ताज़ा खबर
 

अरुण जेटली का कांग्रेस पर तंज, कहा- सुप्रीम कोर्ट झूठा, CAG झूठा लेकिन सिर्फ राहुल सच्चे

राफेल मुद्दे पर केन्द्रीय मंत्री अरुण जेटली ने आज (बुधवार) राज्यसभा में CAG रिपोर्ट पेश होने के बाद विपक्ष पर जोरदार हमला किया।

अरुण जेटली, फोटो सोर्स- ANI

राफेल मुद्दे पर केन्द्रीय मंत्री अरुण जेटली ने आज (बुधवार) राज्यसभा में CAG रिपोर्ट पेश होने के बाद विपक्ष पर जोरदार हमला किया। रिपोर्ट पेश होने के बाद जेटली ने ट्वीट किया और लिखा सत्यमेव जयते। सत्य की जीत हुई, महाझूठबंधन का पर्दाफाश हो गया। इसके साथ ही जेटली ने 1989 का एक जिक्र करते हुए कहा कि सेंट किट्स मुद्दे पर वीपी सिंह के खिलाफ भी ऐसा ही हुआ था।

सब झूठे विपक्ष सच्चा: दरअसल न्यूज एंजेसी एएनआई से बातचीत के दौरान जेटली ने तीखा हमला करते हुए कहा कि विपक्ष सुप्रीम कोर्ट को झुठला रहा है, CAG को झुठला रहा है और सिर्फ खुद को सच्चा साबित करने पर तुला हुआ है। राहुल हर बार राफेल का मुद्दा उठा रहे हैं और आरोप लगा रहे हैं कि यूपीए सरकार ने जो डील की थी उससे महंगी कीमत पर एनडीए सरकार ने विमान खरीदे हैं। उन्होंने कहा कि दोनों डील का अंतर देखें तो ही पता लग पाएगा कि 2007 के मुकाबले 2017 में कम कीमत, जल्दी डिलिवरी और बेहतर मेंटेनेंस वाली डील फाइनल हुई है। वहीं जेटली ने कहा कि राहुल जो डाटा और स्टेट्स दिखा रहे हैं वो कही हैं ही नहीं। वो डाटा के नाम पर देश को झूठ बेच रहे हैं।

राफेल है भारतीय वायुसेना की जरुरत: जेटली ने कहा कि एक तरफ जहां हमारी वायुसेना अपडेट होने की जरुरत जाहिर कर रही है तो वहीं दूसरी ओर देश के ही कुछ लोग इस डील में अड़ंगा डाल रहे हैं। इस डील को रोके जाने की बिलकुल भी जरुरत नहीं है। ये (राफेल) एक बेहतरीन लड़ाकू विमान है जिसकी हमारी सेना का जरुरत है।

CAG रिपोर्ट ने दिया सबूत: जेटली ने कैग रिपोर्ट का जिक्र करते हुए कहा कि उसमें मेंशन किया गया है कि ये डील 2007 डील से सस्ती है। हालांकि इस सस्ते को सिर्फ एक पैमाने से ही नहीं मांपा जा सकता है। इस डील में हथियारों की पैकिंग पिछली डील से बेहतर तुलना के मुताबिक है। इसके साथ ही 2007 में एक्केलेशन क्लॉज 3.5 प्रतिशत था जबकि इस बार ये 1.2 प्रतिशत है। इसके साथ ही जब 2019 में विमान आना शुरू होंगे तब इस एस्केलेशन कीमत का अंतर और अधिक बढ़ जाएगा। यह सौदा बेहतर रखरखाव प्रावधान, सख्त वितरण कार्यक्रम, और तेजी से बातचीत को मजबूर करता है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App