ताज़ा खबर
 

गोवा में चुनाव लड़ने के लिए ‘आप’ के पास धन नहीं है: केजरीवाल

केजरीवाल ने कहा कि अगर राज्य में ‘आप’ चुनी जाती है तो इसमें ‘आलाकमान’ की संस्कृति नहीं होगी। उन्होंने कहा, ‘गोवा में गोवावासियों की सरकार होगी।'

Author पणजी | August 22, 2016 1:10 PM
रविवार (21 अगस्त, 2016) को दक्षिण गोवा के क्यूपेम गांव में एससी/एसटी समुदाय के लोगों को संबोधित करते ‘आप’ के संयोजक अरविंद केजरीवाल। (पीटीआई फोटो)

आप के राष्ट्रीय संयोजक अरविंद केजरीवाल ने कहा है कि दिल्ली में सरकार चलाने के बावजूद आम आदमी पार्टी के पास चुनाव लड़ने के लिए धन नहीं है।  रविवार (21 अगस्त)) शाम दक्षिण गोवा में अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति के एक समूह को संबोधित करते हुए केजरीवाल ने कहा, ‘यह देखने में असामान्य लग सकता है लेकिन यह सच है कि दिल्ली में डेढ़ साल सरकार चलाने के बावजूद आप के पास चुनाव लड़ने के लिए धन नहीं है। मैं आपको अपना बैंक खाता दिखा सकता हूं। यहां तक कि पार्टी के पास भी धन नहीं है।’ हालांकि, आप ने पहले ही पंजाब और गोवा के आगामी चुनावों के लिए प्रचार अभियान शुरू कर दिया है।

दिल्ली के मुख्यमंत्री ने कहा, ‘जब हम दिल्ली में चुनाव लड़े थे तब लोगों ने चुनाव लड़ा था। अपने बेहतर भविष्य के वास्ते लड़ने वाले हर किसी के लिए ‘आप’ एक मंच है। उन्होंने कहा कि गोवा में भी ऐसा ही होना चाहिए। यहां स्थानीय लोग चुनाव लड़ेंगे। केजरीवाल ने कहा कि अगर राज्य में ‘आप’ चुनी जाती है तो इसमें ‘आलाकमान’ की संस्कृति नहीं होगी। उन्होंने कहा, ‘गोवा में गोवावासियों की सरकार होगी। यहां तक कि चुनावी घोषणापत्र की रूपरेखा भी गोवावासी ही तय कर रहे हैं। घोषणापत्र में मैं अपना हुक्म नहीं चलाउंगा, गोवा के लोग इसका निर्णय लेंगे।’ दिल्ली के मुख्यमंत्री ने कहा कि गोवा की उनकी यात्राएं ‘केवल मुद्दों को समझने के लिए है।’

गोवा में मादक पदार्थों की कथित तौर पर धड़ल्ले से होने वाली बिक्री पर उन्होंने कहा, ‘अगर राज्य सरकार चाहेगी तो अगले एक घंटे में गोवा में मादक पदार्थ पर रोक लग सकता है।’ उन्होंने आरोप लगाया कि मादक पदार्थ विक्रेताओं, पुलिसकर्मियों और राजनेताओं के बीच गठजोड़ के कारण इसका व्यापार चल रहा है। उन्होंने दावा किया, ‘पुलिसकर्मियों के जरिए राजनेताओं तक रूपया पहुंचाया जा रहा है।’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App