ताज़ा खबर
 

गुवाहाटीः तूफान के दौरान ड्यूटी पर तैनात रहा ट्रैफिक पुलिस का कॉन्स्टेबल, बना सोशल मीडिया स्टार

ट्रैफिक पुलिस कॉन्स्टेबल मिथुन दास गुवाहाटी में भारी बारिश के बीच बसिस्ता चौराहे पर खड़े होकर बिना रेनकोट के ट्रैफिक नियंत्रित कर रहे थे। गुवाहाटी में अलग-अलग स्थानों पर रविवार को तूफान और भारी बारिश से अब तक तीन लोगों की मौत हो चुकी है।

thunderstorm in Guwahatiगुवाहाटी में तूफान के बीच भी डटा रहा ड्यूटी पर कॉन्स्टेबल फोटो सोर्स- ani

गुवाहाटी में ट्रैफिक पुलिस का एक कॉन्स्टेबल भारी तूफान और बारिश के बावजूद अपनी ड्यूटी करता रहा। सोशल मीडिया पर उसका वीडियो और फोटो काफी ज्यादा वायरल हो रहा है। दरअसल, कॉन्स्टेबल मिथुन दास रविवार (31 मार्च) को गुवाहाटी के बसिस्ता चौराहे पर ट्रैफिक नियंत्रित कर रहे थे। उस दौरान अचानक तूफान आ गया और भारी बारिश होने लगी। ऐसे में मिथुन दास चौराहे पर बने पोडियम पर खड़े हो गए और बिना किसी रेनकोट के ट्रैफिक को नियंत्रित करते रहे।

‘मैं तो केवल अपनी ड्यूटी कर रहा था’: कॉन्स्टेबल से जब इस बारे में बात की गई तो उन्होंने कहा, ‘मेरी ड्यूटी सुबह 7 बजे से दिन में 12 बजे तक थी। मेरी ड्यूटी खत्म होने से पांच मिनट पहले तूफान आया और भारी बारिश होने लगी। उस दौरान मेरी ड्यूटी के बाद वाला कॉन्स्टेबल नहीं पहुंचा, इसलिए मैंने ट्रैफिक को नियंत्रित करने का काम जारी रखा।’

डरावना था यह अनुभव, लेकिन ड्यूटी सबसे पहले : मिथुन दास ने कहा, ‘हालांकि इस तरह तूफान और बारिश के बीच खुले पोडियम पर खड़े होकर ट्रैफिक को नियंत्रित करना मेरे लिए थोड़ा डरावना था। हालांकि, मेरे लिए ड्यूटी सबसे पहले आती है।’ कार्बी आंगलोंग जिले के कॉन्स्टेबल मिथुन साल 2015 में असम पुलिस में शामिल हुए थे।

National Hindi News, 1 April 2019 LIVE Updates: जानें दिनभर के अपटडेट्स

सोशल मीडिया पर वीडियो हो रहा वायरलः तूफान के वक्त मौके पर उस समय वहां मौजूद मोटर चालकों और आस-पास खड़े लोगों ने कॉन्स्टेबल के वीडियो बनाए। ये वीडियो सोशल मीडिया पर काफी शेयर किए जा रहे हैं। गुवाहाटी के पुलिस कमिश्नर दीपक कुमार ने बताया कि बारिश के दौरान गुवाहाटी में ट्रैफिक बढ़ जाता है। ऐसे में मिथुन ने यह बात साबित कर दी कि हालात चाहें जो भी हों, ड्यूटी सबसे पहले आती है।

सम्मानित करेगी असम पुलिस: असम पुलिस ने अपने ट्विटर हैंडल से भी कांस्टेबल की प्रशंसा की। उन्होंने लिखा, ‘कॉन्स्टेबल मिथुन दास ने जिस स्थिति में अपनी ड्यूटी की उसे समर्पण कहते हैं। हम उन्हें सलाम करते हैं। मिथुन ने दिखा दिया कि समर्पण के सामने कैसे एक तूफान भी पानी के छींटों जैसा लगता है।’ बता दें असम पुलिस ने कॉन्स्टेबल को उनकी बहादुरी के लिए पुरस्कृत करने का ऐलान किया है।

Next Stories
1 सिर्फ मूर्ख दिवस ही नहीं, इन लोगों की वजह से भी खास है एक अप्रैल
2 सीआरपीएफ ट्रेनिंग सेंटर का हाल: न फायरिंग रेंज, न बाउंड्री वॉल; पुलवामा अटैक से पहले भी अफसरों ने हेडक्वॉर्टर को लिखी थी चिट्ठी
3 DDA Housing Scheme 2019: महंगे होने के बाद भी नरेला से ज्यादा वसंत कुंज में लोगों का इंट्रेस्ट, जानें वजह
आज का राशिफल
X