ताज़ा खबर
 

कृषि बिल विवाद के बीच पंजाब BJP चीफ की कार पर अटैक, भाजपा का आरोप- हमले के पीछे Congress

चुघ ने कहा, ‘‘अश्विनी शर्मा पर हमला करने वाले कांग्रेस नीत सरकार के गुंडे थे और वे किसान प्रदर्शन को एक गलत दिशा देना चाहते थे।’’

Author चंडीगढ़ | Updated: October 13, 2020 8:14 AM
Punjab BJP Chief, Punjab BJP Chief Car, BJP Chief Carपंजाब BJP चीफ की गाड़ी होशियारपुर में हुए हमले में यूं क्षतिग्रस्त हुई। (फोटोः टि्वटर)

पंजाब की भाजपा इकाई के प्रमुख अश्विनी शर्मा के वाहन पर होशियारपुर जिले में चोलांग टोल प्लाजा पर कुछ प्रदर्शनकारी किसानों द्वारा कथित तौर पर हमला किया गया। यह जानकारी पुलिस ने सोमवार शाम को दी। पुलिस ने बताया कि इस घटना में शर्मा की कार के शीशे क्षतिग्रस्त हो गए लेकिन शर्मा सुरक्षित हैं। यह घटना उस समय हुई जब शर्मा जालंधर से वापस पठानकोट जा रहे थे।

थाना प्रभारी (टांडा) बिक्रम सिंह ने बताया कि शर्मा का वाहन जब टांडा के पास स्थित चोलांग टोल प्लाजा पहुंचा तो प्रदर्शनकारी किसानों के एक समूह ने नारेबाजी की और कार के शीशे पर घूसे मारे। उन्होंने बताया कि किसानों ने टोल प्लाजा का गत पांच अक्टूबर को घेराव किया था।
अश्विनी शर्मा ने दावा किया कि उनके वाहन को क्षतिग्रस्त करने के लिए बेसबॉल बैट और पत्थर का इस्तेमाल किया गया और उनके सुरक्षाकर्मी उसे सुरक्षित स्थान पर ले गए।

शर्मा ने कहा कि हमला करने वाले किसान नहीं थे और आरोप लगाया कि यह एक सुनियोजित हमला था। उन्होंने कहा, ‘‘यह हमला चल रहे किसान आंदोलन को बदनाम करने के लिए किया गया।’’ होशियारपुर के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक नवजोत सिंह महाल ने कहा कि पंजाब भाजपा प्रमुख ‘‘बिल्कुल ठीक हैं।’’

भाजपा कार्यकर्ताओं और उनके समर्थकों ने दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग को लेकर एक धरना दिया और जालंधर-पठानकोट जीटी रोड पर दासुया पर करीब 45 मिनट के लिए यातायात बाधित किया। अश्विनी शर्मा ने इस संबंध में दासुया पुलिस थाने में एक शिकायत दर्ज करायी। इस बीच, भाजपा राष्ट्रीय महासचिव तरुण चुघ ने इस घटना की निंदा की और आरोप लगाया कि यह सत्ताधारी कांग्रेस द्वारा ‘‘रची’’ गई है।

चुघ ने कहा, ‘‘अश्विनी शर्मा पर हमला करने वाले कांग्रेस नीत सरकार के गुंडे थे और वे किसान प्रदर्शन को एक गलत दिशा देना चाहते थे।’’
उन्होंने कहा, ‘‘किसान ऐसे हमले नहीं करते और प्रदर्शन शुरू होने के बाद से ऐसी कोई घटना नहीं हुई थी।’’ उन्होंने कहा कि यह पंजाब पुलिस की ओर से ‘‘सुरक्षा में चूक’’ थी।

इस बीच, पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने भी हमले की निंदा की और इस बात पर जोर दिया कि इसमें कांग्रेस के किसी कार्यकर्ता की संलिप्तता का कोई सवाल ही नहीं उठता। सिंह ने कहा कि उन्होंने पंजाब के डीजीपी से इस घटना के संबंध में तत्काल कार्रवाई करने को कहा है।
सिंह ने ट्वीट किया, ‘‘पंजाब भाजपा प्रमुख अश्विनी शर्मा पर हमले की कड़ी निंदा करता हूं और पंजाब के डीजीपी से दोषियों की पहचान करने और तत्काल कार्रवाई करने को कहा है। किसी को राज्य की शांति भंग करने और कानून हाथ में लेने की इजाजत नहीं देंगे।’’

उन्होंने कहा, ‘‘भाजपा पंजाब प्रमुख अश्विनी शर्मा पर हमले में पंजाब कांग्रेस की संलिप्तता का कोई सवाल ही नहीं उठता। भाजपा को ओछे और राजनीतिक रूप से प्रेरित आरोप लगाने से परहेज करना चाहिए। पंजाब पुलिस मामले की जांच कर रही है।’’

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 डिलिवरी के 15वें दिन ही दफ्तर आ गईं COVID अफसर, बेटी को गोद में ले कर रहीं काम, प्रेग्नन्सी में भी नहीं ली छुट्टी
2 आपकी बेटी के साथ ऐसा हो तो कैसा महसूस करोगे, अदालत ने एडीजी प्रशांत कुमार से पूछा सवाल; हाथरस केस में पीड़िता के वकील ने दी जानकारी
3 Bihar Election: कांग्रेस का अल्पसंख्यकों से उठ रहा भरोसा! अब तक जारी सूची में एक भी मुस्लिम को नहीं दिया टिकट
IPL 2020
X