ताज़ा खबर
 

Dengue और Chikungunya से बचने के लिए योग गुरू बाबा रामदेव के देशी नुस्खे

राजधानी में बढ़ती डेंगू की बीमारी के चलते योगगुरु रामदेव ने लोगों को डेंगू से नहीं डरने की सलाह देते हुए कहा कि डेंगू लाइलाज बीमारी नहीं है, इससे परेशान होने की जरूरत नहीं है।
रामदेव ने कहा कि लोगों को डेंगू से नहीं डरने की सलाह देते हुए कहा कि डेंगू लाइलाज बीमारी नहीं है, इससे परेशान होने की जरूरत नहीं है।

राजधानी में बढ़ती डेंगू की बीमारी के चलते योगगुरु रामदेव ने कुछ देशी नुस्खे पेश किए हैं, जिसके जरिए वे घर पर ही अपना इलाज कर सकते हैं। रामदेव ने कहा कि लोगों को डेंगू से नहीं डरने की सलाह देते हुए कहा कि डेंगू लाइलाज बीमारी नहीं है, इससे परेशान होने की जरूरत नहीं है। उन्होंने कहा कि लोग सामान्य सतर्कता एवं अपने घर के आसपास मौजूद औषधीय पौधों एवं बूटियों का उपयोग करके इसका इलाज कर सकते हैं।

योगगुरु ने कहा कि गिलोय के पत्ते और लताओं का रस, एलोवीरा का रस, अनार का रास, गिलोय, पपीते के पत्ते का रस और अनार के उपयोग से डेंगू का इलाज किया जा सकता है और यह सामान हमारे घरों के आसपास आसानी से उपलब्ध होते हैं। इनसे न सिर्फ हीमोग्लोबिन बढ़ता है बल्कि प्लेटलेस्ट भी बढ़ जाती हैं। उन्होंने कहा कि डेंगू से परेशान होने की कतई जरूरत नहीं है। प्राकृतिक चिकित्सा पद्धति में इसका उपचार है। आयुर्वेद में बहुत से रोगों का उपचार मौजूद हैं जिन्हें सैकड़ों वर्षों से हमारे ऋषि मुनियों ने तैयार किया है।

आयुर्वेद की औषधियों की प्रामाणिकता की पुष्टि किसी संस्था से कराने के बारे में एक सवाल के जवाब में योगगुरु रामदेव ने कहा कि आयुर्वेद की औषधियों की पुष्टि के लिए कोई एजेंसी नहीं है। यह पुरानी पद्धति है और प्राचीन काल में लिखी गई है और उसी के आधार पर आगे बढ़ रही है। उन्होंने कहा कि अभी इस संबंध में आयुष मंत्रालय बना है और वह इस मंत्रालय को लिखेंगे कि देश में परंपरागत चीजों एवं चिकित्सा पद्धति के बारे में शोध को बढ़ावा दें। इस बारे में प्रामाणिक ज्ञान को आगे बढ़ाने और आयुर्वेद के क्षेत्र में और शोध की जरूरत है।

रामदेव ने कहा कि डेंगू जैसे महत्वपूर्ण विषय को राजनीतिक रंग देना ठीक नहीं है। साफ सफाई, मच्छरों से बचाव और अपनी प्रतिरोधक प्रणाली को मजबूत बनाना ही इसके निवारक उपाए हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.