ताज़ा खबर
 

वंदे भारत एक्सप्रेस में फिर गड़बड़ी, अब फर्स्ट क्लास कोच के दरवाजे का ऑटोमैटिक सिस्टम हुआ फेल

मंगलवार को कानपुर से दिल्ली आ रही वंदे भारत एक्सप्रेस के फर्स्ट क्लास कोच के दरवाजे का ऑटोमैटिक सिस्टम खराब हो गया। इससे मुसाफिरों को परेशानी का सामना करना पड़ा।

Author Updated: February 26, 2019 10:58 PM
वंदे भारत एक्सप्रेस। फोटो सोर्स : फाइनेंसियल एक्सप्रेस

वंदे भारत एक्सप्रेस (ट्रेन-18) में एक बार फिर गड़बड़ी सामने आई है। अब इस सेमी हाईस्पीड ट्रेन के फर्स्ट क्लास कोच के दरवाजे का ऑटोमैटिक सिस्टम खराब हो गया। यह गड़बड़ी मंगलवार (26 फरवरी) को कानपुर से दिल्ली आ रही ट्रेन में हुई। इससे मुसाफिरों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ा। उनका कहना था कि वंदे भारत को देश की सबसे बेहतरीन ट्रेन बताया जा रहा है, लेकिन इसमें भी रोजाना कोई न कोई तकनीकी दिक्कत आ जाती है। इसके अलावा ट्रेन के लेट होने की समस्या भी बरकरार है।

यह है मामला : वंदे भारत एक्सप्रेस में कानपुर से दिल्ली आ रहे गौरव पांडे ने जनसत्ता को बताया, ‘‘मेरा टिकट ट्रेन के ई2 कोच में है। कानपुर से ही ट्रेन के ऑटोमैटिक दरवाजे में गड़बड़ी थी, जिससे मुसाफिरों को कोच में जाते वक्त परेशानी हुई। गेट को मैनुअली खोलना पड़ रहा था और बार-बार उसे बंद करने जाना पड़ता था। ऐसे में मुसाफिरों को टॉयलेट की बदबू से भी रूबरू होना पड़ा। ऐसा लग रहा था कि हम किसी खास ट्रेन में नहीं, साधारण कोच में बैठे हुए हैं।’’

कोच का प्लेसमेंट भी गलत : गौरव ने बताया कि वंदे भारत एक्सप्रेस में एग्जिक्यूटिव क्लास के कोच का प्लेसमेंट भी गलत तरीके से किया गया है। इस कोच को चेयर कार वाले डिब्बों के बीच में लगाया गया है। पूरे सफर के दौरान आने-जाने वालों का सिलसिला लगा रहता है। ऐसे में ऑटोमैटिक डोर खराब होने के कारण काफी दिक्कत हुई।

मेंटिनेंस मैनेजर ने भी खड़े किए हाथ : मुसाफिरों के मुताबिक, उन्होंने मामले की जानकारी ट्रेन में मौजूद मेंटिनेंस मैनेजर को दी, लेकिन उन्होंने कुछ भी करने से इनकार कर दिया। मैनेजर से अनुरोध किया गया कि किसी कर्मचारी को गेट के पास खड़ा कर दिया जाए, जिससे वह गेट को बंद कर सके, लेकिन उन्होंने इनकार कर दिया।

रेलवे के पोर्टल पर की शिकायत : गौरव ने मामले ने अपनी शिकायत रेलवे के पोर्टल ट्रेन मीडिया पर भी दर्ज कराई है। उनका कहना था कि जब देश की सबसे बेहतरीन ट्रेन का ऐसा हाल है तो साधारण ट्रेनों का तो भगवान ही मालिक है। बता दें कि ट्रेन-18 के नाम से मशहूर वंदे भारत एक्सप्रेस में पहले भी तकनीकी समस्या आ चुकी है। अपने पहले कमर्शियल रन से एक दिन पूर्व ट्रेन के ब्रेक जाम हो गए थे और यह कई घंटे तक टूंडला स्टेशन पर खड़ी रही थी।

यह है ट्रेन की खासियत : बता दें कि वंदे भारत एक्सप्रेस 180 किमी प्रति घंटा की रफ्तार से चल सकती है, लेकिन कुछ कारणों से इसे सिर्फ 130 किमी प्रति घंटा की रफ्तार से ही चलाया जा रहा है। वहीं, ट्रेन की कैटरिंग में फाइव स्टोर होटलों के खाने की व्यवस्था है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 IAF Strike और Pulwama Attack के बीच बाबा रामदेव बोले, ‘जम्मू-कश्मीर से हटाओ आर्टिकल 370 और 35-A
2 IAF Strike: भारत की एयर स्ट्राइक के बाद क्या कर सकता है पाकिस्तान? ये हैं उसके पास विकल्प
3 बिहार के शेल्टर होम फिर सवालों के घेरे में, लड़कियां बोलीं- दम घोंटने वाला है माहौल, जेल जैसा लगता है