दार्जिलिंग हिंसा: पुलिस से भिड़े जीजेएम कार्यकर्ता, हालात संभालने को बुलाई गई सेना - Army called in as Gorkha protesters in Darjeeling turn violent - Jansatta
ताज़ा खबर
 

दार्जिलिंग हिंसा: पुलिस से भिड़े जीजेएम कार्यकर्ता, हालात संभालने को बुलाई गई सेना

वहीं स्थिति पर काबू पाने के लिए पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने दार्जिलिंग देव बोर्ड्स के सदस्यों, एडीजी (कानून-व्यवस्था), डीजी बंगाल पुलिस, चीफ सेक्रटरी, गृह सचिव के साथ उच्च स्तरीय बैठक की।

दार्जिलिंग में बिगड़ते हालात को देखकर सेना तैनात कर दी गई है। (Photo-ANI)

पश्चिम बंगाल के दार्जिलिंग में स्थिति को काबू करने के लिए सेना को बुलाया गया है। यहां गोरखा जनमुक्ति मोर्चा (जीजेएम) ने पुलिस के साथ झड़प की। विरोध प्रदर्शन उग्र होने के बाद सेना को आंसू गैस के गोले छोड़ने पड़े। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, जीजेएम के समर्थक नारी मोर्चा की ओर से जीजेएम के सहायक जनरल बिनय तमांग के आवास पर पार्टी ऑफिस में रेड के खिलाफ विरोध प्रदर्शन कर रही है।

वहीं स्थिति पर काबू पाने के लिए पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने दार्जिलिंग देव बोर्ड्स के सदस्यों, एडीजी (कानून-व्यवस्था), डीजी बंगाल पुलिस, चीफ सेक्रटरी, गृह सचिव के साथ उच्च स्तरीय बैठक की। एडीजी लॉ एंड ऑर्डर ने बताया कि जीजेएम के समर्थकों ने पुलिस पर गोलीबारी शुरू की और पुलिस वाहनों को आग लगा दिया। इस दौरान 1 जीजेएम समर्थक की फायरिंग में मौत भी हुई है। वहीं विरोध-प्रदर्शन को देखते हुए सुरक्षा बलों ने रबर की गोलियों का इस्तेमाल किया।

सूत्रों की माने तो दार्जिलिंग में हिंसक घटनाओं की वजह से हजारों पर्यटक फंसे हुए हैं। उन्हें आने-जाने में काफी परेशानी हो रही है। यातायात ठप पड़ा है। वहीं खाने-पीने के भी लाले पड़े हैं।

बता दें कि इससे पहले जीजेएम के प्रदर्शनकारियों ने सुरक्षा कर्मियों पर पथराव किया और बोतलें फेंकी जिन्होंने जवाबी कार्रवाई में आंसू गैस के गोले छोड़े। इन ताजा झड़पों के बीच पृथक राज्य की मांग को लेकर आयोजित अनिश्चितकालीन बंद शनिवार को तीसरे दिन में प्रवेश कर गया। पुलिस सूत्राों ने यह भी बताया कि पूरे इलाके में निषेधाज्ञा लागू है और जूलूस निकालने की अनुमति किसी को भी नहीं दी गई है।

जीजेएम समर्थकों ने आदेशों का उल्लंघन किया और जुलूस निकाला। जब पुलिस ने उन्हें रोका तो प्रदर्शनकारियों ने उन पर पत्थर तथा बोतलें फेंकीं। पुलिस ने भीड़ को तितर बितर करने के लिए आंसू गैस के गोले छोड़े और लाठीचार्ज किया।

देखिए वीडियो - असम: मुख्यमंत्री के विधानसभा क्षेत्र में साइकिल पर भाई के शव को लेकर जाते शख्स की तस्वीर आई सामने

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App