ताज़ा खबर
 

7th Pay Commission: ये सरकारी कर्मचारी चाहते हैं “समान पद समान वेतन”, अनिश्चितकालीन हड़ताल पर गए

7th Pay Commission, 7th CPC: AANA के सदस्यों ने मीडिया के सामने दावा किया कि उन्होंने सरकार से कई बार अपनी मांगें रखी हैं लेकिन प्रशासन से कोई सकारात्मक प्रतिक्रिया प्राप्त नहीं हुई है।

Author November 28, 2018 12:29 PM
7th Pay Commission: सरकारी कर्मचारियों की कई मांगें सरकार ने मानी हैं।

7th Pay Commission: ऑल असम नर्स एसोसिएशन (एएएनए) ने गौहती मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल (जीएमसीएच) और जोरहाट मेडिकल कॉलेज और अस्पताल (जेएमसीएच) के परिसर में सोमवार से ‘समान पोस्ट, समान वेतन ‘ की मांग में अनिश्चितकालीन हड़ताल शुरू कर दी है। जीएमसीएच अधीक्षक डॉ आर तालुकदार ने कहा, “अस्पताल में कोई नर्सिंग सेवा प्रभावित होने की अनुमति नहीं है। नर्सों की स्तरित सेवा चल रही है”। तालुकदार और जेएमसीएच प्रो डॉ. नीलोटपाल भट्टाचार्य ने कहा कि रीजनल नर्सिंग कॉलेजों से दोनों कॉलेजों को नर्सिंग और फेकल्टी की सुविधा दी जा रही है। इसके अलावा नर्सिंग पर्यवेक्षकों और अस्पताल में प्रशिक्षण लेने वाली नर्स और पेरामेडिकल इंटर्न्स से मरीजों की नर्सिंग देखभाल के लिए कहा जा रहा है।

AANA के सदस्यों ने दो अस्पतालों के परिसर में बैनर और प्लेकार्ड के साथ विरोध प्रदर्शन कर मांग की कि राज्य सरकार 7 वें वेतन आयोग की रिपोर्ट और सेवा नियमों के मुताबिक ग्रेड वेतन संरचना से संबंधित विसंगतियों को हल करेगी, इसके अलाव नर्सेज ने “नर्स” के बजाय ‘स्टाफ नर्सों’ पद की मांग की है। AANA के सदस्यों ने मीडिया के सामने दावा किया कि उन्होंने सरकार से कई बार अपनी मांगें रखी हैं लेकिन प्रशासन से कोई सकारात्मक प्रतिक्रिया प्राप्त नहीं हुई है।

आपको बता दें कि केंद्र सरकार के कर्मचारी भी लंबे समय से मांग कर रहे हैं कि उनकी सैलरी को सातवें वेतन आयोग की सिफारिशों से ज्यादा बढ़ाया जाए। उनका कहना है कि सातवें वेतन आयोग की सिफारिशों के मुताबिक बढ़ाई गई सैलरी काफी कम है। सातवें वेतन आयोग की सिफारिशों के मुताबिक केंद्रीय कर्मचारियों की न्यूनतम सैलरी 18,000 रुपए महीने हो गई है। वहीं फिटमेंट फेक्टर को भी 2.57 गुना बढ़ा दिया गया था। केंद्रीय कर्मचारियों की मांग है कि उनकी न्यूमतम सैलरी को बढ़ाकर 26,000 रुपए महीने कर दिया जाए, वहीं फिटमैंट फेक्टर को भी बढ़ाकर 3.68 गुना कर दिया जाए।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App