ताज़ा खबर
 

असम: मुस्लिम विधायक को गोलियों के साथ आई चिट्ठी- 15 दिन में छोड़ दो भाजपा

पुलिस ने बताया कि अमीनुल कछार के सोनाई से विधायक हैं। उन्हें अनजान संगठन 'सेव सिक्योर एंड डेवलपेमेंट प्रोटेक्शन फोर्स ऑफ मुस्लिम, बराक वैली जोन' से यह चिट्ठी मिली है।

विधायक का कहना है कि उन्हें चिट्ठी की सत्यता को लेकर संदेह है। यह सिंडिकेट माफिया द्वारा लिखा गया पत्र हो सकता है जो यूरिया, दवाओं और भूमि के कारोबार में शामिल है। (Facebook)

असम में भाजपा विधायक अमीनुल हक लश्कर की हत्या की धमकी दी गई है। अज्ञात लोगों के हवाले से मिली चिट्ठी में लिखा गया है कि अमीनुल 15 दिन के अंदर भाजपा छोड़ दें क्योंकि वह एक मुसलमान हैं। पत्र में इसके अलावा दो गोलियां भी मिली हैं। पुलिस ने मामले को गंभीरता से लेते हुए अज्ञात लोगों के खिलाफ केस दर्ज कर छानबीन शुरू कर दी है। पुलिस ने बताया कि अमीनुल कछार के सोनाई से विधायक हैं। उन्हें अनजान संगठन ‘सेव सिक्योर एंड डेवलपेमेंट प्रोटेक्शन फोर्स ऑफ मुस्लिम, बराक वैली जोन’ से यह चिट्ठी मिली है। सिलचर पुलिस स्टेशन के इंचार्ज इंद्रजीत चक्रवतर्ती ने बताया कि भाजपा विधायक को धमकी भरी चिट्ठी भेजने के मामले में अज्ञात लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया गया है। उन्होंने बताया कि विधायक को जो चिट्ठी भेजी गई है उसमें .32 पिस्तौल के दो जिंदा कारतूस भी मिले हैं।

रिपोर्ट के मुताबिक अज्ञात लोगों के खिलाफ आईपीसी के धारा 153A (धर्म , जाति आदि के आधार पर वि भिन्न समुदायों के बीच दुश्मनी बढ़ाना) और 506 (आपराधिक धमकी) के तहत केस दर्ज किया गया है। मामले में विधायक ने बताया कि मुझे डाक से पत्र मिल है। इसमें कहा गया कि भाजपा और आरएसएस सांप्रदायिक संगठन हैं। मैं मुसलमानों के खिलाफ काम कर रहा हूं। इसलिए एक मुस्लिम होने के नाते मुझे बीजेपी में नहीं रहना चाहिए। चिट्ठी में लिखा गया है कि 15 दिन के अंदर में पार्टी छोड़ दूं।

दूसरी तरह विधायक का कहना है कि उन्हें चिट्ठी की सत्यता को लेकर संदेह है। यह सिंडिकेट माफिया द्वारा लिखा गया पत्र हो सकता है जो यूरिया, दवाओं और भूमि के कारोबार में शामिल है। विधायक का कहना है कि चूंकि वह इसके खिलाफ लड़ रहे हैं इसलिए हो सकता है कि यह चिट्ठी उन लोगों ने भेजी हो। विधायक ने मामले में स्वतंत्र जांच की मांग की है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App