scorecardresearch

हमले के लिए सर्वे कर रहा था जैश का संदिग्ध आतंकी नदीम, पाक में बैठे हैंडलर्स से था संपर्क में, यूपी एडीजी ने किए और भी कई खुलासे

ADG कानून-व्यवस्था प्रशांत कुमार ने बताया कि 2018 में नदीम का पाकिस्तान के आतंकवादी हकीमुल्लाह से ऑनलाइन प्लेटफॉर्म पर परिचय हुआ।

हमले के लिए सर्वे कर रहा था जैश का संदिग्ध आतंकी नदीम, पाक में बैठे हैंडलर्स से था संपर्क में, यूपी एडीजी ने किए और भी कई खुलासे
यूपी के एडीजी (कानून-व्यवस्था) प्रशांत कुमार (फोटो सोर्स: ANI)

यूपी के एडीजी (कानून-व्यवस्था) प्रशांत कुमार ने बताया कि ATS ने संदिग्ध आतंकी मो. नदीम को सहारनपुर से गिरफ्तार किया है। ये जैश-ए-मोहम्मद नामक आतंकी संगठन का सदस्य है। इसका उद्देश्य विभिन्न जगहों पर आतंकवादी घटना को अंजाम देने की थी। ये विभिन्न प्रकार के ऑनलाइन प्लेटफॉर्म से जुड़ा था, जिससे वह आतंकवादी घटना को अंजाम दे सके।

ADG कानून-व्यवस्था प्रशांत कुमार ने बताया कि 2018 में नदीम पाकिस्तान के आतंकवादी हकीमुल्लाह से ऑनलाइन प्लेटफॉर्म पर परिचय हुआ। हकीमुल्लाह ने इसका परिचय सैफुल्लाह से करवाया। सैफुल्लाह ने उसका कई पाकिस्तान, बांग्लादेश, UAE में स्थित कट्टरपंथी तत्वों से परिचय करवाया। उसने ही सोशल मीडिया के जरिए नदीम को जिहादी लिटरेचर उपलब्ध कराया था। नूपुर शर्मा हमले के बारे में पूछने पर एडीजी ने कहा कि नदीम ने कई टारगेट तय किए थे और उनके लिए सर्वे भी कर रहा था।

प्रशांत कुमार ने कहा कि नदीम की फेक जी मेल, वर्चुअल आईडी, टेलीग्राम आईडी बनाकर पाकिस्तान भेजी गई। इसके अतिरिक्त लोन वुल्फ अटैक करने के लिए नदीम को ट्रेनिंग भी दी गई। इसके लिए नदीम द्वारा कुछ टारगेट भी चिह्नित किए गए थे।

मार्च 2019 में जैश-ए-मोहम्मद का टॉप कमांडर आया था सहारनपुर

बता दें कि मार्च 2019 में पाकिस्तान के आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्मद का टॉप कमांडर सहारनपुर आया था, यह खुलासा सहारनपुर के देवबंद से गिरफ्तार जैश के संदिग्ध आतंकी शाहनवाज तेली और आकिब अहमद मलिक की गिरफ्तारी के बाद हुआ था, दोनों ने एटीएस को पूछताछ में बताया है कि टॉप कमांडर देवबंद में रुकने के अलावा यूपी के कुछ प्रमुख शहरों में भी गया और वहां कुछ लोगों से मुलाकात भी की।

यूपी एटीएस को उस वक़्त ये आशंका थी कि राज्य में किसी बड़े आतंकी हमले की तैयारी को लेकर यह सारी कवायद की गई है, उस वक़्त कमांडर ने मुहम्मद नदीम से भी मुलाकात की थी।

वहीं मोहम्मद नदीम के मोबाइल से एटीएस को एक पीडीएफ डॉक्यूमेंट मिला है, एक्सप्लोसिव कोर्स फिदाई फोर्स नाम से इस डॉक्यूमेंट में बम बनाने के बारे में जानकारी दी गई है। जैश-ए-मोहम्मद और तहरीक-ए-तालिबान के आतंकियों से चैटिंग और वॉइस मैसेज भी मिले।

पढें राज्य (Rajya News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट