ताज़ा खबर
 

संत रामपाल केस: रामपाल दो केसों में बरी, पर चलता रहेगा हत्या का केस, जेल में ही रहेगा

Rampal Sant, Murder Case News: बाबा राम रहीम के बाद अब हरियाणा की एक कोर्ट कथित बाबा रामपाल पर फैसला सुनाने वाली है।

Sant Rampal Case : रामपाल 67 साल का है। वह 2014 से जेल में है।

Sant Rampal Case: संत रामपाल के लिए बड़ी खबर आई है। उन्हें दो केसों में बरी कर दिया गया है। रामपाल पर दो क्रिमिनल केस थे। पहले केस लोगों को बंधक बनाने का था। दूसरा केस पुलिस पर हमला करने का था। लेकिन देशद्रोह और हत्या का मुकदमा उनपर चलता रहेगा। अभी उसपर कुल आठ केस और बचे हुए हैं। सतलोक आश्रम में जब रामपाल को पुलिस पकड़ने आई थी तब वहां पुलिस पर हमला हुआ था। उसके बाद जिन लोगों को बाहर निकाला गया था उन्होंने रामपाल पर बंधक बनाने का आरोप लगाया था।

क्या है हत्या का मामला: 2006 में शुरू हुआ था। तब रामपाल ने सत्यार्थ प्रकाश (आर्य समाज की किताब) के कुछ हिस्से पर आपत्ति जताई थी। इसकी वजह से रामपाल और आर्य समाज को मानने वाले कुछ लोगों में झड़प हो गई। आर्य समाज के लोगों ने रोहतक में मौजूद रामपाल के आश्रम को बंद करने की कोशिश की। फिर कथित रूप से रामपाल के समर्थकों ने गोलियां चला दी। जिसमें तीन लोगों की जान गई और 160 जख्मी हो गए। रामपाल पर इस पूरे मामले की साजिश रचने का आरोप है।

राम रहीम के मामले में तो उसके दोषी घोषित होने के बाद हिंसा हुई लेकिन रामपाल को तो पकड़ना भी पुलिस के लिए आसान नहीं था। बात 2014 की है। हत्या वाले मामले में रामपाल को 43 बार कोर्ट में हाजिर होने के लिए कहा जा चुका था लेकिन वह नहीं आया। इसके बाद उसे गिरफ्तार करने के लिए पुलिस हिसार के बरवाला वाले आश्रम पहुंची थी। वह जगह चंडीगढ़ से 200 किलोमीटर दूर है। वहां बाबा के 15,000 समर्थक मौजूद थे जिन्होंने पुलिस पर हमला कर दिया। पुलिस अंदर नहीं जा पा रही थी।

लगभग दो हफ्ते तक बड़े से गेट से बंद आश्रम के पीछे लोग छिपे रहे। फिर पुलिस ने वहां बिजली और पानी की सप्लाई काट दी। उसके बाद जब खाना खत्म होने लगा तब लोग धीरे-धीरे बाहर आने लगे। कई लोगों का तो कहना था कि उनको अंदर कैद कर लिया गया था और मानव ढाल की तरह इस्तेमाल किया गया था। पूरी घटना में 200 लोग जख्मी हुए थे। छह लोग मारे गए थे। जिसमें पांच महिलाएं और एक बच्चा भी शामिल था। रामपाल के समर्थकों ने अंदर से पुलिस पर गोलियां, पत्थर सब चलाए थे। पेट्रोल बम और एसिड बम भी फेंके गए थे।

रामपाल फिलहाल जेल में है। उसे 2014 में गिरफ्तार किया गया था। 67 साल के रामपाल पर मर्डर का भी एक केस है। खट्टर सरकार आने के बाद पहली बार राज्य में ऐसी घटना हुई थी। इसपर बीजेपी की काफी किरकिरी हुई थी।

पढ़िए रामपाल पर फैसले से जुड़ी लाइव अपडेट:

-फिलहाल रामपाल जेल में ही रहेगा। क्योंकि उसपर बाकी केस अभी चल रहे हैं।

-रामपाल पर फैसला आने के बाद उसके वकील ने इसे सच्चाई की जीत बताया।

-फैसला आ गया है, संत रामपाल को दोनों केसों में बरी कर दिया गया है।

-रामपाल पर फैसला कुछ ही देर में आने वाला है।

–हिसार की जेल में वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए सुनवाई की जा रही है।

-दूसरा मामला

-रामपाल पर दो केस हैं। पहला धारा 186, 332 और 353 के तहत दर्ज है। वहीं दूसरा रामपाल और पुरुषोत्तम दास, राज कुमार, मोहिंदर सिंह, राजेंद्र सिंह, राहुल और 30-40 लोगों के खिलाफ है। वे सभी रामपाल के समर्थक बताए जाते हैं।

-रामपाल पर फैसला आने के बाद भी हिंसा भड़कने की आशंका है।

-रामपाल के समर्थक सोशल मीडिया पर लगातार एक्टिव हैं। वह रामपाल को निर्दोष बताते हैं। कहते हैं कि उनको फंसाया जा रहा है।

-रामपाल जब पकड़े गए थे तब उनके आश्रम से प्रेग्नेंसी किट आदि भी बरामद किए गए थे।

-उनके सपोर्ट में ऐसे-ऐसे वीडियोज डाले जा रहे हैं

 

-रामपाल पहले इंजीनियर था। बाद में वह बाबा बन गया।

-रामपाल पर फैसला आने से पहले भी हरियाणा में धारा 144 लगाई गई।

Next Stories
1 इस महीने तीसरा रेल हादसा: अब बेपटरी हुई दुरंतो एक्सप्रेस
2 रोहतक जेल में जज पढ़ रहे थे फैसला, पुलिस रोड पर बिछा रही थी कीलें, सेना ने संभाल रखा था मोर्चा
ये पढ़ा क्या?
X