाश पांडेय, अमर नाथ गोयल, जयभान सिंह पवैया, महाराज स्वामी साक्षी, विनय कुमार राय, नवीन भाई शुक्ला, आरएन श्रीवास्तव, आचार्य धमेंद्र देव, सुधीर कुमार कक्कड़ व धर्मेंद्र सिंह गुर्जर आरोपी हैं। (एजेंसी इनपुट)

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 बिहार चुनाव: बीजेपी को झटका देगी एलजेपी? प्रवक्ता बोले- 143 की लिस्ट है तैयार, चिराग करेंगे अंतिम विचार
2 महाकवि घाघ: विज्ञान से आगे की सोचने वाला अद्भुत मौसम विज्ञानी, अंग्रेजी सत्ता भी उनकी सटीक जानकारी से थी हैरान
3 पत्नी के साथ मारपीट करने वाले एमपी के वरिष्ठ आईपीएस अधिकारी सस्पेंड, बेटी ने सीएम को लिखा लेटर- मेरी मां की मानसिक हालत ठीक नहीं
यह पढ़ा क्या?
X