ताज़ा खबर
 

यूपी: आजम खान पर गलत तरीके से दलितों की जमीन खरीदने के आरोप, जौहर यूनिवर्सिटी के खिलाफ मामला दर्ज

लघु उद्योग भारती संगठन की रामपुर शाखा के अध्यक्ष आकाश कुमार सक्सेना की शिकायत पर राजस्व परिषद ने जौहर यूनिवर्सिटी के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है। शिकायत में कहा गया है कि आजम खान ने जौहर यूनिवर्सिटी के लिए 100 बीघा जमीन 10 दलितों से नियमों की अनदेखी करते हुए गलत तरीके से खरीदी है।

लघु उद्योग भारती नामक औद्योगिक संगठन ने आजम खान की जौहर यूनिवर्सिटी पर गलत तरीके से दलितों की जमीन खरीदने का आरोप लगाया है। जिसके बाद जौहर यूनिवर्सिटी के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया गया है।(file photo)

रामपुर की जौहर यूनिवर्सिटी, जिसके चांसलर सपा नेता आजम खान हैं, विवादों के घेरे में आ गई है। दरअसल, लघु उद्योग भारती नामक औद्योगिक संगठन ने आजम खान पर गलत तरीके से दलितों की जमीन खरीदने का आरोप लगाया है। लघु उद्योग भारती संगठन की रामपुर शाखा के अध्यक्ष आकाश कुमार सक्सेना की शिकायत पर राजस्व परिषद ने जौहर यूनिवर्सिटी के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है। शिकायत में कहा गया है कि आजम खान ने जौहर यूनिवर्सिटी के लिए 100 बीघा जमीन 10 दलितों से नियमों की अनदेखी करते हुए गलत तरीके से खरीदी है।

नियमों के मुताबिक, अनुसूचित जाति के व्यक्ति के नाम पट्टा होने के कारण वह जमीन सामान्य श्रेणी की जौहर यूनिवर्सिटी को नहीं बेची जा सकती थी। लेकिन आजम खान ने अपने रसूख का इस्तेमाल करते हुए यह जमीन जौहर यूनिवर्सिटी के नाम पर खरीदी और अनुसूचित जाति के विक्रेताओं के नाम खतौनी में दर्ज नहीं कराए। साथ ही, इस पूरी खरीद में डीएम की अनुमति भी नहीं ली गई। विवादित भूखंड रामपुर के सीगनखेड़ा इलाके में स्थित है।

आकाश सक्सेना ने 10 फरवरी 2018 को मुख्यमंत्री से इस मामले की शिकायत की थी। इसके बाद राजस्व परिषद ने जौहर यूनिवर्सिटी के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने से पहले इसकी जांच कमिश्नर, मुरादाबाद से भी करायी। मुरादाबाद कमिश्नर की जांच में जौहर यूनिवर्सिटी के खिलाफ आरोप सही पाए गए। इसके बाद राजस्व परिषद ने मुकदमा दर्ज कर लिया है। उल्लेखनीय है कि यदि जौहर यूनिवर्सिटी दोषी पायी जाती है तो विवादित जमीन राज्य सरकार की हो जाएगी और इस पर जौहर यूनिवर्सिटी और विक्रेताओं का स्वामित्व खत्म हो जाएगा। बता दें कि जौहर यूनिवर्सिटी इससे पहले भी विवादों में आ चुकी है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App