ताज़ा खबर
 

AIUDF विधायक पर लगा रेप का आरोप, पीड़िता बोली- पति के साथ मिल कर किया बलात्कार

असम के अखिल भारतीय यूनाइटेड डेमोक्रेटिक फ्रंट (एआईयूडीएफ) से विधायक निजामुद्दीन चौधरी पर एक महिला ने रेप का आरोप लगाया है। समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक आरोपी विधायक के खिलाफ पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है और आगे की जांच कर रही है।

रेप पीड़िता ने आरोप लगाया कि विधायक ने केस वापस लेने के लिए 5 लाख रुपये की पेशकश की थी। (फोटो सोर्स- एएनआई)

असम के अखिल भारतीय यूनाइटेड डेमोक्रेटिक फ्रंट (एआईयूडीएफ) से विधायक निजामुद्दीन चौधरी पर एक महिला ने रेप का आरोप लगाया है। समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक आरोपी विधायक के खिलाफ पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है और आगे की जांच कर रही है। पीड़िता के मुताबिक उसके साथ अंजाम दी गई घिनौनी करतूत में उसका पति भी शामिल था। पीड़िता ने एएनआई से कहा, ”निजामुद्दीन चौधरी ने मेरा रेप किया और मेरे पति भी इसमें शामिल हैं।” आरोपी विधायक ने अपने ऊपर लगे आरोपों से साफ इनकार किया है। निजामुद्दीन  चौधरी ने एएनआई से कहा, ”आरोप बिल्कुल झूठे हैं। मुझे अपने देश के कानून और व्यवस्था पर भरोसा है। यह मुझे बदनाम करने के लिए एक राजनीतिक साजिश है। बता दें कि शनिवार (7 जुलाई) को ही उत्तर प्रदेश के उन्नाव रेप केस से जुड़े एक मामले भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के आरोपी विधायक समेत पांच लोगों के खिलाफ सीबीआई ने चार्जशीट दाखिल कर दी।

बीजेपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर रेप के मामले में मुख्य आरोपी हैं और फिलहाल सीतापुर की जेल में बंद हैं। सीबीआई की चार्जशीट में आरोपी विधायक के भाई अतुल सिंह सेंगर का भी नाम शामिल है। पुलिस हिरासत में रेप पीड़िता के पिता की मौत के मामले में विधायक और उनके भाई समेत पांच के खिलाफ आरोप तय किए गए हैं। एएनआई के मुताबिक जांच अधिकारी अनिल कुमार ने रौशनउद्दौला स्थित सीबीआई कोर्ट में चार्जशीट दाखिल की। रविवार (8 जुलाई) को इस मामले जांच के 90 दिन पूरे हो जाएंगे। इसी साल 13 अप्रैल को सीबीआई ने बीजेपी विधायक को नाबालिग से रेप के मामले में गिरफ्तार किया गया था। बाद में विधायक को सात दिन की सीबीआई हिरासत में भेजा गया था।

उन्नाव रेप केस के आरोपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर। (फोटो- एएनआई)

आरोपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 363 (अपहरण), 366 (महिला का अपहरण), 376 (बलात्कार), 506 (आपराधिक धमकी) और पोक्सो अधिनियम के तहत एफआईआर दर्ज की गई थी। पीड़िता के परिवार ने आरोप लगाया था कि विधायक के भाई अतुल सिंह सेंगर ने भी अपने गुर्गों के साथ लड़की का बलात्कार किया था और 3 अप्रैल को एफआईआर वापस लेने से इनकार करने पर उन्होंने पीड़िता के पिता की पिटाई कर दी थी। बाद में पीड़िता के पिता की न्यायिक हिरासत में मौत हो गई थी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App