ताज़ा खबर
 

ठिठुरती ठंड के चलते खुले में सोने वाले बेघरों की मौत को रोकने के लिए आप का ”ऐप”

दिल्ली में ठंड में खुले में सोने से किसी भी बेघर व्यक्ति की मौत रोकने के प्रयास के तहत सरकार ने कम से कम 19 हजार लोगों के रहने के लिए रैन बसेरों और तंबुओं का इंतजाम किया है।

Author नई दिल्ली | December 5, 2015 2:05 AM

दिल्ली में ठंड में खुले में सोने से किसी भी बेघर व्यक्ति की मौत रोकने के प्रयास के तहत सरकार ने कम से कम 19 हजार लोगों के रहने के लिए रैन बसेरों और तंबुओं का इंतजाम किया है। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने शुक्रवार को कहा कि इस संबंध में कुछ दिन पहले सभी विभागों की एक बैठक हुई थी। इसमें इस बात पर जोर दिया गया था कि ठंडी रातों में खुले में सोने से किसी भी व्यक्ति की मौत न हो। हम सबको इस दिशा में प्रयास करने की जरूरत है।

उन्होंने कश्मीरी गेट के पास गीता घाट क्षेत्र में दो रैन बसेरों का उद्घाटन करते हुए कहा कि करीब 19 हजार लोगों के रुकने के लिए 198 रैन बसेरे और 40 तंबू स्थापित किए गए हैं। केजरीवाल ने ठंडी रातों में बेघर लोगों को बचाने और उन्हें रैन बसेरों में पहुंचाने के लिए दिल्ली शहरी आश्रय सुधार बोर्ड (डीयूएसआइबी) द्वारा विकसित एक ऐप की भी शुरुआत की। उन्होंने कहा कि यह ऐप लोगों को रात में बाहर सो रहे बेघरों की फोटो खींचने और इसे भेजने में सक्षम बनाएगा जिससे उन्हें बचाकर आश्रय दिया जा सके।

केजरीवाल ने कहा कि यह ऐप बेघर लोगों के इस्तेमाल के लिए नहीं है जैसा कि कुछ लोगों ने सोशल मीडिया पर मजाक उड़ाया। यह हम सबके लिए है जिनके पास फोन है। उन्होंने कहा कि जब आप बेघर लोगों को खुले में सोते देखें तो आपको फोटो खींचने और इसे हमें भेजने की जरूरत है। जिससे राहत टीमें उन्हें रैन बसेरों में ला सकें।

इस अवसर पर डीयूएसआइबी के मुख्य कार्याधिकारी वीके जैन ने कहा कि ठंड के दौरान रैन बसेरों में इस्तेमाल के लिए 33 हजार कंबलों, 14 हजार दरी और जूट की 11,500 चटाइयों की व्यवस्था की गई है। इसके अलावा 27,500 से अधिक कंबल स्टॉक में हैं। उन्होंने कहा कि रैन बसेरों का रखरखाव अच्छी तरह से किया गया है। इनमें पेयजल और शौचालय जैसी सुविधाओं पर विशेष ध्यान दिया गया है। जैन ने कहा कि हम रैन बसेरों के रखरखाव की 24 घंटे निगरानी सुनिश्चित करेंगे और 20 टीमें राहत कार्य को अंजाम देंगी। रैन बसेरों से संबंधित ऐप को 8826400500 नंबर डायल कर डाउनलोड किया जा सकता है।

 

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 नौकरी दिलाने के बहाने मासूमों से अपराध करवा रही नानी, सुधार गृह से फर्जी कागजों से छुड़ाकर
2 जनलोकपाल बिल पास, पर AAP सरकार के विधायकों का भविष्य अधर में?
3 मोहन भागवत को सपा नेता ने दी खुली चुनौती, कहा- दम है तो अयोध्‍या में एक ईंट रखकर दिखाएं
ये पढ़ा क्या?
X