ताज़ा खबर
 

आंध्र प्रदेश में पैर जमाने के फ़िराक में भाजपा, रथ यात्रा की घोषणा, हिंदुत्व की लड़ाई के लिए तैयार TDP

आंध्र प्रदेश की राजनीति में भाजपा की एंट्री के बीच चंद्रबाबू नायडू की टीडीपी अब हिंदुत्व के मुद्दे पर जगनमोहन रेड्डी की सरकारी को घेरने में जुटी है।

Chandrababu Naidu, Jaganmohan Reddy, TDP, YSRCPटीडीपी प्रमुख चंद्रबाबू नायडू और आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री और वाईएसआर कांग्रेस के मुखिया जगनमोहन रेड्डी।

पिछले लोकसभा और विधानसभा चुनाव में आंध्र प्रदेश में जगनमोहन रेड्डी की वाईएसआर कांग्रेस (YSRCP) के खिलाफ करारी शिकस्त झेलने वाली तेलुगुदेशम पार्टी (TDP) अभी तक झटकों से उबर भी नहीं पाई है। हालांकि साल भर बाद ही राज्य में उसके सामने भाजपा के तौर पर एक और चुनौती खड़ी हो गई। जानकारी के मुताबिक, तेलंगाना में पिछले साल हुए ग्रेटर हैदराबाद म्यूनिसिपल कॉरपोरेशन (GHMC) चुनाव में बेहतरीन प्रदर्शन करने के बाद भाजपा अब आंध्र की राजनीति में जगह बनाने की कोशिश में है। इसी के चलते वह आंध्र में दिवंगत YSRCP सांसद बी दुर्गाप्रसाद राव की सीट पर प्रत्याशी उतारने की योजना तैयार कर रही है।

भाजपा ने आंध्र प्रदेश में सदस्यता मिशन को भी तेज कर दिया है। एक केंद्रीय पार्टी के इसी कदम के चलते चंद्रबाबू नायडू की TDP ने अब राज्य में हिंदुत्व का रास्ता पकड़ लिया है। टीडीपी के कई नेता अब राज्य में मूर्तियों और मंदिरों में तोड़फोड़ के मुद्दे को उठाने में लगे हैं। आंध्र प्रदेश के लिए इस तरह की सांप्रदायिक राजनीति नई है। ऐसे में टीडीपी हर हाल में भाजपा को पीछे कर इस मौके को अपने लिए भुनाना चाहती है।

चंद्रबाबू नायडू की पार्टी ने पिछले कुछ महीनों में वाईएसआर कांग्रेस सरकार पर जोरदार हमले किए हैं। 2018 तक केंद्र में एनडीए गठबंधन का हिस्सा रही टीडीपी को हिंदुत्व के प्रचार में बढ़ता देखते हुए भाजपा ने भी अपनी योजना बदली है और अब आक्रमकता दिखाते हुए एक रथयात्रा निकालने की तैयारियां भी जोर-शोर से शुरू कर दी हैं। भाजपा नेताओं ने ऐलान किया है कि वे विजियानगरम के रामतीर्थम से तिरुपति के करीब कपिलातीर्थम तक रथयात्रा निकालेंगे।

भाजपा की इस यात्रा के लिए दो जगहों का चुनाव करना बेवजह नहीं है। दरअसल, पिछले मंगलवार को विजियानगरम के रामतीर्थम में भगवान राम की एक 400 साल पुरानी मूर्ति तोड़ दी गई थी। इसके बाद टीडीपी के चंद्रबाबू नायडू ने जगनमोहन सरकार पर कोई कार्यवाही न करने का आरोप लगाया था। उन्होंने कहा था कि किसी को भी इस तरह की धार्मिक असहिष्णुता नहीं दिखानी चाहिए। जय श्री राम का नारा इस वक्त अयोध्या में गूंज रहा है। रामतीर्थम में मौजूद भगवान राम का मंदिर आंध्र में हमेशा से उच्च स्थान पर रहा है। ऐसे मंदिर में कुछ शरारती तत्वों ने भगवान राम की मूर्ति का गला काट दिया, लेकिन सरकार ने दोषियों को पकड़ने के लिए कोई कदम नहीं उठाया।

चंद्रबाबू नायडू यहीं नहीं रुके। उन्होंने जगन के धर्म का जिक्र करते हुए कहा था कि वे इसाई हो सकते हैं पर अपनी ताकत को हिंदुओं के धर्म परिवर्तन के लिए इस्तेमाल करना गलत है। अगर सत्ता में बैठे लोग धर्म परिवर्तन कराने पर उथर आएंगे, तो यह धोखे के जैसा है। सिर्फ नायडू ही नहीं, उनकी ही पार्टी के कई नेता धार्मिक मुद्दों पर जगनमोहन रेड्डी पर निजी हमले कर चुके हैं।

हालांकि, आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री खुद ही टीडीपी के समय में तबाह किए गए 9 मंदिरों के पुनर्निर्माण के लिए आधारशिला रखकर अपने ऊपर हुए हमलों को कमजोर करने की कोशिश कर चुके हैं। बता दें कि टीडीपी के समय में सड़कों को चौड़ा करने के लिए कुछ मंदिरों को हटाया गया था, तब इन्हें दूसरी जगहों पर स्थापित कर दिया गया था।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 हरियाणा सरकार को खतरा नहीं, पूरा करेगी कार्यकाल; शाह से मुलाकात के बाद बोले दुष्यंत चौटाला
2 हरियाणा में भाजपा सरकार की सहयोगी JJP विधायकों की धमकी, कृषि बिल वापस लो वरना पड़ेगा भारी
3 CM नीतीश के गृह जिले में बना जल योजना का टावर, पानी चढ़ाते ही ध्वस्त, सरकार की हो रही किरकिरी
यह पढ़ा क्या?
X