ताज़ा खबर
 

Gurgaon: मारपीट के 4 दिन बाद भी दहशत में मुस्लिम परिवार, बच्चों को नहीं भेज रहे स्कूल

गुड़गांव में साजिद मोहम्मद के परिवार के साथ हुई मारपीट के बाद परिवार खुद को असुरक्षित महूसस कर रहा है। परिवार के सदस्यों ने दोबारा हमले के डर से बच्चों को स्कूल भेजना बंद कर दिया है।

Author Updated: March 27, 2019 7:13 AM
गुरुग्राम हिंसा के बाद पीड़ित के घर की तस्वीर फोटो सोर्स- इंडियन एक्सप्रेस

गुड़गांव के भूपसिंह नगर में मोहम्मद साजिद के परिवार की पिटाई की घटना को चार दिन बीत चुके हैं। लेकिन आरोपियों की गिरफ्तारी के बाद भी परिवार सहमा हुआ है। दोबारा हमले के डर से परिवार ने अपने बच्चों को स्कूल भेजना बंद कर दिया है। पीड़ित परिवार के सदस्य के मुताबिक, ‘हमारे बच्चे हमेशा पड़ोसियों के साथ खेलने एक दूसरे के घर जाते थे लेकिन बीते गुरुवार की घटना के बाद हमने अपने बच्चों को घर से निकलने के लिए मना कर दिया है’। बता दें कि बीते गुरूवार को हुई इस वारदात में पुलिस ने अब तक पांच लोगों को गिरफ्तार किया है।

पीड़ित परिवार का बयान: भीड़ की हिंसा का शिकार हुए मुस्लिम परिवार की सदस्य समीना ने बताया, ‘मेरे चार बच्चे पास के सरकारी स्कूल में पढ़ते हैं, लेकिन हमने उन्हें गुरुवार से वहां नहीं भेजा। हर कोई सकते में है और हम गिरफ्तारी के बाद दोबारा हिंसा की आशंका से डरे हुए हैं।”

पढ़ें आज की बड़ी खबरें

शिकायतकर्ता दिलशाद का बयान: हिंसा का शिकार हुए साजिद के भतीजे और मामले में शिकायतकर्ता दिलशाद ने कहा कि परिवार के पुरुष भी हिंसा के डर से काम पर नहीं गए। दिलशाद ने कहा, “ऐसा (मारपीट) करने वाले लोग स्थानीय हैं और वे जानते हैं कि हम कौन हैं।” इसके बाद उन्होंने कहा, “अभी तो हम ठीक हैं क्योंकि मामले पर सबका ध्यान है लेकिन एक बार जब पुलिस सुरक्षा हट जाएगी और लोगों का आना बंद हो जाए, तो हम पूरी तरह से अकेले हो जाएंगे, फिर क्या होगा?”

हमलावरों ने कहा इन्हें नहीं छोड़ना: प्रशासन के बार-बार कहने पर कि ये घटना साम्प्रदायिक नहीं थी, समीना ने कहा, ‘हमलावरों में से एक शख्स कहा रहा था कि इन मुसलमानों ने महल खड़ा किया है, हम इन्हें नहीं छोड़ेंगे’। इसके साथ ही समीना ने कहा, ‘अपने पति को बचाते हुए मेरी हथेलियां घायल हो गई’। वहीं समीना के भतीजे ने कहा कि हम चाहते हैं कि हमलावरों को दंडित किया जाए।

योगेंद्र यादव ने की परिवार से मुलाकात: बता दें कि पीड़ित परिवार से बीते सोमवार को स्वराज इंडिया के अध्यक्ष योगेंद्र यादव ने मुलाकात की। इसके बाद उन्होंने कहा, “इस प्रकार की हिंसा केवल तभी हो सकती है जब अपराधियों को पूरा भरोसा हो कि हम जो भी करेंगे, कोई भी हमारा सामना नहीं करेगा। वे पुलिस के डर से नहीं बल्कि एक वीडियो के डर से बाहर भाग गए।” बता दें कि हरियाणा प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अशोक तंवर ने भी पीड़ित परिवार से मुलाकात की।

वीडियो बनानी वाली दानिस्था का क्या है कहना: गौरतलब है कि घटना का वीडियो बनाने वाली लड़की दानिस्था (21) ने बताया, “मैं अपना फोन अपने हाथ में लिए हुए थी लेकिन इससे नाराज होकर लोग मुझे धमकी दे रहे थे। हमलावरों को जैसे ही ये पता चला कि इस हमले का वीडियो बनाया जा रहा है तो वो मुझपर भी हमला करने के फिराक में थे लेकिन मैं किसी तरह से बच गई’।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 Delhi: शाहीन बाग में फर्नीचर शॉप से चार मंजिला बिल्डिंग में लगी आग, जिंदा जल गए दो बच्चे
2 Jharkhand: कृषि मंत्री पर लगा महिला जिला परिषद अध्यक्ष से मारपीट और अभद्रता का आरोप, एक-दूसरे को जड़ा तमाचा
3 Jaipur: मुंबई की महिला ने पहले वीडियो कॉल की, फिर फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली
आज का राशिफल
X